Home »Rajasthan »Sawai Madhopur Zila »Gangapur » एसआई भर्ती : पहले कम उम्र बनी बाधा, अब हो गए ओवरएज

एसआई भर्ती : पहले कम उम्र बनी बाधा, अब हो गए ओवरएज

Bhaskar News Network | Oct 19, 2016, 02:35 AM IST

कार्यालय संवाददाता| गंगापुर सिटी

आरपीएससीकी ओर से छह साल बाद निकाली गई पुलिस उप निरीक्षक (एसआई) भर्ती परीक्षा में सामान्य वर्ग के पद कम होने और आयु सीमा में छूट नहीं मिलने के कारण सामान्य वर्ग के करीब 20 हजार अभ्यर्थी आयु सीमा अधिक होने से दौड़ से बाहर हो गए हैं। एसआई भर्ती में 2010 में कम आयु के कारण जो अपात्र थे वे अब ज्यादा उम्र के कारण बाहर हो गए हैं। ऐसे में यह भर्ती कोर्ट में भी अटक सकती है।

एसआई भर्ती के लिए राज्य सरकार ने आयु सीमा एक जनवरी 2017 को न्यूनतम 20 वर्ष और अधिकतम 25 वर्ष तय की है। ऐसे में 2010 में भर्ती के समय जो सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी 20 वर्ष से कम आयु के कारण अपात्र थे, वे अब 2016 में भर्ती निकलने पर 25 वर्ष से अधिक उम्र होने के कारण अपात्र रहेंगे जबकि आयु सीमा में प्रदेश के एससी, एसटी, ओबीसी के पुरुष और सामान्य महिला को पांच वर्ष की छूट दी गई है। उप निरीक्षक आर्म पुलिस में 147 पदों में सामान्य के सिर्फ 28 पद हैं। उप निरीक्षक आईबी के 65 पदों में से सामान्य के 7 पद हैं। उप निरीक्षक आरएएसी के 105 में से सामान्य के 57 पद हैं और उप निरीक्षक एमबीसी के 4 में से एक पद सामान्य का है।

स्कूल लेक्चरर : एक सप्ताह बाद भी अंतिम उत्तर कुंजी जारी नहीं कर पाया आयोग

स्कूललेक्चरर प्रतियोगी परीक्षा 2015 के सभी 13 हजार 98 पदों के परिणाम जारी हुए एक सप्ताह से अधिक समय हो गया लेकिन आरपीएससी अभी तक अंतिम उत्तर कुंजी जारी नहीं कर सका है। इस उत्तर कुंजी का प्रदेश के 3.5 लाख से अधिक अभ्यर्थी इंतजार कर रहे हैं। दूसरी ओर आयोग का कहना है कि यूपीएससी की तर्ज पर पूरा प्रोसेस होने के बाद फाइनल आंसर की जारी की जा सकेगी। आयोग अध्यक्ष डॉ. ललित के पंवार ने आरएएस प्री 2016 का परिणाम 17 दिन में घोषित कर इतिहास रचने का दावा किया था।

पहले 34 हजार पदों के लिए भरवाए थे आवेदन : इसभर्ती से पहले भी विद्यार्थी मित्रों के लिए कांग्रेस सरकार ने साल 2013 में शिक्षा सहायक का पद सृजित कर भर्ती की कवायद शुरू की थी और करीब 34 हजार पदों के लिए आवेदन पत्र भरवा लिए थे। कानूनी पेचीदगियां बढने से भर्ती रद्द कर दी गई। इसके बाद सरकार ने एक बार फिर नए सिरे से साल 2015 में विद्यालय सहायक का पद सृजित कर भर्ती प्रक्रिया शुरू की लेकिन यह भी कोर्ट में अटक गई।

विद्यार्थी मित्र: पहले की दो भर्तियां पूरी नहीं की, तीसरी की तैयारी

सरकारीस्कूलों में संविदा पर लगे विद्यार्थी मित्रों को हटाए ढाई साल हो चुके हैं लेकिन सरकार इन्हें वापस सेवा में लेने का कोई ठोस उपाय नहीं निकाल सकी है। विद्यार्थी मित्रों को फिर से सरकारी सेवा में लेने के लिए सरकार ने दो भर्तियां शुरू की थीं और दोनों ही पूरी नहीं हो सकी। ये विद्यार्थी मित्र अब आंदोलन कर रहे हैं। अब सरकार तीसरी बार नई भर्ती शुरू करने की तैयारी में है।

पूर्व सैनिक: 40 फीसदी अंक की अनिवार्यता ने बढ़ाई मुश्किल

एसआई,ग्राम सेवक और प्रयोगशाला सहायक की भर्ती में पास होने के ्लिए 40 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य किया गया है। इसमें पूर्व सैनिक भी शामिल हैं। यदि भूतपूर्व सैनिक भी 40 प्रतिशत अंक प्राप्त नहीं करते हैं तो उनके आरक्षित पद सामान्य वर्ग में दे दिए जाएंगे। पूर्व सैनिक सवाल उठा रहे हैं कि सरकार 40 प्रतिशत अनिवार्यता की दीवार बनाकर सैनिकों को दिए गए आरक्षण को भी हड़पना चाहती है।

छह साल पुरानी वैकेंसी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: एसआई भर्ती : पहले कम उम्र बनी बाधा, अब हो गए ओवरएज
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From Gangapur

      Trending Now

      Top