Home »Rajasthan »Nagour Zila »Ladnu » विद्यार्थियों का भय दूर कर भरोसा पैदा करें विवि: प्रो. बिजारनियां

विद्यार्थियों का भय दूर कर भरोसा पैदा करें विवि: प्रो. बिजारनियां

Bhaskar News Network | Mar 21, 2017, 05:25 IST

विद्यार्थियों का भय दूर कर भरोसा पैदा करें विवि: प्रो. बिजारनियां
जैनविश्वभारती विश्वविद्यालय के 27वें स्थापना दिवस समारोह के अवसर पर बोलते हुये महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय बीकानेर के कुलपति प्रो.भागीरथ सिंह बिजानिया ने कहा कि कार्य का जोखिम, भविष्य की अनिश्चितता डेड लाइन पर काम करने की प्रतिबद्धता से व्यक्ति में भय उत्पन्न होता है। इस भय को विश्वविद्यालयों को विद्यार्थियों में दूर करने के लिये प्रयास करने चाहिए।

उन्होंने इस भय को दूर करने के लिये अपने आप पर भरोसा पैदा करने, ज्ञान हासिल करने आचरण को नैतिक बनाने की आवश्यकता बताई। प्रो. बिजानिया ने यह भी कहा कि परिस्थितियों के कारण व्यक्ति के व्यवहार में बदलाव आता है, तो उसका दोष उसके आचरण को नहीं देना चाहिए , लेकिन ऐसा बदला हुआ आचरण कभी स्थाई नहीं होता है।

उन्होंने चरित्र निर्माण एवं मानवता के लिये निवेश करने की आवश्यकता बताते हुए कहा कि देश में मूल्यों का जो अवमूल्यन हो रहा है, उसके लिये विश्वविद्यालयों को काम करना होगा। उन्होंने विद्यार्थियों से समय-प्रबंध की आवश्यकता बताते हुए कहा कि समय सबसे ज्यादा मूल्यवान होता है और जिसने समय का प्रबंधन करना सीख लिया तो वह ऊंचाइयों तक पहुंच सकता है। मुख्य वक्ता हिमाचल प्रदेश केन्द्रीय विश्वविद्यालय धर्मशाला के कुलपति प्रो. कुलदीप चन्द्र अग्निहोत्री ने कहा कि इस देश में तक्षशिला, विक्रमशिला आदि विश्वविद्यालय उस समय थे, जब पूरे विश्व में कहीं भी इस बारे में कोई सोच तक नहीं थी। उन्होंने प्राचीन परम्परा के पुनरुत्थान की आवश्यकता बताई।

संस्कृतिसे जुड़े रहकर करेंगे चुनौतियों का मुकाबला

जैविभाविश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बच्छराज दूगड़ ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए स्थापना दिवस को संस्थान के आकलन का दिवस बताया तथा कहा कि हम कहां तक आगे बढ़े हैं। यहां व्यक्तित्व निर्माण के लिये केवल विद्यार्थियों को ही नहीं समाज देश को मार्गदर्शन प्रदान करने वाला और अध्यात्म विज्ञान के समन्वय की दिशा में आगे बढ़ने वाला बनाने के लिये हम सबका प्रयास निरंतर रहना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि यहां के विद्यार्थी सहिष्णु है और उनका यह सहिष्णुता का गुण सदैव बना रहना चाहिए उन्होंने कहा कि यह संस्था का 27वां जन्मदिन है और इस अवसर पर मातृ संस्था जैन विश्व भारती ने विश्वविद्यालय को 20 लाख रुपए का चैक का उपहार दिया है।

जहांचरित्र निर्माण हो, वहां पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ता

मुनिस्वस्तिक कुमार ने कहा कि इस संस्थान का उद्देश्य नैतिक मूल्यों का विकास चरित्र का निर्माण है। जहां चरित्र का निर्माण होता है, उसे कभी भी पीछे मुड़कर देखने की आवश्यकता नहीं होती। उन्होंने विश्वविद्यालय के लिये शुभाशीष प्रदान करते हुए कहा कि आचार्य तुलसी ने जो लक्ष्य दिया था, वैसा ही विकास विश्वविद्यालय द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने इस अवसर पर विद्यार्थियों को अच्छा इंसान बनने और समाज के लिए काम करने का संदेश भी दिया। जैन विश्व भारती के अध्यक्ष रमेश चंद बोहरा पूर्व अध्यक्ष डा. धर्मचंद लूंकड़ ने विश्वविद्यालय की उन्नति के लिये भावना व्यक्त की। समणी नियोजिका समणी ऋजुप्रज्ञा ने भी विचार व्यक्त किए। कुलसचिव विनोद कुमार कक्कड़, डा. जुगल किशोर दाधीच ने भी विचार व्यक्त किए।

लाडनूं. समारोह में सम्बोधित करते हुये महाराजा गंगा सिंह।

आयोजन

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: विद्यार्थियों का भय दूर कर भरोसा पैदा करें विवि: प्रो. बिजारनियां
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Ladnu

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top