Home »Sports »Cricket »Cricket Rochak» Top Reasons Why Dhoni Team May Fail In Nagpur Test

IN DEPTH: शनि ने छोड़ दिया है धोनी का सपोर्ट, सितारों ने खोली पोल

Dainikbhaskar.com | Dec 11, 2012, 14:41 IST

  • खेल डेस्क. टीम इंडिया टेस्ट में जीत के लिए तरस रही है। विदेशी पिचों पर लगातार मैचों में पिटने के बाद अब घर पर भी टीम को हार का मुंह देखना पड़ा है। हालात ऐसे हैं कि टीम एक दशक बाद घर में टेस्ट सीरीज हारने की कगार पर पहुंच गई है।
    भाग्य के धनी रहे कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की कुंडली में एक ऐसी प्रॉब्लम आ गई है जिसके कारण टीम प्रयासों के बावजूद हार रही है। dainikbhaskar.com ने धोनी ब्रिगेड के गिरते परफॉर्मेंस के पीछे कारण ढूंढने के लिए क्रिकेट से लेकर ज्योतिषी के एक्सपर्ट्स तक सलाह मशविरा किया।
    टीम इंडिया के परफॉर्मेंस और ग्रह दशा का पोस्ट मॉर्टम करने के बाद 8 बड़े कारण निकल कर सामने आए।
    आगे की स्लाइड्स पर क्लिक कर जानिए, कैसे बिगड़ रहा है टीम इंडिया का खेल....
  • इंग्लैंड के कप्तान की कुंडली पड़ रही भारी
    इंग्लिश टीम के कप्तान एलेस्टर कुक को राहु की महादशा चल रही है। उनकी कुंडली में सूर्य एवं गुरु की युति तथा राहु वृषभ में अपने मित्र की राशि में स्थित है। जो उनके लिए लाभकारी सिद्ध हुआ है। आगे भी यह उनको प्रबल बनाए हुए रहेगा। इनकी राशि का स्वामि शनि है जो राहु का मित्र होने से सहयोगी बना हुआ है। हालांकि राहु में सूर्य को अंतर हैं फिर भी भारतीय कप्तान से कुडंली श्रेष्ठ है।
    आगे क्लिक कर जानिए, क्या है कप्तान धोनी की परेशानी
  • शनि ने छोड़ा सपोर्ट, तभी पिट रहे कप्तान धोनी
    उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार महेंद्रसिंह धोनी को भी राहु की महादशा है किंतु जब तक इनको शनि की साढेसाती रही इन्होंने कम प्रयासों में ही काफी नाम कमाया।
    वहीं शनि आज इनके सपोर्ट में नही है। जबसे शनि का सहयोग हटा है विवाद एवं हार इनके साथी बन गए हैं। प्रतिष्ठा भी धूमिल हुई है। आगे भी इसके सुधरने के कोई आसार नहीं हैं। भविष्य में ऐसे योग भी बन रहे हैं कि संभवतः धोनी को टेस्ट कप्तानी से हाथ धोना पड़े। साथ ही यह भी हो सकता हे कि भविष्य में टेस्ट टीम में भी स्थान नहीं बना पाएं।
    भारत की आजादी की समय की कुंडली के अनुसार शनि का ढैय्या चल रहा है तथा सूर्य की महादशा में शनि का अंतर होने से उन्हें क्रिकेट ही नहीं वरन हर खेल के क्षेत्र में बदनामी एवं हार का सामना कर पड़ रहा है। सूर्य एवं शनि एक साथ भारतीय कुंडली के पराक्रम भाव में कर्क राशि में स्थित हैं जिसमें बुध, शुक्र, चंद्र भी हैं एवं इसी राशि में शनि की ढैय्या भी है। इसलिए भारत को हर खेल में मात खानी पड़ रही है।
    क्या होगा नागपुर में, आगे क्लिक कर जानिए
  • एक्सपर्ट कमेंट - पहले दिन हावी होगी इंडिया
    चौथा टेस्ट नागपुर को 13 दिसंबर को शुरू होगा, इस दिन अमावस्या है। ज्येष्ठा नक्षत्र, जिसके स्वामी बुध हैं, में यह मैच शुरू होगा। वृश्चिक राशि में जिसमे वर्तमान में शनि की साढ़ेसाती चल रही है। वृश्चिक राशि का स्वामि मंगल है। शनि, मंगल में शत्रुता एवं इसी दिन वृश्चिक राशि में पंचग्रही योग भी होगा। शनि द्वादश रहेगा। टेस्ट पांच दिन का है, अत: हर दिन ग्रह एवं नक्षत्रों का प्रभाव बदलता रहेगा। पहले दिन टीम इंडिया के हावी रहने की संभावना ज्यादा है। बाकी दिनों में भी भारत पूरा कब्जा जमाने को प्रयास करेगा किंतु इस मैच में भी जीत की राह बहुत मुश्किल है।
