Home »Sports »Cricket »Cricket Celebrities» Dhoni Great ODI Century In Chennai Praised By Pakistani Cricketers

PHOTOS: धोनी का 'दर्द' देख पिघले पाकिस्तानी, नहीं किया रन आउट!

Dainikbhaskar.com | Dec 30, 2012, 15:57 IST

  • खेल डेस्क. कहते हैं एक इंसान के कैरेक्टर की पहचान बुरे समय में होती है। चारों ओर से आलोचकों के बाउंसर झेल रहे टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पाकिस्तान के खिलाफ शतक लगा कर कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया। उनका जुझारूपन देख कर चेन्नई की जनता के साथ-साथ प्रतिद्वंद्वी टीम पाकिस्तान भी नतमस्तक हो गई। आलम कुछ ऐसा रहा कि भारतीय पारी की आखिरी गेंद पर रन आउट का चांस होने के बावजूद मेहमान टीम के फील्डरों ने गेंद थ्रो नहीं की।
    बयानों के जरिए यदाकदा अपनी हेकड़ी दिखाने वाले वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर के बल्ले पाकिस्तान के खिलाफ चेन्नई में हुए पहले वनडे मैच में शांत रहे। सहवाग ने पारी के पहले ओवर में चौका जरूर लगाया, लेकिन जल्द ही वे क्लीन बोल्ड हो कर अपना विकेट गंवा बैठे।
    दूसरे छोर पर खड़े गौतम गंभीर जैसे साथी वीरू की विदाई का ही इंतजार कर रहे थे। उन्होंने भी 17 गेंदों के संघर्ष के बाद महज 8 रन बना कर पवेलियन लौटने का फैसला कर लिया। अगले ओवर में वे मोहम्मद इरफान की गेंद पर क्लीन बोल्ड हुए।
    भारतीय बल्लेबाजों ने टेस्ट का खराब फॉर्म जैसे वनडे में भी जारी रखा। पहले पांच विकेट महज 29 रन के योग पर गिर चुके थे। एक हफ्ते पहले 23 साल के हुए जुनैद खान की गेंदबाजी से मेजबान टीम के बल्लेबाज खौफ खा गए। एक-एक कर टॉप ऑर्डर के पांच बल्लेबाज आउट हो कर पवेलियन लौट गए।
    ऐसे मुश्किल समय में मोर्चा संभाला कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने।
    आगे क्लिक कर देखिए, कप्तान धोनी की दर्दभरी पारी देख कैसे पिघला पाक का दिल...
    Sports News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड करें Hindi News App और रहें हर खबर से अपडेट
  • मिल चुका था अल्टीमेटम
    मैच शुरू होने से पहले कप्तान धोनी की मुलाकात बीसीसीआई चीफ एन श्रीनिवासन से हुई थी। कुछ दिनों पहले ही पूर्व चयनकर्ता मोहिंदर अमरनाथ ने खुलासा किया था कि श्रीनिवासन की सिफारिश पर धोनी की कप्तानी बरकरार है। टेस्ट सीरीज में घटिया प्रदर्शन के बाद से ही धोनी पर लगातार दबाव बढ़ रहा था। पाकिस्तान से मुकाबले से ठीक पहले जब धोनी को श्रीनिवासन के साथ देखा गया, तो उनके चेहरे की हालत देख कर स्थिति साफ हो गई।
  • पांच विकेट गिरने के बाद संभाला मोर्चा
    धोनी जब क्रीज पर पहुंचे तब तक टीम के पांच दिग्गज बल्लेबाज पवेलियन में आराम फरमा रहे थे। ऐसे मुश्किल समय में उन्होंने सुरेश रैना के साथ मिल कर पारी को संवारना शुरू किया। एक समय ऐसा लग रहा था कि भारत 150 रन तक बना पाएगा, लेकिन धोनी तो जैसे अनहोनी को होनी बनाने के लिए ही टीम में आए हैं।
  • रैना संग बदली इक्वेशन
    धोनी ने भरोसेमंद बल्लेबाज सुरेश रैना के साथ मिल कर छठे विकेट के लिए बेहतरीन 73 रन की साझेदारी निभाई। इस पार्टनरशिप में रैना का दबदबा रहा। 23.4 ओवरों तक चली इस साझेदारी में रैना ने जहां 37 रन बनाए, वहीं धोनी ने इसमें कुल 22 रनों का योगदान दिया।
