Home »Sports »Cricket »Talking Pictures» Dhoni Sachin Zaheer Khan Flop In Kolkata

फेल हुए सितारे, उनकी जगह नागपुर में खेलें ये 7 नए चेहरे

Dainikbhaskar.com | Dec 09, 2012, 12:52 IST

  • खेल डेस्क. टेस्ट में नंबर 1 टीम बनने और वर्ल्ड कप जीतने के बाद से धोनी एंड कंपनी सफलता के नशे में चूर थी। लेकिन इसके बाद टेस्ट क्रिकेट में जो उसने लुढ़कना शुरू किया, वह आज भी जारी है। फिर चाहे मुकाबला विदेशी पिचों पर हुआ हो या घर पर ही मेहमान टीमों से भिड़ंत, हर मोर्चे पर टीम इंडिया को मुंह की खानी पड़ी है।
    सचिन तेंडुलकर से लेकर युवराज सिंह तक हर धुरंधर लगातार फेल हुआ। स्टार बैट्समैन विराट कोहली सीमित ओवर के क्रिकेट में तो चमके, लेकिन टेस्ट में आते ही वे फ्लॉप हो गए। हमारे बल्लेबाज तेज गेंदबाजों के खिलाफ लगातार फेल हुए। हारने की कुछ ऐसी आदत लगी कि विदेशी टीमों के स्पिनर्स को खेलना उनके लिए पहाड़ चढ़ने जैसा प्रतीत होने लगा।
    मोंटी पानेसर और ग्रीम स्वान ने बेहतरीन प्रदर्शन कर भारतीय बल्लेबाजों की जम कर बैंड बजाई। पिछले साल तक जहां इंग्लैंड के टिम ब्रेसनन, स्टुअर्ट ब्रॉड और जेम्स एंडरसन की रफ्तार जहां धोनी ब्रिगेड को रन बनाने से रोक रही थी, तो इस इस साल उनके स्पिनर्स भारतीय पिचों पर मेजबान पर भारी पड़ गए। आखिर ये बल्लेबाज रन बनाएंगे तो किसके खिलाफ।
    टीम के स्टार खिलाड़ी लगातार फ्लॉप हो रहे हैं। ऐसे में dainikbhaskar.com ने घरेलू क्रिकेट के कुछ ऐसे सितारों को खोजा जो लगातार शानदार परफॉर्मेंस देकर नेशनल टीम में आने की दस्तक दे रहे हैं। टीम इंडिया के लिए न तो वीरेंद्र सहवाग कुछ खास कर पा रहे हैं, न ही युवराज सिंह जैसे पोटेंशियल बल्लेबाज। ऐसे में यदि चयनकर्ता एक एक्सपेरिमेंट के तौर पर इन युवाओं को मौका दें, तो शायद टीम नागपुर टेस्ट में बेहतर प्रदर्शन कर दिखाए।
    आगे क्लिक कर जानिए, कौन-कौन से खिलाड़ी कर सकते हैं सचिन तेंडुलकर, युवराज सिंह और गौतम गंभीर जैसे स्टार्स को क्लीन बोल्ड...
  • ऋषि धवन
    22 साल के ऋषि इस घरेलू सीजन में लीडिंग विकेट-टेकर हैं। अभी तक खेले 8 मैचों में उन्होंने 25.91 की प्रभावशाली एवरेज से 35 विकेट चटकाए हैं। वे दो बार पारी में पांच विकेट लेने का कारनामा भी कर चुके हैं। महज 20 फर्स्ट क्लास मैचों में वे 88 विकेट ले चुके हैं। इसके अलावा दो शतक और पांच अर्धशतक भी उनके खाते में दर्ज हैं। टीम के सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज जहीर खान से लेकर युवा इशांत शर्मा तक इंग्लिश बल्लेबाजों के सामने फेल हो चुके हैं। ऐसे में धवन जैसे युवा गेंदबाजों के साथ एक्सपेरिमेंट करने से चयनकर्ताओं को हिचकिचाना नहीं चाहिए।
  • अमित मिश्रा
    आर अश्विन और प्रज्ञान ओझा ने अहमदाबाद में अपनी स्पिन से इंग्लैंड टीम को पस्त किया था, लेकिन मुंबई और कोलकाता में यह जोड़ी फ्लॉप रही। हरभजन सिंह की फिरकी भी अंग्रेजों के सामने फेल हुई। ऐसे में लेग स्पिनर अमित मिश्रा को एक मौका दिया जा सकता है। हरियाणा रणजी टीम के कप्तान अमित मिश्रा ने प्रैक्टिस मैच में इंग्लैंड के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया था। मौजूदा सीजन में खेले 8 मैचों में वे 23.44 की औसत से 27 विकेट चटका चुके हैं।