    सचिन का भी बिगड़ा है खेल, जानने के लिए आगे क्लिक करें
  • सचिन पर है राहू की महादशा
    इस टेस्ट सीरिज के एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी सचिन तेंडुलकर को भी राहु की महादशा और उसमें बुध का अंतर चल रहा है। उनका बुध नीच का हैं एवं उनकी राशि है धुन। नीच का बुध होने से वह उस तरीके प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं, जैसी उनकी साख है। उनकी राशि में ही चंद्र के साथ राहु भी स्थित है। राहु की महादशा में चंद्र का अंतर एवं राहु को प्रत्यंतर होने से साख को क्षति हो रही है एवं प्रदर्शन पर प्रभाव पड़ रहा है। यह समय ज्यादा दिन नहीं रहेगा, अगले साल वह फिर अच्छा प्रदर्शन करेंगे।
    आगे क्लिक कर जानिए, क्या कहते हैं क्रिकेट एक्सपर्ट्स...
  • बॉडी लैंग्वेज है लूजर वाली
    मुंबई और कोलकाता टेस्ट में टीम इंडिया के खिलाड़ियों की बॉडी लैंग्वेज को लेकर सवाल खड़े हुए। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम ने भारतीय टीम की बॉडी लैंग्वेज को नेगेटिव करार देते हुए कहा कि खिलाड़ी मैच जीतने के लिए नहीं बल्कि हार टालने के लिए खेल रहे हैं। अकरम ने कहा, "कुछ महीने पहले टेस्ट में नंबर रही टीम इंडिया के खिलाड़ी अचानक से थके-हारे दिख रहे हैं।"
    इंग्लैंड के पूर्व कप्तान ज्यॉफ्री बॉयकॉट ने भी टीम के एटीट्यूड पर सवाल खड़े करते हुए कहा, "भारतीय खिलाड़ी कुछ ज्यादा ही कॉन्फिडेंट दिखे। उन्होंने इंग्लैंड की टीम को शुरू से ही कमजोर माना। इसी ओवरकॉन्फिडेंस ने उन्हें ओवर कर दिया।"
  • नहीं दिखा टीम एफर्ट
    टेस्ट मैच के दौरान टीम इंडिया के खिलाड़ी कभी-भी एकजुट हो कर खेलते नजर नहीं आए। बल्लेबाजी के लिए वे चेतेश्वर पुजारा और सचिन तेंडुलकर पर निर्भर दिखे, तो गेंदबाजी के मामले में आर अश्विन और प्रज्ञान ओझा को कप्तान ने सर्वेसर्वा
    मान लिया। खराब गेंद के बाद लाइन और लेंथ सुधारने के लिए सीनियर खिलाड़ियों ने मिल कर कोई डिस्कशन नहीं किया।
    कमजोर फील्डिंग, कैचों का टपकना यह सब टीम एफर्ट की कमी का नतीजा रहे।
  • मोटिवेशन की कमी
    टीम इंडिया के खिलाड़ियों के सामने मोटिवेशन की कमी भी दिखी। कोई भी खिलाड़ी सफलता के लिए भूखा नहीं दिखा। आईपीएल में खेल कर पहले से मालामाल हो चुके खिलाड़ियों को टेस्ट में अच्छे बुरे प्रदर्शन से फर्क नहीं पड़ता। गेंदबाज बल्लेबाजों पर और बैट्समैन बॉलर्स पर दोष डालते दिखे। लेकिन आगे बढ़ कर टीम के लिए मैच विनिंग या सेविंग परफॉर्मेंस देने वाला कोई खिलाड़ी सामने नहीं आया।
  • टी-20 ने बिगाड़ी तकनीक
    टी-20 क्रिकेट की अधिकता ने भारतीय खिलाड़ियों की तकनीक को बुरी तरह से खराब कर दिया है। चेतेश्वर पुजारा को छोड़ दें, तो अधिकतर खिलाड़ी गेंद को प्ले करने की जगह बड़े शॉट खेलने में इंटरेस्टेड दिखे। पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने भी इस समस्या की ओर ध्यान दिलाया। विराट कोहली और युवराज सिंह हर गेंद को खेलने का प्रयास कर रहे थे। इसी कोशिश में वे गलत शॉट खेल कर अपने विकेट गंवाते रहे।
    नागपुर टेस्ट में दमदार वापसी के लिए जरूरी है कि धोनी ब्रिगेड इन तकनीकी प्रॉब्लम्स को सॉल्व करे।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: top reasons why dhoni team may fail in nagpur test
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Cricket Rochak

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top