    धोनी ने रैना के साथ मिल कर 3.08 रन प्रति ओवर की दर से रन बटोरे।
  • 78 गेंदों बाद लगाया पहला चौका
    धोनी कितनी टेंशन में खेल रहे थे, इस का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए मशहूर धोनी ने अपना स्टेमिना दिखाते हुए अपनी पारी के पहले 34 रन बिना बाउंड्री जड़े बनाए। 39वें ओवर की आखिरी गेंद पर उन्होंने अपनी शतकीय पारी का पहला चौका जड़ा। पहले चौके के लिए उन्होंने 78 गेंदों तक धैर्य दिखाया।
  • 26वें ओवर में मिला जीवनदान
    धोनी अपनी टीम को बचाने के लिए हर तरह का प्रयास कर रहे थे। इसी कोशिश में उन्होंने मोहम्मद हफीज की गेंद पर एक खराब शॉट खेला। मिडविकेट पर खड़े पाकिस्तानी कप्तान मिस्बाह के हाथों में गेंद आ चुकी थी, लेकिन वे कैच टपका बैठे। इस जीवनदान ने धोनी को बचा लिया।
  • फ्री हिट पर जड़ा छक्का
    39वें ओवर में उमर गुल की गेंद पर छक्का लगाने के बाद जैसे धोनी के हाथ खुल गए। अगले ही ओवर में उन्हें एक फ्री हिट मिली। टॉप चार विकेट लेने वाले जुनैद खान की लेंथ बॉल पर उन्होंने लॉन्ग ऑन बाउंड्री की तरफ छक्का जड़ा।
  • धोनी के छक्के पर गेंद मैदान के बाहर
    धोनी ने आखिर के 10 ओवरों में रौद्र रूप दिखाना शुरू किया। उनकी पॉवर हिटिंग का आलम कुछ ऐसा था कि गेंद उनके बल्ले से लग कर मैदान के ही बाहर चली गई।
    46वें ओवर में सईद अजमल की गेंद पर धोनी ने पूरी ताकत लगाते हुए छक्का लगाया। धोनी का शॉट इतना दमदार था कि गेंद एमए चिदंबरम स्टेडियम को पार कर बाहर चली गई। चेन्नई का यह स्टेडियम देश के सबसे बड़े स्टेडियमों में शुमार है। इसके बावजूद धोनी के छक्के से गेंद खो गई और अंपायरों को दूसरी गेंद का इंतजाम करना पड़ा।
  • पड़ रहे थे क्रैम्प, तड़प रहे थे धोनी, फिर भी रहे नॉटआउट
    अपने शतक के दौरान धोनी डिहाइड्रेशन का शिकार हो गए थे। चेन्नई की उमस साल के किसी भी महीने में खिलाड़ियों को परेशान कर सकती है। धोनी भी इसी का शिकार हुए। इसके बावजूद उन्होंने अपने फाइनल 51 रन महज 25 गेंदों में बनाए। धोनी ने 125 गेंदों तक संघर्ष करते हुए 7 चौकों और 3 छक्कों की मदद से नाबाद 113 रन बनाए। 113 में से 46 रन बाउंड्री से आए, जबकि 67 रन धोनी ने दौड़ कर बनाए।
  • पाकिस्तानियों ने भी किया सलाम
    धोनी की जुझारू पारी देख कर पाकिस्तानी टीम भी उनके आगे नतमस्तक हो गई। भारतीय पारी की आखिरी गेंद पर पाकिस्तान के पास धोनी को रन आउट करने का सुनहरा चांस था, लेकिन फील्डरों ने गेंद थ्रो ही नहीं की। पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने आगे बढ़ कर धोनी की पीठ थप-थपाई और उन्हें सेंचुरी की बधाई दी। जब धोनी पवेलियन लौट रहे थे, तब चेन्नई के स्टेडियम में मौजूद सभी दर्शक खड़े हो गए और तालियां बजा कर उनका अभिवादन किया।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: dhoni great ODI century in chennai praised by pakistani cricketers
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Cricket Celebrities

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top