Home »Rajasthan »Udaipur» Since Independence First Time Electricity Comes In Village

यहां इस वजह से टूट जाते हैं शादी के रिश्ते, ऐसी लाइफ जीते हैं लोग

bhaskar news | Mar 04, 2017, 06:48 IST

  • बल्ब की रोशनी में पढ़तीं गिरीजा इन्द्रा।
    उदयपुर.उदयपुर शहर से लगभग 150 किलोमीटर दूर आदिवासी इलाकों के 93 गांवों में आजादी के बाद पहली बार बिजली पहुंची। यहां बल्ब जलने के साथ ही शाम ढलते ही अंधेरे में डूब जाने वाले सैकड़ों घर रोशन हुए। बिजली नहीं होने के कारण इन गांवों में शादी के रिश्ते भी बनते-बनते अक्सर टूट जाते थे। मोबाइल चार्ज करने के लिए 10 से 15 किलोमीटर दूर तक जाना पड़ता था।93 गांवों में बिजली पहुंची...
    - हर, सुवाल, महुला, आड़ीसेरी, नीचला थला, बीकरिया, कनकपुरा, ईंटों का खेत, बांकावास, भुजा, नाड़ी फला सहित 93 गांवों में पिछले एक महीने के दौरान दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना के तहत बिजली पहुंची तो स्विच दबने के साथ ही लोगों के चेहरे पर चमक दिखी।
    - पिछले कुछ दिनों में इन गांवों में 1400 से ज्यादा कनेक्शन हो चुके हैं और तेजी से कनेक्शन करने का काम चल रहा है।
    -लोगों को छोटे-छोटे काम के लिए भी घंटों की यात्रा कर काफी दूर जाना पड़ता था ।
    मालूम नहीं कि टीवी क्या चीज है...
    - सुवाल गांव की रहने वाली लक्ष्मी के घर 5 दिन पहले बिजली आई है। जब भास्कर ने उससे टीवी के बारे पूछा तो वो कुछ समझ नहीं पाई।
    - गांव में कई लोग हैं जिन्हें मालूम नहीं कि टीवी क्या चीज है। गर्मी से निजात पाने के लिए आज भी उनके लिए प्राकृतिक हवा एकमात्र जरिया है।
    - सुवाल बताती हैं कि अब धीरे-धीरे घरों में पंखे भी लगने लगे हैं। सुवाल सरपंच वैलाराम गरासिया बताते हैं कि शादी के रिश्ते बनते-बनते सिर्फ इसलिए टूट जाते थे कि गांव में बिजली नहीं है।
    - लोगों को जैसे ही पता चलता था कि गांव में बिजली नहीं है तो लोग रिश्ता के नाम पर मुंह मोड़ लेते थे। लेकिन अब इन परेशानियों से निजात मिलेगी।
    दीये की जगह अब बल्ब की रोशनी में पढ़ती हूं...
    - इंद्रामहुला गांव की छठी कक्षा में पढ़ने वाली गिरिजा और 8वीं की इंद्रा से बिजली आने को लेकर पूछा तो उनके चेहरे पर उत्सुक्ता का भाव साफ नजर रहा था।
    - इंद्रा ने बताया कि उनके घर एक माह पहले बिजली आई है, पहले अंधेरा होते ही गांव के बच्चे दिए जलाकर पढ़ाई करते थे। लेकिन अब बल्ब की रोशनी में पढ़ाई होती है।
    200 किमी की लाइन बिछाई, 5 हजार पोल लगाए...
    - उदयपुरमें एक साल पहले तक 4500 हजार परिवार बिजली सुविधा से वंचित थे, लेकिन अब सिर्फ एक गांव ही बिजली से वंचित रह गया है।
    - निगम अधिकारियों के अनुसार इन गांवों में बिजली पहुंचाने के लिए योजना के तहत लगभग 5 करोड़ खर्च किए हैं।
    - 200 किमी की लाइन बिछाई गई है, इसके लिए 25 से 27 फीट के 5 हजार बिजली के खंबे लगाए गए हैं।
    गॉंव में बिजली आने पर कैसा हो गया माहौल अगली स्लाइड में देखें Photos...
  • लाईट आने से सभी खुश हैं।
  • टीवी क्या चीज है मालूम नहीं, पहली बार पंखे की हवा लेंगे, छोटे-छोटे कामों के लिए जाना पड़ता था दूर
  • शहर से 150 किमी दूर आदिवासी गांवों में बिजली नहीं होने से टूटते थे रिश्ते, मोबाइल चार्ज करने जाना पड़ता था 10 किमी दूर
  • दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना के तहत बिजली पहुंची।
  • 200किमी की लाइन बिछाई, 5 हजार पोल लगाए
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: since independence first time electricity comes in village
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Udaipur

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top