Home »Rajasthan »Udaipur » Elderly Woman Homless By Her Nefew

40 साल भांजों को पाला, बड़े हुए तो 80 साल की मौसी को किया बेघर

bhaskar news | Mar 20, 2017, 07:01 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
40 साल भांजों को पाला, बड़े हुए तो 80 साल की मौसी को किया बेघर
उदयपुर.जिस मौसी ने सगे भांजों को पाल पोषकर बढ़ाया, चलना सिखाया, वृद्ध होने पर उस महिला को भांजों ने सेवा करने की बजाय घर से निकाल दिया। इतना ही नहीं, वृद्धा वापस अपने कमरे तक नहीं जा सके, इसलिए उन्होंने सीढ़ियां और छज्जे भी तोड़ दिए। वृद्धा तीन दिन से घर के बाहर सड़क पर बैठ भांजों से हाथ जोड़कर घर जाने देने और खाना देने की गुहार लगा रही लेकिन उनका दिल नहीं पसीजा।
बेसहारों को सहारा देने की बात करने वाली पुलिस घटनास्थल तो पहुंची लेकिन आरोपियों पर बिना कार्रवाई किए चली गई। मानवता और रिश्ते को कलंकित करने वाली यह घटना है हाथीपोल के चमनपुरा की। कॉलोनीवासियों ने उस परिवार के खिलाफ थाने में रिपोर्ट दी है।
दरअसल चमनपुरा के मॉडल स्कूल के पास केसीबाई (80 वर्ष) उसकी बहन गुलाबी बाई के साथ चालीस साल से रह रही है। गुलाबी बाई के चार बेटे जगदीश, आनंदीलाल, ओम और अनिल की देखभाल केसीबाई ने गुलाबी बाई के साथ मिलकर की। पांच महीने पहले गुलाबी बाई की मौत हो गई। जिसके बाद भांजों ने केसीबाई को घर से अलग कर दिया। वह वहीं दूसरे कमरे में रह खुद ही खाना बनाकर वृद्धावस्था पेंशन से गुजर-बसर कर रही है। चार दिन पहले आनंदीलाल ने केसीबाई को घर से ही निकाल दिया और सीढ़ियां भी तोड़ दीं, ताकि वह कमरे तक न आ सके।
हाथ से खाना खिलाती थी बहना, सोचा ना था भांजे ऐसे करेंगे
वृद्धा केसीबाई ने बताया कि वह चालीस साल से अपनी बहन गुलाबी के घर रह रही है। वो बताती है कि जिंदा रहते उसकी बहन उसे अपने हाथों से खाना खिलाती थी लेकिन बहन की मौत के बाद भांजे परेशान कर रहे हैं। इन लड़कों को 40 साल से अपने हाथों से पाला है, कभी सोचा नहीं था कि ये इस तरह घर से निकाल देंगे। थाने में कई बार शिकायत की लेकिन समाधान नहीं हुआ। वो बिलखते हुए कहती है कि मैं इस कमरे और इस मोहल्ले से बाहर जिंदा नहीं रह पाऊंगी।
कॉलोनीवालों ने थाने में दी रिपोर्ट, प्रशासन वृद्धा को आसरा दे
कॉलोनी के अजहर, अनीषा सहित समाज के अन्य लोगों ने बताया कि थाने में वृद्धा के भांजों के खिलाफ हाथीपोल थाने में रिपोर्ट दी है। बहन के साथ रहने के दौरान कभी कोई समस्या नहीं थी। बहन की मौत के बाद भांजों ने प्रताड़ित करना शुरू कर दिया है। पुलिस प्रशासन से मांग है कि वृद्धा को उसका आश्रय मिलना चाहिए। वहीं वृद्धा के भांजे जगदीश और आनंदीलाल की बेटी अनीता ने बताया कि वृद्धा परेशान करती है, गालियां देती है, इसलिए घर से निकाल दिया है।
वृद्धा को प्रताड़ित करने वालों पर होगी कार्रवाई
वृद्धा के भांजों को पाबंद किया है कि उसके कमरे तक जाने का रास्ता पहले जैसा बनाकर दें। दोबारा जाकर देखेंगे कि रास्ता बनाया या नहीं। वृद्धा को प्रताड़ित करने पर कार्रवाई हो सकती है। वृद्धा अभी घर के बाहर ही बैठी है, वह कहीं और जाने को तैयार नहीं है।
अशोक आंजना, थानाधिकारी, हाथीपोल
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
DBPL T20
Web Title: elderly woman homless by her nefew
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Udaipur

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top