Home »Sports »Cricket »Cricket Classic» Sreesanth Best Performances In International Cricket

CHAMP: जब श्रीसंथ के जलवे ने द्रविड़ और धोनी को बनाया सुपरस्टार

Dainikbhaskar.com | Feb 06, 2013, 12:32 IST

  • खेल डेस्क.टीम इंडिया के स्टार गेंदबाज श्रीसंथ आज अपना 29वां बर्थडे मना रहे हैं। केरल के इस स्टार गेंदबाज ने महज 7 साल के करियर में कई दौर देखे हैं। कभी वे रफ्तारभरी गेंदों से बल्लेबाजों में खौफ पैदा करते दिखे, तो कभी चोटिल होने के कारण उन्हें व्हीलचेयर पर आश्रित होना पड़ा।
    लेग स्पिनर से फास्ट बॉलर बने श्रीसंथ ने कई बार अपना जलवा दिखाया है। अब तक खेले कुल 27 टेस्ट मैचों में 87 विकेट ले चुके श्रीसंथ ने तीन बार एक पारी में 5 विकेट चटकाने का कारनामा किया। उनका सबसे ज्यादा बार शिकार बने साउथ अफ्रीकी बल्लेबाज।
    साल 2006 में जोहानिसबर्ग में हुए टेस्ट मुकाबले श्रीसंथ की गेंदबाजी कोई नहीं भूल सकता। उस मैच में उन्होंने मेजबान टीम को 100 से कम के स्कोर पर समेटकर टीम इंडिया को ऐतिहासिक जीत दिलाई थी। वह पहला मौका था जब भारतीय टीम ने साउथ अफ्रीका को उसी के घर में हराया।
    आगे क्लिक कर जानिए, श्रीसंथ के टॉप बॉलिंग परफॉर्मेंस जो बना गए उन्हें टीम इंडिया का रॉकस्टार
  • 15 दिसंबर 2006, जोहानिसबर्ग का वांडरर्स मैदान
    2006 का साउथ अफ्रीका दौरा टीम इंडिया के लिए यादगार रहा था। तब टीम की कमान राहुल द्रविड़ के हाथों में थी। अपने कप्तान के लिए इस मैच को यादगार बनाने का काम किया था श्रीसंथ ने।
    सौरव गांगुली के नाबाद अर्धशतक (51) और सचिन तेंडुलकर की 44 रन की उपयोगी पारी के दम पर भारत ने पहली पारी में 249 रन का स्कोर खड़ा किया था।
    ग्रीम स्मिथ, हर्शेल गिब्स, हाशिम अमला और जैक कैलिस जैसे धुरंधरों से सजी प्रोटीज टीम को देख कर लग रहा था कि भारतीय गेंदबाजों को हर विकेट के लिए लंबा इंतजार करना होगा, लेकिन श्रीसंथ ने अपने कमाल से इस सोच को बदल दिया।
  • मैन ऑफ द मैच श्रीसंथ
    श्रीसंथ ने अपने पहले ही ओवर की आखिरी गेंद पर कप्तान ग्रीम स्मिथ को LBW आउट करवा दिया। स्मिथ महज 5 रन बना कर पवेलियन लौट गए। दूसरे छोर से जहीर खान ने भी दम दिखाते हुए दूसरे ओपनर हर्शेल गिब्स को खाता खोलने का मौका दिए बगैर वीरेंद्र सहवाग के हाथों कैच करवा कर चलता कर दिया।
    अब क्रीज पर थे हाशिम अमला और जैक कैलिस। श्रीसंथ की गेंदों में उस दिन एक अलग सी धार थी। उन्होंने अमला को 0 और कैलिस को 12 रन के स्कोर पर वीवीएस लक्ष्मण के हाथों कैच करवा दिया। श्रीसंथ की घातक गेंदबाजी के चलते साउथ अफ्रीका का स्कोर 21 रन पर 4 विकेट हो गया था।
    श्रीसंथ द रॉकस्टार यहीं नहीं थमे। उन्होंने मार्क बाउचर और शॉन पोलक को भी सस्ते में आउट किया। उन्होंने उस पारी में महज 40 रन देते हुए 5 विकेट चटकाए थे। इसी कातिलाना गेंदबाजी के आगे साउथ अफ्रीकन टीम ने महज 84 रन पर घुटने टेक दिए थे।
    सेकंड इनिंग में भी श्रीसंथ की दादागिरी जारी रही और उन्होंने 3 विकेट चटका कर अपनी टीम को 123 रन की ऐतिहासिक जीत दिला दी। साउथ अफ्रीका में यह टीम इंडिया की पहली टेस्ट जीत थी।
  • 24 नवंबर 2009, कानपुर का ग्रीनपार्क स्टेडियम
    2009 में श्रीलंका के भारत दौरे पर भी श्रीसंथ स्टार रहे थे। 24 नवंबर 2009 को कानपुर में हुए मैच में उन्होंने दूसरी बार 5 विकेट चटकाए। उनकी इसी कातिलाना बॉलिंग के दम पर भारत ने श्रीलंका को पारी और 144 रन के बड़े अंतर से हराया था। यह श्रीसंथ का ही कमाल था कि जिस मैदान पर भारत के तीन बल्लेबाजों ने बड़े शतक लगाए, वहीं पर उन्होंने श्रीलंका को फॉलोऑन खेलने पर मजबूर कर इंडिया को पारी के अंतर से जीत दिलावाई।
    उस मैच में गौतम गंभीर (167), वीरेंद्र सहवाग (131) और राहुल द्रविड़ (144) की सेंचुरी की बदौलत भारत ने 642 रन का स्कोर खड़ा किया था। जवाब में श्रीलंका 229 और 269 रन ही बना सका था।
  • श्रीलंका का किया कबाड़ा

