Home »Sports »Cricket »Cricket Celebrities» Ravinder Jadeja Struggle In Cricket Richest Cricketer

PICS: जडेजा के पीछे छिपी एक सच्चाई, बिन जाने न करें बुराई

Dainikbhaskar.com | Dec 15, 2012, 08:10 IST

  • खेल डेस्क. टीम इंडिया के सितारे इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में संघर्ष कर रहे हैं। कभी घर पर शेर रहे भारतीय क्रिकेटर्स अब अपने ही इलाके में भीगी बिल्ली बन गए हैं।
    चारों ओर से इन खिलाड़ियों की आलोचना हो रही है। किसी का कहना है कि सचिन तेंडुलकर जैसे बुजुर्गों को अब टीम का जिम्मा जवानों को सौंप कर संन्यास ले लेना चाहिए, तो कुछ का कहना है कि युवाओं में टेस्ट खेलने का दमखम नहीं। वे तो बसे फटाफट क्रिकेट में बल्ला भांजना जानते हैं।
    तर्क कुतर्क चाहे कितने भी क्यों न हों, लेकिन क्या कभी किसी ने सोचा है कि इन खिलाड़ियों को नेशनल टीम तक का सफर तय करने के लिए क्या-क्या झेलना पड़ा है। इस टीम में कुछ सितारे ऐसे भी हैं जो तंगी की मार झेलने के बावजूद क्रिकेट के लिए तैयार हुए। उन्होंने कड़ी मेहनत के बाद नेशनल टीम में आने का अपना ख्वाब पूरा किया है और वे टीम को जीत दिलाने के लिए भी जमीं आसमां एक कर रहे हैं। बस अंतर इतना है कि किस्मत इस समय उनका साथ नहीं दे रही।
    ऐसे ही एक जुझारू खिलाड़ी हैं रवींद्र जडेजा। गत ६ तारीख को २४ साल के हुए जडेजा ने बड़ी मुश्किलों का सामना करने के बाद अपना आज खड़ा किया है।
    आगे क्लिक कर जानिए, रवींद्र जडेजा के जीवन का संघर्ष...
    Sports News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड करें Hindi News App और रहें हर खबर से अपडेट
  • इस साल आईपीएल में चेन्नई सुपरकिंग्स टीम से रिकॉर्ड 20 लाख डॉलर के अनुबंध के बाद सुपरस्टार बने रवींद्र जडेजा का जन्म सौराष्ट्र के नवगाम खेड़ में हुआ था। जडेजा का परिवार जामनगर में रहता है। क्रिकेट में चमकने से पहले जडेजा का स्टेटस लोअर मिडिल क्लास फैमिली का था। उनके पिता अनिरुद्धसिंह आर्मी के रिटायर्ड कर्मचारी थे। आर्मी की नौकरी खत्म होने के बाद उन्होंने एक निजी सुरक्षा एजेंसी में वॉचमैन की नौकरी की। जडेजा की मां लता जामनगर के सिविल अस्पताल में नर्स का काम करती थीं।

  • रवींद्र जब छोटे थे तब उनकी मां उन्हें एक फेमस क्रिकेटर बनाने के सपने देखा करती थीं। जडेजा ने अपनी मां का यह सपना तो साकार कर दिखाया, लेकिन अपने बेटे को इस बुलंदी पर देखने के लिए श्रीमती लता जडेजा अब जीवित नहीं हैं। 2005 में उनकी एक रोड एक्सीडेंट में अकाल मृत्यु हो गई थी।

  • जडेजा के पिता उन्हें एक आर्मी अफसर बनता देखना चाहते थे, लेकिन मां के लाड़ ने उन्हें क्रिकेट में आगे बढ़ने की आजादी दिलवा दी। हर मुश्किल को झेलने के बाद जडेजा आज एक नामी गिरामी हस्ती बन चुके हैं। उन्होंने महज 24 साल की उम्र में क्रिकेट के दिग्गज सर डॉन ब्रेडमैन की बराबरी कर ली है। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में तीन ट्रिपल सेंचुरी लगाने वाले वे भारत के एकमात्र बल्लेबाज हैं। नागपुर टेस्ट में मिला मौका उनके उज्जवल नेशनल करियर की एक शुरुआत मात्र है।

    आगे क्लिक कर जानिए, जडेजा जैसे जांबाज का जज्बाती सफर

  • मांगनी पड़ी जूतों के लिए भीख
    दुनिया भर के बल्लेबाजों को अपनी रफ्तार से धराशायी करने वाले साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने जब अपना करियर शुरू किया था तब उनके पास पहनने के लिए एक जोड़ी क्रिकेट शूज भी नहीं थे। उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान अपने इस संघर्ष का खुलासा किया था। स्टेन ने उन दिनों को याद करते हुए बताया था, जब मुझे पहला इंटरनेशनल मैच खेलने का मौका मिला था तब मेरे पास एक नई जोड़ी जूते खरीदने के भी पैसे नहीं थे। मुझे अपने सीनियर शॉन पोलक से जूतों के लिए भीख मांगनी पड़ी थी।
    यहीं नहीं रुकती दास्तां... आगे क्लिक करें
  • गरीबी में गुजरा बचपन
    टेस्ट क्रिकेट में एक कैलेंडर ईयर में सर्वाधिक रन बनाने का शानदार रिकॉर्ड बनाने वाले पाकिस्तानी बल्लेबाज मोहम्मद यूसुफ का बचपन मुश्किलों भरा रहा। उनके पिता पाकिस्तान रेलवे में एक मामूली कर्मचारी थे। रेलवे कॉलोनी में खेलते कूदते वे बड़े हुए। सभी मुश्किलों को पीछे कर उन्होंने इंटरनेशनल लेवल पर अपनी पहचान बनाई।
    इंग्लैंड का दिग्गज भी था मजबूर, आगे क्लिक करें
  • कोएले की खदान से निकला अंग्रेजी हीरा
    इंग्लैंड के पूर्व दिग्गज ज्यॉफ्री बॉयकॉट के पिता कोयले की खदान में काम किया करते थे। जब बॉयकॉट बहुत छोटे थे, तब उनके पिता की एक हादसे में मृत्यु हो गई थी। खुद ज्यॉफ एक खतरनाक हादसे का शिकार हुए थे। मौत को चकमा देकर उस हादसे से उबरे बॉयकॉट ने क्रिकेट की दुनिया में अपना खास रुतबा बनाया।
    दर्द ने बनाया दिग्गज, जानने के लिए आगे क्लिक करें
  • बचपन में छोड़ दिया था पिता ने साथ
    वेस्ट इंडीज के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी एवर्टन वीक्स की दास्तां भी दर्द भरी रही। जब वे महज आठ साल के थे तब उनके पिता एक रात उनके परिवार को छोड़ कर चले गए थे। उनकी मां ने तंग हाल में उनका पालन पोषण किया। उनके पिता ग्यारह साल बाद अपने परिवार से दोबारा जुड़े थे। इतना बुरा समय देखने के बाद उन्होंने अपना लोहा दुनिया में मनवाया था। वीक्स का नाम कैरिबियाई दिग्गजों में शुमार है।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: ravinder jadeja struggle in cricket richest cricketer
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Cricket Celebrities

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top