Home »Rajasthan »Udaipur » पति ने कहा- मैं कॉलेज गया था, तब पत्नी कोचिंग से लौटी नहीं थी

पति ने कहा- मैं कॉलेज गया था, तब पत्नी कोचिंग से लौटी नहीं थी

Bhaskar News Network | Dec 02, 2016, 07:50 AM IST

बच्चों काे पता ही नहीं कि मां मर चुकी है

फ्लैट में टीवी की आवाज तेज कर की थी हत्या, ताकि पड़ोसियों को भी पता चले

फ्लैट नं. 702 में रुचिता का मर्डर, फ्लैट नं. 802 से युवक लापता, पत्र में लिखा-इस हत्या से मेरा कोई लिंक नहीं है

गुप्ता की बाताें में विरोधाभास

उलझती जा रही गुत्थी

रुचिता के मोबाइल की तलाश कर रही पुलिस

रुचिता के दोनों बच्चे डीपीएस स्कूल में पढ़ते हैं। बच्चों को किसी अनहोनी का एहसास तो था, लेकिन उन्हें यह पता नहीं था कि उनकी मौत हो चुकी है। रुचिता की मौसी सेक्टर 4 निवासी मोनिका जैन बच्चों को यह कहकर समझा रही थीं कि अभी यहां से हमारे घर चलेंगे, तुम्हारी मम्मी ने कहा है कि बच्चों को खाना खिलाना है। बेटा मौसी से मां के बारे में पूछ रहा था। पुलिस बच्चों को डीपीएस स्कूल से लाई।

प|ीके नाम का फ्लैट बेचकर किराए पर रहने लगा : गुप्ताऔर रुचिता आठवीं मंजिल पर बना फ्लैट खरीदकर यहां रहते थे, यह फ्लैट प|ी के नाम पर था। छह महीने पहले इस फ्लैट को बेचकर कृष्णबल्लभ ने सातवीं मंजिल पर बने फ्लैट 702 को किराए पर लिया।

वकीलोंने आरोपी की गिरफ्तारी की मांग की : रुचिताजैन की मौत की सूचना पर उसकी शादी कराने वाले वकील राजेश जाजोदिया, अरुण जैन, बार एसोसिएशन अध्यक्ष भरत जोशी सहित अन्य वकील मौके पर पहुंचे। उन्होंने अधिकारियों से बात कर रुचिता की हत्या के आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग की।

पुलिस ने बताया कि हत्या के समय महिला रसोई में थी, गैस पर दूध गरम हो रहा था। घटना साढ़े आठ बजे से नौ बजे के बीच की है। आरोपी ने टीवी की आवाज बहुत तेज की। रसोई में खड़ी महिला पर आरोपी ने पीछे से सिर पर पहला वार किया। इससे महिला का चश्मा नीचे गिर गया, चश्में के लैंस पर खून की ड्रॉप गिरी। दोनों के बीच संघर्ष हुआ। महिला बचने के लिए या आरोपी महिला को कमरे में ले गया। संघर्ष में बैडरूम का सामान बिखरा। महिला को आरोपी ने बैड पर पटका और मुंह दबाया। बचने के लिए हुए संघर्ष में महिला के कपड़े भी फटे। फिर आरोपी ने महिला के बाल पकड़ कर सिर चेहरा बैड के पास की दीवार पर पटका। चेहरा और सिर बुरी तरह जख्मी हो गया। महिला निढाल हो गई। महिला का शव घसीटते हुए बैडरूम के पास बने स्टोर रूम में लाकर गेट बंद कर दिया। आरोपी ने साक्ष्य मिटाने के लिए बाथरूम में रखी बाल्टी में भरे पानी से हाथ धोए, वॉशिंग मशीन पर भी खून के निशान हैं। हत्या के बाद टीवी बंद कर आरोपी चला गया। पड़ोसी सूचना पर फ्लैट में पहुंचे तब दूध उबल रहा था, गैस खुली थी।

क्राइम रिपोर्टर | उदयपुर

न्यूभूपालपुरा में अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 702 में महिला रुचिता जैन की हत्या करते समय आरोपी ने टीवी की आवाज तेज कर दी थी, ताकि पड़ोसी दंपती को चीखने की आवाज सुनाई दे। पुलिस को टीवी के रिमोट पर खून के निशान है। आरोपी फरार होते समय टीवी बंद करके गया है। रुचिता के पिता-भाई ने पति पर हत्या का संदेह जताते हुए थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। पोस्टमार्टम शुक्रवार को होगा।

वहीं इस मर्डर मिस्ट्री में देर रात एक नया मोड़ गया। इसी अपार्टमेंट में जहां रुचिता की हत्या हुई है उस फ्लैट के ठीक ऊपर वाले फ्लैट नंबर 802 से देर 23 वर्षीय युवक दिव्य कोठारी पुत्र अरविंद कोठारी लापता है। उसके घर से पुलिस को मिले एक लेटर में दिव्य ने लिखा है कि उसका रुचिता की हत्या से कोई लेना देना नहीं है। मैं परेशान हूं। दिन में पुलिस ने मुझसे पूछताछ की,लेकिन मम्मी पापा मैंने कुछ नहीं किया। देर रात तक उसकी आखिरी लोकेशन बड़ी तालाब के आस-पास पाई गई थी। अपार्टमेंट निवासियों ने बताया कि रुचिता-कृष्ण बल्लभ गुप्ता के फ्लैट के ठीक ऊपर आठवीं मंजिल पर अरविंद कोठारी का फ्लैट है। अरविंद उनके परिवार के साथ रहते हैं। दिव्य ने सुबह साढ़े आठ बजे कृष्ण बल्लभ को अपार्टमेंट से जाते हुए देखा था। ऐसे में रुचिता की हत्या मामले में तफ्तीश कर रही पुलिस ने दिव्य से पूछताछ की थी। इसके बाद दोपहर 2 बजे से दिव्य बिना बताए कहीं चला गया।

