Home »Sports »Cricket »Latest News» India Vs Pakistan Sehwag Out For Rahane In Delhi ODI

Ind v/s Pak: सहवाग को करो बाहर, रहाणे-शामी को दो मौका

Dainikbhaskar.com | Jan 05, 2013, 11:47 IST

  • खेल डेस्क. पाकिस्‍तान के हाथों वनडे सीरीज गंवा चुकी टीम इंडिया के लिए बुरी खबर है। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की पीठ में सूजन है जिसकी वजह से हो सकता है कि वह रविवार को पाकिस्तान के खिलाफ तीसरे और आखिरी वनडे-मैच में नहीं खेल पाएं। धोनी ने यह भी कहा है कि दिनेश कार्तिक को उनकी जगह टीम में मौका मिल सकता है। अगर धोनी मैच में नहीं खेले तो कप्तान कौन बनेगा? इस पर धोनी ने कहा कि इस बारे में अभी कोई फैसला नहीं हुआ है और उनके खेलने या ना खेलने के बारे में आखिरी फैसला रविवार को ही लिया जाएगा।
    युवराज भी शनिवार को नेट अभ्यास से नदारद रहे। इस बारे में कप्तान धोनी का कहना है कि शनिवार को अनिवार्य नेट अभ्यास नहीं था, इसलिए युवी नहीं आए। उन्होंने कहा कि सुबह अभ्यास के दौरान मेरी कमर का दर्द बढ़ता गया, जिससे सभी चिंतित हैं। मैंने तत्काल टीम प्रबंधन को इसकी जानकारी दी, जिससे बैकअप के रूप में दिनेश कार्तिक को बुलाया गया है। जब उनसे पूछा गया कि आपकी अनुपस्थिति में टीम की कप्तानी कौन करेगा, तो धोनी इस प्रश्न को टाल गए। उन्होंने कहा कि मैं खेलने की पूरी कोशिश करूंगा।
    उधर, लगातार खराब प्रदर्शन कर रहे वीरेंद्र सहवाग पर गाज गिरने के आसार हैं। संभव है वह इंग्‍लैंड के खिलाफ टीम में नहीं लिए जाएं। चयनकर्ता विक्रम राठौड़ और सबा करीम ने शनिवार को सहवाग से लंबी चर्चा की। टीम इंडिया की प्रैक्टिस के दौरान जब सहवाग का नंबर आने वाला था, तो वे राठौड़ के साथ करीब 20 मिनट बात करते हुए दिखे। इसके बाद वीरू ने कुछ देर अभ्यास किया और फिर करीम ने उनसे चर्चा की।
    आगे क्लिक कर जानिए, किस खिलाड़ी को होना चाहिए प्लेयिंग इलेवन में शामिल और किसका काटना होगा पत्ता...

