Home »Rajasthan »Ajmer» PICS: English Babu Desi Mem Happened To Love, Made ​​History In The Country!

PICS: इंग्लिश मेम से हुआ देशी बाबू को प्यार, देश में आ रचा इतिहास!

राजेंद्र बतरा | Dec 28, 2012, 01:23 IST

  • आठ एलएनपी (श्रीगंगानगर).एक विवाह ऐसा भी। आठ एलएनपी में अनोखा विवाह समारोह। दूल्हा देशी तो दुलहन विदेशी। गांव में बुधवार को मानो दिवाली मनाई जा रही थी। हर ओर जश्न का माहौल। हो भी क्यों ना, अमेरिका के पोर्टलैंड शहर की विक्टोरिया रोजर्स अब विक्टोरिया बेनीवाल बनने जा रही थीं। गौरी मेम के हाथों में मेहंदी हो या स्टेज पर जयमाला।
    वर-वधू के परिजनों की मिलनी हो या फेरों के दौरान जूते छिपाई, सब रस्मों और परंपराओं में विक्टोरिया के परिजन डूबे नजर आए और इस अनोखे विवाह का गवाह बना पूरा गांव।
    आगे की स्लाइड्स में देखिए इस अनोखी शादी तस्वीरें और पढ़िए कैसे परवान चढ़ा दोनों का प्यार >>>
    फोटो: राकेश वर्मा

  • समारोह की शुरुआत बुधवार सुबह हुई। सुबह गांव के लोगों को पता लगा कि उनकी होने वाली बहू गांव में अपने अस्थायी मायके आ रही है तो सब उसका स्वागत करने पहुंच गए।

  • जैसे ही विक्टोरिया अपने परिजनों के साथ गांव में पहुंची, सब उसे आशीर्वाद देने उमड़ पड़े। विक्टोरिया ने पति जितेश बेनीवाल के साथ गांव की हर महिला को ‘नमस्ते’ कहा तो जवाब में ग्रामीणों ने भी उसके सिर पर हाथ फेरकर आशीर्वाद दिया।
    फिर शुरू हुआ रस्मों का सिलसिला।
  • महिलाओं के मंगल-गीतों के बीच पहले विक्टोरिया के हाथों-पैरों पर मेहंदी लगाई गई। इसके बाद वर पक्ष के यहां हल्दी-हाथ व भात की रस्म निभाई गई। सास-ससुर ने अपनी होने वाली बहू के लिए जयपुर से मंगाया लहंगा-चुनरी भी भेजा।

  • रात साढ़े आठ बजे वर पक्ष के लोग बैंड-बाजे के साथ बरात लेकर विक्टोरिया के घर पहुंचे, जहां मिलनी, जयमाला व अन्य रस्में हुई।रात को अग्नि के समक्ष फेरे हुए, जिनमें विक्टोरिया के माता-पिता फ्रान व चार्ल्स रोजर्स ने विक्टोरिया का कन्यादान किया।

  • जितेश व विक्टोरिया ने ‘भास्कर’ को बताया कि उनकी मुलाकात न्यूयार्क यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान हुई थी। वहीं दोस्ती और प्यार हुआ और दोनों परिवारों की सहमति के बाद वर्ष-2011 में अमेरिका में शादी हो गई।

  • विक्टोरिया के मुताबिक, उसने भारत में होने वाले विवाहों में रस्मों के बारे में सुना था। इसे नजदीक से देखना व जानना चाहती थी, इसलिए यहां हिंदु रीति-रिवाज से शादी करना तय किया।

