Home »Rajasthan »Udaipur » सैलरी-डे : किसी को मिली खुशी तो किसी को मायूसी

सैलरी-डे : किसी को मिली खुशी तो किसी को मायूसी

Bhaskar News Network | Dec 02, 2016, 07:50 AM IST

नोटबंदीके 23 दिन बाद गुरुवार को पहले सैलेरी डे पर बैंकों में पेंशनरों की ज्यादा भीड़ रही। कई कर्मचारी दफ्तर से अाधे दिन की छुट्टी लेकर तो कई भोजनावकाश के दौरान जल्दबाजी में बैंक पहुंचे लेकिन अधिकतर शाखाओं में सुबह बैंक खुलने के दो घंटे बाद ही कैश खत्म हो गया। जिससे उन्हें खाली हाथ जाना पड़ा। हालांकि कुछ बैंकों में अधिकतम 24 हजार रुपए निकाल पाने की लिमिट होने के बावजूद 5 से 10 हजार रुपए तक ही मिल पाए। दूसरी ओर कैश नहीं होने के कारण 25 फीसदी एटीएम बंद रहे। जो खुले उनमें से ढाई हजार की नकदी निकाली जा सकी।

सरकारीकर्मचारियों ने की अलग काउंटर की मांग : बैंकोंसरकारी कर्मचारियों ने भी अब अलग से काउंटर लगाने की मांग की है। उनका कहना है कि ऑफिस समय के दौरान पैसा निकालने जाना मुश्किल है। सभी काम अटके हुए हैं।

बैंकपहुंचे तो हो गया लंच, नहीं निकाल पाए पैसे, सारे खर्च पेंडिंग : कलेक्ट्रीमें कार्यरत कर्मचारी पीयूष सुखवाल ने बताया कि बैंक से पैसा निकलवाने पहुंचे। कतार लम्बी थी और लंच टाइम हो गया। फिर वापस लौट गए। घर का सारा खर्च पेंडिंग है।



10 करोड़ रुपए का हुआ भुगतान, 30 करोड़ रिजर्व

लीडबैंक अधिकारी मुकुंद भट्ट ने बताया कि गुरुवार को जिले के सभी शाखाओं में करीब 10 करोड़ रुपए का भुगतान हुआ। शुक्रवार तक सभी शाखाओं में कुल 30 करोड़ रुपए रिजर्व हैं। जिसमें से करीब 12 करोड़ रुपए एटीएम में डाले जाएंगे। बाकी बैंकों से भुगतान किए जाएंगे। कुछ एटीएम में 500 के नोट भी डाले गए हैं। उन्होंने बताया कि पहले दिन ज्यादातर बैंकों में भीड़ कम रही। अलग कतार की वजह से पेंशनर्स ज्यादा संख्या में पहुंचे, लेकिन कर्मचारी पहले दिन कम थे।

पेंशनरों के लिए बैठने की रही व्यवस्था

बैंकोंमें पेंशनरों के लिए अलग से कतारें लगाई गईं। कई जगह उनके बैठने की व्यवस्था भी की गई थी। बता दें कि जिले में कुल 21978 सिविल पेंशनर्स हैं जिन्हें प्रतिमाह 38.70 करोड़ रुपए की पेंशन दी जाती है। इसी तरह शहर में सभी वर्ग के कुल कर्मचारी-अधिकारी 22724 हैं।

आरबीआई की हिदायत : बैंक तक नोट लाने में लापरवाही हुई तो जिम्मेदार होंगे बैंक प्रबंधक

आरबीआईने कर्मचारियों से नए नोट की लूट के मद्देनजर सभी बैंकों को हिदायत दी है कि शाखाओं में नोट लाते वक्त गाइडलाइन की पालना करें वरना संबंधित बैंक प्रबंधक जिम्मेदार होगा। लीड बैंक ने इस संबंध में चेस्ट बैंकों के माध्यम से सभी शाखाओं में ई-मेल किया है। जिसमें बताया कि वे अपने निकटतम पुलिस चौकी से बंदूकधारी जवान को साथ लेकर ही बैंक तक नोट लाने का काम करें। बता दें कि पिछले कई दिनों कैश लूट की रही शिकायतों के बाद आरबीआई ने सख्त गाइडलाइंस जारी किए हैं।

पैसे निकलवाए बिना लौटे घर : चमनपुरामॉडल स्कूल में शिक्षक परमानंद शर्मा भी स्कूल के मध्यांतर में बैंक पहुंचे और लम्बी लाइन होने की वजह से नंबर नहीं आया।

उदयपुर। सैलरी डे के दिन बैंक में पैसे निकालने के लिए लाइन में लगे पुलिस कर्मी।

उदयपुर। एक बैंक में रुपए निकालने के लिए फॉर्म भरते पेंशनर।

कौन सा बैंक पेंशनर्स को कितना करता भुगतान

बैंक:पेंशनर: रुपए

एसबीबीजे:16604 296771177

पीएनबी: 1509 23812021

बीओबी 1004 15719705

एसबीआई: 934 18171713

यूसीओ: 656 10606893

सीबीआई: 528 8550138

यूबीआई: 411 7321849

इलाहबाद: 247 4531923

बीओआई: 70 1273232

ओबीसी: 15 250106

कुल 21978 387008757

उदयपुर जिले में ज्यादातर कर्मचारियों और पेंशनर्स के खाते एसबीआई और एसबीबीजे बैंक में हैं। इसे देखते हुए लीड बैंक ने इन शाखाओं को ज्यादा पैसा मुहैया कराया। जिससे यहां कैश खत्म होने की शिकायत नहीं आई। महाराष्ट्र बैंक, देना बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक और ओरिएंटल बैंक आदि शाखाओं में कैश दोपहर 12 बजे से पहले ही खत्म हो गए जिससे कर्मचारी-पेंशनरों खाली हाथ ही वापस लौटना पड़ा।

पहली तारीख को पेंशनरों की रही भीड़, आज उमड़ सकते कर्मचारी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: सैलरी-डे : किसी को मिली खुशी तो किसी को मायूसी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Udaipur

        Trending Now

        Top