    टीम इंडिया की 5बीमारी और इलाज के 5नुस्‍खे

    टीम इंडिया में आपसी दरार

  • भारतीय टीम खामियों का पिटारा बन गई है। खिलाडि़यों में आपसी मनमुटाव भी चरम परहै। इस सबका खामियाजा लगातार हार के रूप में सामने आ रहा है। अब रविवार को इंग्‍लैंड के खिलाफ मैच के लिए टीम चुनी जानी है। चेन्नई और कोलकाता में जिस प्रकार पाकिस्तान ने भारतीय बल्लेबाजों को अपने इशारों पर नचाया, उसे देख कर लगता है कि अब प्लेयिंग इलेवन चुनने में कड़े फैसले लेने का समय आ गया है। नाम बड़े और दर्शन छोटे की कहावत टीम की कुछ सीनियर्स पर बखूबी फिट बैठती है। लेकिन यदि इस टीम को 2015 वर्ल्ड कप के मुताबिक तैयार करना है तो कुछ ठोस बदलाव अभी से करने होंगे।
    इसकी शुरुआत पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले आखिरी वनडे से ही की जा सकती है। इसके बाद टीम को इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू वनडे सीरीज भी खेलना है। इसलिए प्लेयिंग इलेवन में युवाओं को आजमाने का इससे बेहतर मौका शायद ही मिले।
  • अनुभवी सलामी बल्लेबाजों गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग की लगातार विफलता ने इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए इन दोनों के चयन पर सवालिया निशान लगा दिया है क्योंकि हाल में लगातार शिकस्त के बाद चयनकर्ताओं पर खराब प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को बाहर करने का दबाव है।
    चयनकर्ता रविवार को जब टीम चुनने के लिए बैठक करेंगे तो चेतेश्वर पुजारा की अनदेखी करना उनके लिए मुश्किल होगा। 11 जनवरी से राजकोट में इंग्लैंड के खिलाफ शुरू हो रही पांच मैचों की वनडे सीरीज के लिए टीम में उन्‍हें जगह मिल सकती है। उन्होंने राजकोट में मध्य प्रदेश के खिलाफ दोहरा शतक लगाया और 150 से 200 रन के स्‍कोर पर सिर्फ 17 गेंद में पहुंच गए। इंग्‍लैंड के खिलाफ पहला मैच राजकोट में होना है और राजकोट में ही पुजारा ने अपने लगभग 90 प्रतिशत रन बनाए हैं।
  • सहवाग बाहर, रहाणे अंदर
    टीम की सबसे बड़ी समस्या उसकी ओपनिंग जोड़ी है। वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर लंबे समय से लगातार फ्लॉप हो रहे हैं। हालांकि, दोनों का परफॉर्मेंस लगभग एक सा रहा है, लेकिन यदि वनडे के आंकड़ों की बात की जाए तो गंभीर सहवाग से बेहतर हैं।
    गंभीर के पास सहवाग से बेहतर तकनीक है। खराब फॉर्म के कारण वे मात खा रहे हैं, लेकिन वे सहवाग से बेहतर संयमित पारी खेलने में सक्षम हैं। फास्ट बॉलिंग के खिलाफ तकनीक के मामले में भी वे अपने पार्टनर से बीस हैं।
    2011 का वर्ल्‍ड कप जीतने के बाद से गंभीर ने सहवाग से बेहतर प्रदर्शन किया है। गौती ने जहां 2 अप्रैल 2011 के बाद से खेले 27 वनडे मैचों में 39.34 की औसत से 1023 रन बनाए हैं वहीं, सहवाग ने 15 मैचों में 34.20 की औसत से 513 रन बनाए हैं। एवरेज के मामले में भले ही दोनों बल्लेबाज एकसमान दिखें, लेकिन गंभीर ने अपनी 27 पारियों में 2 शतक लगाने के साथ 8 हाफ सेंचुरी भी लगाई हैं, जबकि वीरू कुल 1 सैकड़ा और 1 अर्धशतक लगा पाए हैं।
  • रहाणे परफेक्ट
    सहवाग की जगह लेने के लिए महाराष्ट्र के अजिंक्य रहाणे इस समय परफेक्ट विकल्प हैं। घरेलू से लेकर विदेशी पिचों तक अपनी तकनीक से खुद को साबित कर चुके रहाणे बैंच पर बैठे हैं। उन्हें मैदान पर लाने का यह सबसे सही समय है। रहाणे ने हाल ही में रणजी मैचों में एक शतक और दो अर्धशतक लगा कर सभी को प्रभावित किया था। पाकिस्तान के खिलाफ बेंगलुरु में हुए टी-20 में भी उन्होंने 42 रन की पारी खेली थी।
