Home »Rajasthan »Udaipur» इंटरनेटबंदी प्रशासन-सरकार का फेल्योर और तानाशाह रवैया

इंटरनेटबंदी प्रशासन-सरकार का फेल्योर और तानाशाह रवैया

Bhaskar News Network | Apr 21, 2017, 07:40 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
इंटरनेटबंदी प्रशासन-सरकार का फेल्योर और तानाशाह रवैया
अंतिम दिन भटकते रहे प्राइवेट स्कूल संचालक

उदयपुर | शहरमें इंटरनेट बंद होने से स्कूल संचालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। प्राइवेट स्कूलों को मान्यता के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 20 अप्रैल थी। लेकिन पिछले दो दिन से उदयपुर में इंटरनेट पूरी तरह से बंद है। ऐसे में आवेदन करने के अंतिम दो दिन इंटरनेट की व्यवस्था नहीं होने के चलते संचालक आवेदन नहीं कर पा रहे हैं। कुछ संचालक आवेदन करने से वंचित भी रह गए हैं। वहीं कुछ संचालक उदयपुर शहर से बाहर जाकर आवेदन कर रहे हैं। आवेदन प्रक्रिया के तहत 20 अप्रैल तक स्कूल संचालकों को आवेदन कर 25 अप्रैल तक आवेदन की हार्ड कॉपी संबंधित जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में जमा करानी थी। जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक शिवजी गौड़ ने बताया कि यह सामान्य समस्या है और बीकानेर निदेशालय से इस बारे में चर्चा कर तिथि आगे बढ़ाने के प्रयास करेंगे।

इंटरनेट बंद होने से केश पेमेंट करता ग्राहक।

^बैंक के ऑनलाइन काम नहीं हो रहे। नेफ्ट और आरटीजीएस पूरी तरह से ठप है। ऐसा होने से ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए उपभोक्ता एक से दूसरे बैंक में पैसा ट्रांसफर नहीं कर पा रहे हैं। पीएसखींची, एसबीआई स्टाफ फैडरेशन काउंसिल मेम्बर

^जमीनोंसे जुड़े ऑनलाइन काम थम गए। 90ए कन्वर्जन, नक्शे पास नहीं हो रहे। ना ही सामुदायिक केन्द्र की बुकिंग कर पा रहे हैं। रविन्द्रश्रीमाली, चेयरमैन, यूआईटी

^ये कलेक्टर का तानाशाही रवैया है, ऐसे क्राइम रुकता है क्याω पारससिंघवी, अध्यक्ष,उदयपुर चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री

^एकदोषी पकड़ने के लिए लाखों लोगों को सजा मिल रही है। ये प्रशासन और सरकार का फेल्योर है। बिना लीज लाइन वाली करीब 95% इंडस्ट्रीज है इनमें काम पूरी तरह ठप हो गया। हंसराजचौधरी, कार्यवाहक अध्यक्ष, यूसीसीआई

^मेरे11 ऑफिस है, सभी की एक जगह से ऑनलाइन मॉनिटरिंग नहीं कर पा रहा। ऑनलाइन ऑडिट टेंडर में आवेदन की तिथि भी निकल गई। टीडीएस डिफॉल्ट दूर करने का काम रुक गया। देवेन्द्रकुमार सोमानी, सीए

^शहरकी जनता परेशान है और सरकार-प्रशासन मस्त है। ऐसे फरमान जनता के खिलाफ हैं। इन्हें लेने से पहले इससे प्रभावित होने वाले वर्ग के बारे में एक बार सोचना चाहिए था। सरकार भी चुप है। गोपालशर्मा, अध्यक्ष, शहर कांग्रेस

^प्रशासनइंटरनेट से डरे नहीं। ऐसे मामलों में जागरूकता बढ़ाने का संदेश दें। एेसे निर्णय से स्मार्ट सिटी डेट सिटी हो गया। टूरिस्ट इंडस्ट्री तबाह हो गई है। हरीशसुहालका, संयोजक, करप्शन फ्री इंडिया

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: इंटरनेटबंदी प्रशासन-सरकार का फेल्योर और तानाशाह रवैया
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Udaipur

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top