Home »Sports »Cricket »Cricket Rochak» India V Pakistan T-20 World Cup 2007

RECALL: अपनी हंसी उड़वाकर पाक ने दी थी कप्तान धोनी को पहली खुशी

dainikbhaskar.com | Sep 14, 2013, 14:10 IST

  • क्रिकेट के फटाफट संस्करण टी-20 का रंग अब पूरी दुनिया पर चढ़ चुका है। साल 2007 में जब पहली बार टी-20 वर्ल्डकप का आयोजन हुआ था तो किसी ने नहीं सोचा था कि क्रिकेट का यह शॉर्ट फार्मेट इस कदर लोकप्रिय होगा।
    टीम इंडिया को भी टी-20 ने ही महेंद्र सिंह धोनी जैसा नायाब कप्तान दिया। धोनी दक्षिण अफ्रीका में खेले गए टी-20 वर्ल्डकप में टीम इंडिया के कप्तान बनाए गए थे और आज के ही दिन (14सिंतबर) इस टूर्नामेंट में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने अपनी पहली जीत हासिल की थी।
    हालाकि टीम इंडिया का पहला मुकाबला स्कॉटलैंड से था लेकिन यह मैच बारिश के कारण नहीं खेला जा सका था। दूसरे मैच में टीम इंडिया का मुकाबला था परंपरागत प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से।
    आइए आगे की तस्वीरों में जानें किस तरह पाकिस्तान ने इस मुकाबले में नौसिखिया साबित हो कप्तान बने महेंद्र सिंह धोनी को दी थी पहली खुशी...
  • इस मुकाबले में पाकिस्तानी कप्तान शोएब मलिक ने टॉस जीत टीम इंडिया को पहले बल्लेबाजी के लिए उतारा था। मोहम्मद आसिफ ने पहले ही ओवर में गौतम गंभीर को आउट कर टीम इंडिया को जबर्दस्त झटका दिया। तीसरे ओवर में आसिफ ने एक और प्रहार करते हुए वीरेंद्र सहवाग की भी गिल्लियां बिखेर दीं।

  • शुरुआती झटकों से टीम इंडिया को उबारते हुए रॉबिन उत्थप्पा ने शानदार पचासा जड़ा। रॉबिन के अलावा कप्तान धोनी के 33 और इरफान पठान के उपयोगी 20 रनों के सहारे टीम इंडिया 141 के स्कोर तक पहुंच सकी।

  • धोनी के नेतृत्व में टीम इंडिया के गेंदबाजों ने भी लक्ष्य का पीछा करने उतरे पाकिस्तान पर शुरू से ही शिकंजा कस लिया। इरफान पठान की अगुआई में हरभजन सिंह और अजीत आगरकर ने शानदार गेंदबाजी करते हुए पाकिस्तान के छह विकेट 108 के स्कोर तक झटक डाले। पठान ने यूनिस खान और शोएब मलिक के महत्वपूर्ण विकेट झटके।

  • टीम इंडिया जीत की ओर कदम बढ़ा चुकी थी लेकिन क्रीज पर टिके मिस्बाह उल हक के इरादे कुछ और ही थे। मिस्बाह ने पचासा जड़ पाकिस्तानी टीम को जीत की दहलीज तक पहुंचा दिया। पाक को जीत के लिए आखिरी ओवर में 12 रनों की दरकार थी। मिस्बाह ने श्रीसंथ के ओवर में दो चौके लगा यह अंतर और कम कर दिया।

  • आखिरी गेंद पर पाक को जीत के लिए एक रन चाहिए था लेकिन युवराज सिंह के सीधे थ्रो पर मिस्बाह रन आउट हो गए। इस तरह इस रोमांचक मैच का अंत टाई के रूप में हुआ। अब मैच का फैसला बॉल आउट से होना था। फुटबॉल या हॉकी में प्रचलित पेनाल्टी शूट आउट की तर्ज पर इसमें दोनों ही टीमों के पांच खिलाड़ियों को बॉल करते हुए खाली स्टम्प को निशाना बनाना था।

  • धोनी ने यहां चतुराई भरा निर्णय लेते हुए टीम के मुख्य गेंदबाजों की बजाए स्लोअर बॉलर्स को चुना। वीरेंद्र सहवाग ने पहले, हरभजन ने दूसरे और रॉबिन उत्थप्पा ने तीसरे खिलाड़ी के रूप में स्टम्प को निशाना बना दिया।

  • पाकिस्तान के लिए उनके शुरुआती तीनों ही गेंदबाज नौसिखिए साबित हुए और खाली स्टम्प पर ही निशाना नहीं लगा पाए। खाली स्टम्प को निशाना बनाने में नाकाबिल रहे ये गेंदबाज थे यासिर अराफात, उमर गुल और शाहिद आफरीदी। पहली बार क्रिकेट में दिखे इस नजारे में पाकिस्तानियों के नौसिखियापन की खूब हंसी उड़ी थी।

  • इस रोमांचक मुकाबले के साथ ही कप्तान के रूप में महेंद्र सिंह धोनी को पहली खुशी इस अनूठी जीत के साथ मिली। पहले टी-20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया ने इस जीत के साथ जो अपना विजयी अभियान शुरू किया उसे खिताबी जीत के साथ ही पूरा किया।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: India v Pakistan T-20 world cup 2007
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Cricket Rochak

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top