    रहाणे की ठोस बल्लेबाजी की तारीफ सुनील गावस्कर से लेकर राहुल द्रविड़ तक कर चुके हैं। रहाणे ने अब तक खेले 12 वनडे मैचों में दो हाफ सेंचुरी लगाई हैं, जिसमें से एक इंग्लैंड के खिलाफ साउथम्पटन में लगा था। मोहाली जैसी फास्ट बॉलर्स के मुफीद पिच पर इस युवा बल्लेबाज ने इंग्लैंड के ही विरुद्ध 91 रन की पारी खेली थी। उन्हें अपने कदम जमाने के लिए कुछ मैचों का समय दिया जाना चाहिए। बार-बार अंदर बाहर करने से उनका आत्मविश्वास कम हो सकता है। इसलिए उन्हें प्लेयिंग इलेवन का नियमित हिस्सा बनाया जाना चाहिए।
  • डिंडा की जगह शामी
    पाकिस्तान के खिलाफ आखिरी मैच में कप्तान धोनी बॉलिंग डिपार्टमेंट में भी एक्सपेरिमेंट कर सकते हैं। 15 सदस्यीय टीम में शामिल युवा तेज गेंदबाज शामी अहमद को आजमाने का इससे बेहतर मौका नहीं हो सकता। जिस प्रकार जुनैद खान और मोहम्मद इरफान भारतीय बल्लेबाजों के लिए पहेली बन गए, उसी प्रकार शामी भी एक खुफिया हथियार के रूप में उभर सकते हैं।
    युवा गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने अपनी स्विंग से सभी को प्रभावित किया। 22 साल के शामी भी पाकिस्तानी टीम को सरप्राइज कर सकते हैं।
    महज 15 फर्स्ट क्लास मैचों में 65 और 13 लिस्ट-ए मैचों में 25 विकेट झटक चुके शामी एक उभरता सितारा हैं जिसे मौके की जरूरत है। इस बात की चिंता किए बगैर कि वे हिट होंगे या फ्लॉप उन्हें प्लेयिंग इलेवन में आजमाया जाना चाहिए।
    उनकी जगह बनाने के लिए अशोक डिंडा को बाहर किया जा सकता है। डिंडा अभी तक प्रभावशाली गेंदबाजी करने में नाकाम रहे हैं। चेन्नई में उन्हें विकेट जरूर मिले, लेकिन वे निचलेक्रम के बल्लेबाज थे। डिंडा अब तक खेले 12 वनडे मैचों में कुल 10 विकेट ले पाए हैं। ऐसे में उनके स्थान पर शामी को मौका दिया जा सकता है।
  • अश्विन बाहर, मिश्रा अंदर
    चेन्नई के स्टार बॉलर आर अश्विन भारतीय क्रिकेट का भविष्य हैं, लेकिन पिछले कुछ समय से वे लगातार फ्लॉप हो रहे हैं। वे स्पिन के लिए मददगार पिचों पर भी विकेट चटकाने में नाकाम रहे।
    ऐसे में हरियाणा के स्टार लेग स्पिनर अमित मिश्रा को एक मौका दिया जाना चाहिए। मिश्रा अश्विन की ही तरह ठोस बल्लेबाजी भी कर लेते हैं। इसलिए इस बदलाव से बल्लेबाजी कमजोर नहीं होगी। 13 वनडे मैचों में 43 विकेट ले चुके अमित मिश्रा ने हाल ही में रणजी ट्रॉफी के दौरान शानदार प्रदर्शन किया था। कर्नाटक के खिलाफ मैच में उन्हों ने नाबाद 202 रन की पारी खेलने के साथ ही तीन विकेट भी झटके थे। ऐसे में उन्हें आजमाना टीम को भविष्य की तैयारी में मददगार साबित हो सकता है। पाकिस्तानी टीम ने कभी उनके खिलाफ बल्लेबाजी नहीं की है, यह फैक्टर भी उन्हें बेहतर विकल्प बनाता है।
  • रोहित को बाहर ही रखें
    कोलकाता मैच में कप्तान धोनी ने रोहित शर्मा को बाहर बैठाया था। इस चेंज को दिल्ली में भी बरकरार रखा जाना चाहिए। रवींद्र जडेजा मौजूदा टीम में रोहित का सबसे बेहतर विकल्प हैं। वे गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों डिपार्टमेंट में मददगार साबित हो सकते हैं।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: india vs pakistan sehwag out for rahane in delhi ODI
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Latest News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top