Home »Rajasthan »Udaipur» Prisoners Tried To Escape

पेशी के लिए आए कैदियों ने दिखाई एक चालाकी और हो गया उनका ये हाल

Bhaskar News | Sep 14, 2013, 05:22 IST

  • उदयपुर। जिला अदालत में पेशी करा के वापस सेंट्रल जेल ले जाए जा रहे दो कैदी शुक्रवार शाम को पुलिस के चालानी गार्डों की घेराबंदी तोड़ कर भाग गए। सिपाहियों और वकीलों ने पीछा कर बीस मिनट में दोनों कैदियों को पकड़ लिया। घटना शाम पांच बजे की है।

    भागने वाले कैदी राजू राम कालबेलिया व मांगी लाल कालबेलिया थे। दोनों भींडर पंचायत समिति के रहने वाले हैं, जिनके खिलाफ लूट के मामले विचाराधीन हैं।

    ऐसे भागे

    चालानी गार्ड प्रभारी एएसआई ईश्वर सिंह के देखरेख में खड़ी बस में कैदी चढ़ रहे थे, तभी दोनों कैदी चालानी गार्डों को धक्का देकर भागे। हल्ला मचा तो पुलिस कर्मी तथा वकील नासिर हुसैन, सरफराज अली उनके पीछे दौड़े।

    आगे की स्लाइड्स में जानें कैसे फिर आए गिरफ्त में दोनों कैदी

  • ऐस पकड़े गए

    पहला : एक कैदी राजू राम पुराने चैंबर भवन में छिपकर बैठ गया। पांच मिनट बाद वह सड़क पर कूदा। तभी फरार कैदियों को खोज रहे पुलिस कर्मियों ने उसे घेर कर पकड़ लिया।
    दूसरा : दूसरा कैदी कोर्ट से बाहर भागा और सामने स्थित एक खाली प्लॉट में खोदे गए 10 फीट गहरे खड्डे में कूद गया। कोर्ट चौकी के सिपाही भंवर लाल ने भी छलांग लगा दी। सिपाही घायल हो गया लेकिन कैदी को पकड़ लिया।

    फोटो: शुक्रवार को कोर्ट से भागे कैदी को जवानों ने वापस पकड़ लिया। इसे पकडऩे के लिए सिपाही को दस फीट गहरे गड्ढे में छलांग लगानी पड़ी। कैदी गड्ढे में जा छिपा था।

  • बैरक से दूर लाकर कैदियों को बस में बिठाना सुरक्षित नहीं
    बार एसोसिएशन के पूर्व महासचिव मनीष शर्मा ने बताया कि अदालत के कार्य दिवस के दिन सुबह 10 बजे से पहले सेंट्रल जेल से बस में कैदियों को अदालतों में उपस्थित रखने के लिए लाया जाता है। कोर्ट बैरक (हवालात) तक बस जाने की जगह न होने से कैदियों को नीम वाला चौक में उतारा जाता है।

  • नीम चौक से 300 फीट दूर स्थित हवालात तक कैदियों को चालानी गार्डों की घेराबंदी में ले जाया जाता है। शर्मा ने बताया कि यह तरीका सुरक्षित नहीं है। गौरतलब है कि अदालत परिसर में कुछ समय पहले विचाराधीन कैदी सिराज व चालानी गार्ड चंदन सिंह की हत्या हो चुकी है। अदालत की हवालात में बंद एक कैदी वसीम उर्फ चूहा की हत्या दूसरे कैदी इमरान कूंजड़ा ने कर दी थी।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: prisoners tried to escape
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Udaipur

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top