    अमित के पास 13 टेस्ट मैचों का अनुभव भी है। उनहोंने 13 मैचों की 19 पारियों में 43 विकेट लिए थे। इसके अलावा वे टेस्ट में दो हाफ सेंचुरी भी लगा चुके हैं। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में वे 440 विकेट ले चुके हैं।
  • भुवनेश्वर कुमार
    कानपुर के भुवनेश्वर ने अपनी मध्यम तेज गेंदबाजी से सभी को प्रभावित किया है। 22 साल के भुवनेश्वर ने इस सीजन में खेले 7 मैचों में 23.23 के औसत से 26 विकेट झटके हैं। उनका बेस्ट परफॉर्मेंस 34 रन देकर 5 विकेट लेने का रहा है। अब तक 44 फर्स्ट क्लास मैच खेल चुके यूपी के इस गेंदबाज ने 25.97 की औसत से 145 विकेट लिए हैं। इसमें 6 बार पारी में 4 और 8 बार पारी में 5 विकेट लेने का प्रदर्शन शामिल है।
  • अजिंक्य रहाणे
    मुंबई के रहाणे इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में टीम में तो चयनित हुए, लेकिन युवराज और कोहली के फ्लॉप होने के बावजूद उन्हें एक मैच में भी मौका नहीं दिया गया। सेलेक्टर्स को इस गलती में सुधार करते हुए रहाणे को नागपुर टेस्ट की प्लेयिंग इलेवन में मौका देना चाहिए। रहाणे ने इस फर्स्ट क्लास सीजन में पांच मैचों में 61.16 के एवरेज से 367 रन बनाए। इसमें एक सेंचुरी और तीन हाफ सेंचुरी शामिल रही। रहाणे ने विदेशी पिचों पर भी खुद को साबित किया था। उन्होंने इंग्लैंड टूर पर खेले वनडे मैचों में शानदार प्रदर्शन किया था। अपने पहले ही मैच में उन्होंने हाफ सेंचुरी लगा कर अपना दम दिखा दिया था।
  • मनोज तिवारी
    बंगाल के स्टार क्रिकेटर मनोज तिवारी पिछले कुछ समय से घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्हें टीम इंडिया में तो चुना जाता है, लेकिन प्लेयिंग इलेवन में खेलने का मौका नहीं मिल पाता। तिवारी ने इस सीजन में 6 फर्स्ट क्लास मैचों में 54.62 की अच्छी औसत से 437 रन बनाए हैं। उनका बेस्ट परफॉर्मेंस 191 रन का रहा है। इतने बेहतरीन रिकॉर्ड के बावजूद चयनकर्ता उन्हें मौका नहीं दे रहे।
  • पार्थिव पटेल
    गुजरात के स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल इस समय जबर्दस्त फॉर्म में हैं। इस सीजन में उन्होंने अब तक खेले 7 मैचों में 72.55 के एवरेज से 653 रन बनाए हैं। इसमें दो शतक और 6 अर्धशतक शामिल हैं। उनका बेस्ट स्कोर 162 रन का रहा है। पार्थिव का विकेटकीपिंग में भी परफॉर्मेंस शानदार रहा है। पिछले 6 मैचों में उन्होंने 11 कैच लपके हैं और 4 स्टंपिंग को अंजाम दिया है।
  • रवींद्र जडेजा
    सौराष्ट्र के इस ऑलराउंडर ने मौजूदा रणजी सत्र में दो ट्रिपल सेंचुरी लगा कर अपना दम दिखाया था। जडेजा इस सीजन में खेले महज 5 मैचों में 121 की शानदार औसत से 726 रन बना चुके हैं। इसमें दो शतक और एक अर्धशतक शामिल है। जडेजा ने राजकोट में रेलवे के खिलाफ मुकाबले में 331 रन की पारी खेलकर फर्स्ट क्लास क्रिकेट में तीन ट्रिपल सेंचुरी बनाने का कारनामा किया था। यह उपलब्धि हासिल करने वाले वे भारत के पहले और दुनिया के 8वें बल्लेबाज हैं।
    विराट कोहली और युवराज सिंह के बल्ले शांत हैं। ऐसे में यदि जडेजा को मौका दिया जाए तो टीम नागपुर में जीत दर्ज कर शर्मनाक सीरीज की हार से बच सकती है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: dhoni sachin zaheer khan flop in kolkata
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Talking Pictures

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top