Home »Sports »Cricket »Cricket Rochak» Australia Beat South Africa By 309 Runs

HIGH ALERT: अब तो घर पर घुस कर हो रही है दिग्गजों की पिटाई

Dainikbhaskar.com | Dec 03, 2012, 17:26 IST

  • खेल डेस्क. टेस्ट क्रिकेट में टीम चाहे छोटी हो या बड़ी, उसे उस ही के घर पर हराना सबसे बड़ी चुनौती होती है। लंबे समय से यह 'ज्ञान' क्रिकेट के जानकार खेल प्रेमियों में बांट रहे थे। शायद पहले हालात भी कुछ ऐसे ही थे। लेकिन पिछले एक हफ्ते में यह ट्रेंड पूरी तरह पलट चुका है।
    फिर चाहे टर्न लेती भारत और श्रीलंका की पिचें हों, या तेज उछाल वाला ऑस्ट्रेलिया
    का वाका मैदान, हर जगह मेजबानों को 'शर्मिंदगी' झेलना पड़ रही है।
    यकीन नहीं होता न? तो जरा पिछले हफ्ते में हुए तीन बड़े टेस्ट मुकाबलों के नतीजे उठा कर देख लीजिए, आंखें अपने आप खुल जाएंगी।
    25 नवंबर से 3 दिसंबर के बीच हुए टेस्ट मुकाबलों ने आलसी क्रिकेटरों के लिए एक अलार्म बजा दिया है।
    आइए, जानते हैं इस HIGH ALERT से जुड़ी कुछ रोचक बातें...
  • आलसी खिलाड़ी हो जाएं सावधान
    अकसर खिलाड़ी टेस्ट मैचों में घरेलू पिचों को अपना सबसे बड़ा हथियार समझा करते हैं। एशियाई टीमों की बात करें, तो उन्हें लगता है कि उनके घर आने वाले विदेशी खिलाड़ी स्पिन अच्छे से नहीं खेल सकते। इसलिए टर्निंग पिच बना कर आसानी से जीत हासिल की जाती है। ज्यादा मेहनत तो करनी नहीं होगी। बस ज्यादा स्पिनर खेला कर हम जीत जाएंगे। बिना किसी रणनीति के बिना किसी प्लानिंग के। लेकिन जनाब अब ऐसा नहीं रहा। अब तो ऑस्ट्रेलिया के धुरंधरों की नींद भी पूरी तरह उड़ चुकी होगी।
  • पहला झटका - कीवियों ने बजा दी शेरों की बैंड
    श्रीलंकाई टीम घरेलू पिचों पर अजेय मानी जाती रही है। पिछले साल भारत दौरे पर न्यूजीलैंड टीम की हुई बुरी हालत को देख कर शायद श्रीलंका को भी लगा हो कि कीवी टीम का कीमा बड़ी आसानी से बन जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कोलंबो के पी सारा ओवल मैदान पर हुए सीरीज के दूसरे और निर्णायक टेस्ट में न्यूजीलैंड ने पलटवार करते हुए मेजबान को धूल चटा दी। शिकस्त भी छोटी-मोटी नहीं, न्यूजीलैंड ने 167 रन के बड़े अंतर से मेजबान को जमींदोज किया।
    न्यूजीलैंड ने श्रीलंका को उसी के घर पर 14 साल के लंबे अंतराल के बाद हराया। इससे पहले 10 जून 1998 को गाले में हुए टेस्ट में कीवी टीम ने 164 रन के अंतर से जीत दर्ज की थी।
  • दूसरा झटका - अंग्रेजों ने चटा दी धोनी ब्रिगेड को धूल
    इंग्लैंड टीम का भारत में रिकॉर्ड बेहद खराब था। लेकिन एलिस्टर कुक ने पुराने सभी दाग धोते हुए धोनी ब्रिगेड को 10 विकेट की करारी शिकस्त देकर तगड़ा झटका दिया। पिछले साल घरेलू पिचों पर भारत को 4-0 से धोनी वाली इंग्लैंड की टीम ने मुंबई में मैदान मार कर चार मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर कर दी। इसके साथ ही मेजबान का क्लीन स्वीप कर रेटिंग प्वाइंट बटोरने का ख्वाब टूट गया।
    13 जनवरी 1985 के बाद यह पहला मौका था जब भारतीय टीम को अंग्रेजों ने उसी के मैदान पर धूल चटाई। तब चेन्नई में हुए टेस्ट में इंग्लैंड 9 विकेट से जीता था। धोनी ने पूर्व कप्तानों की मेहनत पर पानी फेरते हुए टीम इंडिया की विनिंग स्ट्रीक की वाट लगा दी।
  • तीसरा झटका - निकल गई कंगारुओं की हेकड़ी
    25 नवंबर से शुरू हुए घर पर हार मिलने के नए ट्रेंड को दिग्गज ऑस्ट्रेलिया ने भी अपनाया। श्रीलंका और भारत ने तो 1-1 मैच ही गंवाए थे, लेकिन क्लार्क एंड कंपनी एक कदम आगे निकलते हुए सीरीज ही हार बैठी।
    सबसे पहले वर्ल्ड की नंबर 1 टेस्ट टीम साउथ अफ्रीका ने सिडनी, ब्रिसबेन और एडिलेड में हुए टेस्ट मुकाबले ड्रा करवाने में सफलता हासिल की। उसके बाद पर्थ में प्रोटीज टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 309 से रौंद कर तीन साल पुरानी कामयाबी को दोहरा दिया। इससे पहले साउथ अफ्रीका ने 2009 में ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर पर हराया था।
  • घर पर मिली 12वीं हार
    टेस्ट इतिहास में यह 12वां मौका है जब ऑस्ट्रेलियाई टीम को घरेलू मैदान पर सीरीज में शिकस्त मिली है। इससे पहले पिछले ही साल इंग्लैंड ने एशेज सीरीज पर कब्जा जमा कर 25 साल बाद ऑस्ट्रेलिया में जीत दर्ज की थी। ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में कुल चार टीमें हरा पाई हैं।
    इंग्लैंड ने सर्वाधिक पांच बार ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती है। सबसे पहले 1955 में इंग्लैंड ने एशेज सीरीज जीती थी। उसके बाद 1971, 1979, 1987 और 2011 में इंग्लैंड की टीम ने कंगारुओं को उन्हीं घर में घुस कर हराया।
    इंग्लैंड के अलावा वेस्ट इंडीज ने चार बार (1980/1985/1988/1993), साउथ अफ्रीका ने दो बार (2009/2012) और न्यूजीलैंड ने एक बार (1985) यह कारनामा किया है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: australia beat south africa by 309 runs
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Cricket Rochak

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top