  • 'गांव में यह पहला मौका है, जब यहां का बेटा विदेशी बेटी के साथ ब्याहा है। हमें खुशी है कि अमेरिकी लोगों ने हमारे गांव का आतिथ्य स्वीकारा। हमने भी नई-नवेली बहू को खूब आशीर्वाद दिया।'
    लूणाराम सिंवर, आठ एलएनपी।
  • 'पूरे गांव ने इस शादी का खूब आनंद लिया। विदेशी मेहमानों ने भारतीय रिवाजों व खान-पान को तो सराहा ही, हमें भी उनके संस्कारों व रीति-रिवाजों का जानने का मौका मिला।'
    डॉ.सरजीत बेनीवाल, आठ एलएनपी।
  • पैर छूकर आशीर्वाद लिया तो बड़े खुश हुए
    विक्टोरिया ने भारतीय परंपरा के अनुसार अपने से बड़ों के पांव छुए तो ग्रामीण महिलाओं ने भी उसे खूब लाड दिया। साथ में है उसका पति जितेश।
  • गांव में ही ‘मायका’ यहीं ‘ससुराल’
    कहने को तो विक्टोरिया का मायका व ससुराल दोनों अमेरिका में ही हैं लेकिन परिवार ने शादी की रस्में निभाने के लिए गांव में ही मायका बनाया और यहीं ससुराल। लड़के के ताऊ व पूर्व विधायक हेतराम बेनीवाल ने बताया कि परिवार के पैतृक मकान को ससुराल का रूप दिया गया, जबकि भाई हनुमान बेनीवाल के घर में मायका।
  • बुधवार रात इसी घर में वर पक्ष बरात लेकर गया और वहीं फेरे व विदाई की रस्में हुई। हिंदुस्तानी परंपरा के अनुसार विक्टोरिया फैमिली ने घर आए बरातियों को गिफ्ट देकर उनका सत्कार भी किया।

  • रत्नांजलि ने निभाई दुभाषिए की भूमिका
    शादी से पहले बेनीवाल परिवार को यह चिंता थी कि विक्टोरिया व गांव वाले एक-दूसरे की बात कैसे समझेंगे और कैसे उन्हें भारतीय संस्कारों के बारे में बताएंगे लेकिन उनकी यह चिंता दूर की रत्नांजलि ने।
  • जितेश की बहन रत्नांजलि ने शादी की एक-एक रस्म को विक्टोरिया व उसके परिवार तथा यहां गांव वालों को बखूबी समझाया। इतना ही नहीं, रत्नांजलि ने अपनी भाभी को ‘नमस्ते’,‘शुक्रिया’ व ‘धन्यवाद’ बोलना भी सिखा दिया। गांव के लोगों ने अमेरिका से आए मेहमानों के साथ फोटो भी खिंचाए।

  • विदेशी है, देशी बना दूंगी: शोरमा
    जितेश के माता-पिता शोरमा-रामकुमार बेनीवाल भी विदेशी पुत्रवधू पाकर बहुत खुश नजर आए। शोरमा का कहना था कि बहू भले ही विदेशी है लेकिन वह जल्द ही उसे देशी बना देंगी।
    भारतीय कपड़े उसने पहनने शुरू कर दिए हैं। अब जल्द ही हिंदी बोलना व भारतीय खाना भी बनाना सिखा दूंगी। इंजीनियर रामकुमार ने बताया कि वर्ष 1970 में उन्होंने भारत छोड़ा था, तब से हर दो साल में गांव आते हैं और लगातार अपनी मिट्टी से जुड़े रहते हैं। प्रयास रहेगा कि बेटे-बहू को भी वे भारत भेजते रहें।
  • कलेक्टर से ली अनुमति
    शादी के लिए भारत आए रोजर्स परिवार ने सीमावर्ती इलाके श्रीगंगानगर में रहने के लिए कलेक्टर से अनुमति ली है। यह परिवार पदमपुर मार्ग स्थित एक होटल में रुका है और 30 दिसंबर तक यहीं रहेगा। उल्लेखनीय है कि बॉर्डर इलाका होने के कारण श्रीगंगानगर में विदेशी मेहमानों को प्रशासन से अनुमति लेनी पड़ती है।
    आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>
  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • आगे की स्लाइड में इस देखिए इस अनोखी शादी की तस्वीर>>>

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: PICS: English Babu Desi Mem happened to love, made ​​history in the country!
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Ajmer

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top