Home »Sports »Cricket »Off The Field» Sachin Tendulkar Would Have Retired In 2008

SECRET: वनडे छोड़िए, आज टेस्ट भी नहीं खेल रहे होते सचिन

Dainikbhaskar.com | Dec 24, 2012, 09:27 IST

  • खेल डेस्क. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर ने वनडे क्रिकेट को अलविदा कह कर सभी को चौंका दिया। आलोचकों द्वारा लगातार हो रहे कटाक्ष से परेशान हो कर उन्होंने यह फैसला किया है।
    सचिन की जिंदगी में उनकी सबसे बड़ी ताकत हैं उनकी पत्नी अंजलि। लेकिन एक समय ऐसा भी था जब अंजलि भी सचिन को सहारा देने में नाकामयाब हो गई थीं।
    यह किस्सा है चार साल पहले का। तब महेंद्र सिंह धोनी ने टीम की कमान संभाली ही थी। सचिन ने वनडे से संन्यास का ऐलान किया है। चार साल पहले यदि एक दोस्त ने तेंडुलकर को सहारा न दिया होता, तो आज वनडे तो छोड़िए, क्रिकेट के सभी फॉर्मेट्स से वे संन्यास ले चुके होते।
    आगे क्लिक कर जानिए, सचिन के करियर से जुड़ा यह 'राज'
  • लगातार दो साल रहे थे ऑउट ऑफ फॉर्म
    साल 2006 और 2007 तेंडुलकर के टेस्ट करियर के बेहद खराब साल रहे थे। 2006 में जहां वे आठ मैचों में 24.27 के औसत से 267 रन बना सके थे, वहीं 2007 में उन्होंने 2 शतकों और 6 अर्धशतकों की मदद से 9 मैचों में 776 रन बनाए थे। सचिन ने खुद के लिए जो स्टेंडर्ड सेट कर रखे थे, उनके मुताबिक यह परफॉर्मेंस बहुत खराब था।
  • बना लिया था संन्यास लेने का मन
    लगातार हुई आलोचना के कारण तेंडुलकर ने साल 2008 में संन्यास लेने का मन बना लिया था। वे किसी भी तरह इस खेल से खुद को दूर कर टीका-टिप्पणी से बचना चाहते थे।
  • फिर मिला एक दोस्त का सहारा
    2008 में टीम इंडिया की बागडोर थामी साउथ अफ्रीकी कोच गैरी कर्स्टन ने। कर्स्टन का टीम से जुड़ना सचिन के करियर में सबसे अहम पल था। इस बात का खुलासा खुद कर्स्टन ने एक इंटरव्यू में किया था।
  • सीनियर्स से थे परेशान
    कर्स्टन के टीम से जुड़ने से पहले पूर्व कप्तान सौरव गांगुली और कोच ग्रेग चैपल के बीच विवाद हुआ था। चैपल सचिन के आलोचकों में शुमार थे। कर्स्टन के मुताबिक सचिन के साथ काम कर रहे कुछ सीनियर्स से संबंध खराब थे, इसी कारण वे क्रिकेट को अलविदा कहने का मन बना चुके थे।
  • सचिन ने रखी थी कर्स्टन के आगे शर्त
    जब कर्स्टन टीम से जुड़े तो सचिन ने पहली मुलाकात पर उनके सामने एक शर्त रखी थी। तेंडुलकर ने कहा था कि कर्स्टन उनके दोस्त बन कर रहें, तभी टीम आगे बढ़ पाएगी। कर्स्टन ने बिल्कुल वैसा ही किया। वे लगभग हर खिलाड़ी के करीबी दोस्त बन गए और टीम का माहौल पूरा बदल गया।
  • अंजलि हुईं थी कर्स्टन को देख जज्बाती
    पिछले साल मुंबई में हुए वर्ल्ड कप फाइनल में फतह के बाद अंजलि कर्स्टन से मिली थीं। उन्होंने नम आंखों से कर्स्टन का शुक्रिया अदा किया था। अंजलि ने उनसे कहा था, "मेरा पति मुझे लौटाने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। आपके कारण ही आज ये इस मुकाम पर पहुंचे हैं।"
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: sachin tendulkar would have retired in 2008
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Off The Field

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top