रात को घर नहीं लौटा तो परिजनों को चिंता हुई। घर में देखा तो दिव्य का लिखा एक नोट देखकर परिजन घबरा गए। सूचना मिलते ही पुलिस टीमें रात को दिव्य कोठारी की तलाश में निकल गईं। देर रात उसकी बड़ी के पास लोकेशन मिली, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला था।

रुचिता का पति कृष्ण वल्लभ गुप्ता।

{कृष्ण बल्लभ गुप्ता अमूमन कॉलेज नहीं जाता था, वह वारदात वाले दिन ही क्यों गया।

{ गुप्ता ने कहा रुचिता साढ़े सात बजे कोचिंग गई थी,

{ बच्चों ने बताया कि मां ने सुबह टिफिन बनाया था। जबकि गुप्ता ने कहा बच्चों के उठने से पहले रुचिता कोचिंग चली गई थी।

{ साढ़े दस बजे आई बाई हेमा ने बताया वह गेट पर ताला देखकर लौट गई थी, जबकि 11 बजे गुप्ता लौटा तो गेट पर चिटकनी लगी होना बताया।

{ महिला का शव स्टोर रूम में पड़ा था। फ्लैट इतना बड़ा नहीं था कि वह खुद चेक कर सके। लेकिन गुप्ता ने पड़ोसी के बजाए ग्राउंड फ्लोर पर तैनात गार्ड को बुलाया। वह प|ी को ढूंढने खुले पड़े कमरे और बाथरूम में घूमता रहा, शव को स्टोर रूम में गार्ड ने देखा।

{ पति के हाथ के नाखूनों के अंदर खून लगा हुआ है। पुलिस का कहना है कि इस प्रकार से खून बाल्टी में हाथ धोने से ही आता है। नब्ज चेक करने से नहीं।

{ गुप्ता गुस्सैल और हिंसक प्रवृति का है, हर छोटी-छोटी बात पर प|ी से झगड़ा-मारपीट करता था। छह महीने पहले जान से मारने की धमकी भी दी। कुछ साल पहले रुचिता अपने पति गुप्ता, बच्चों के साथ दुबई घूमने गई थी। साथ में भाई भी गया था। गुस्से में पति दोनों बच्चों को छोड़कर गया था, भाई बच्चों को लाया था।

पुलिस के लिए उलझती जा रही गुत्थी

रुचिता की हत्या के बाद दिव्य कोठारी का इस तरह से नोट छोड़ कर जाने से पुलिस के लिए हत्या की गुत्थी उलझ गई है। जहां रुचिता का पति कृष्ण बल्लभ ने पूछताछ में हत्या से कोई जुड़ाव होने से इनकार किया, वहीं दिव्य के गायब होने से मामले ने नया मोड़ ले लिया है।

कुछमहीने पहले आमने-सामने थे फ्लैट : कुछमहीने पहले रुचिता जैन उसका परिवार उनके आठवीं मंजिल स्थित 804 नंबर के फ्लैट में रहते थे। तब दिव्य कोठारी और रुचिता का फ्लैट एक ही फ्लोर पर आमने-सामने ही था। हालांकि बाद में कृष्ण बल्लभ ने फ्लैट बेच कर सातवीं मंजिल का फ्लैट किराए पर ले लिया था।

गुप्ता ने पुलिस को बताया कि रुचिता साढ़े सात बजे घर से कोचिंग गई थीं और जब वह कॉलेज के लिए साढ़े आठ बजे निकला तब तक रुचिता घर नहीं लौटी थी। वहीं लोगों ने बताया कि रुचिता साढ़े आठ बजे अपार्टमेंट की लिफ्ट में उन्हें मिली थीं। उसका मूड भी खराब था। पुलिस जांच कर रही है कि दोनों घर से कब-कब निकले और रुचिता का मोबाइल कहां है।

पति कृष्ण बल्लभ गुप्ता ने बताया कि वह लॉ कॉलेज में एलएलबी फाइनल ईयर का छात्र है। प|ी आरजेएस की कोचिंग कर रही है। प|ी सुबह साढ़े सात बजे कोचिंग के लिए गई। बच्चों को स्कूल के लिए तैयार कर वह भी साढ़े आठ, पौने नौ बजे कॉलेज के लिए निकला। तब तक प|ी लौटी नहीं थी। कॉलेज से पति 11 लौटा तो फ्लैट के गेट की बाहर से चिटकनी लगी थी। अंदर गया तो खून पड़ा था। प|ी फ्लैट में नहीं दिखी। पति ने गार्ड प्रेम बहादुर को ग्राउंड फ्लोर से फ्लैट में बुलाया। पति कमरे और बाथरूम में उसे तलाश रहा था, तभी बहादुर को स्टोर रूम में लाश दिख गई। पति ने महिला की नब्ज चेक की, तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। इसके बाद पुलिस पड़ोसियों को सूचना दी।

उदयपुर. मृतकरुचिता गुप्ता की मौसी (बाएँं) तथा फ्लैट के अंदर पड़ी लाश के पास में विलाप करता उसका भाई।

रुचिता का बेटे और बेटी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: पति ने कहा- मैं कॉलेज गया था, तब पत्नी कोचिंग से लौटी नहीं थी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From Udaipur

      Trending Now

      Top