    पहली पारी में जहीर खान ने पहली ही गेंद पर तिलकरत्ने दिलशान को प्रज्ञान ओझा के हाथों कैच करवा कर चलता कर दिया था। उसके बाद श्रीसंथ ने परनविताना (38) और कप्तान कुमार संगकारा (44) को आउट कर मेहमान टीम को बैकफुट पर ढकेल दिया।
    श्रीसंथ का कहर यहीं नहीं थमा। उन्होंने थिलन समरवीरा, प्रसन्ना जयवर्धने और रंगना हेराथ के विकेट चटका कर अपना पंच पूरा किया। उन्होंने 75 रन देते हुए 5 विकेट चटकाए। दूसरी पारी में वे 1 ही विकेट ले पाए। श्रीसंथ की इस स्पेशल परफॉर्मेंस के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच करार दिया गया।
  • 1 जनवरी 2011, केप टाउन का न्यूलैंड्स मैदान
    श्रीसंथ ने 2011 का साउथ अफ्रीका टूर कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के लिए यादगार बनाया। सेंचुरियन में पारी और 25 रन की हार झेलने के बाद टीम इंडिया ने डरबन में हुआ दूसरा टेस्ट 87 रन से जीता था। तीन मैचों की सीरीज 1-1 से बराबरी पर थी। केप टाउन में होने वाले मुकाबले को बचाना टीम इंडिया के लिए अहम था। श्रीसंथ ने यही कारनामा कर दिखाया।
    पहली पारी में श्रीसंथ ने हाशिम अमला, एबी डिविलियर्स, एश्वेल प्रिंस, मार्क बाउंचर और मॉर्ने मॉर्केल को आउट कर करियर का तीसरा पंच लगाया। दूसरी पारी में वे एक भी सफलता हासिल नहीं कर पाए। लेकिन मैच ड्रा करवा कर उन्होंने अपनी टीम के लिए सीरीज बचा दी थी।
  • 15 अप्रैल 2006, इंदौर का होलकर स्टेडियम
    वनडे में भी श्रीसंथ एक उपयोगी गेंदबाज रहे हैं। इंग्लैंड के खिलाफ 2006 में इंदौर वनडे के दौरान उन्होंने करियर बेस्ट परफॉर्मेंस दिया था। 15 अप्रैल 2006 को हुए 7 मैचों की सीरीज के आखिरी मुकाबले में श्रीसंथ ने 55 रन देकर 6 विकेट चटकाए थे।
    श्रीसंथ ने सबसे पहले कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस को 25 रन के स्कोर पर विकेटकीपर दिनेश कार्तिक के हाथों कैच करवाया था। उसके बाद उन्होंने मैट प्रायर (2), गेरियेंट जोन्स (53), इयान ब्लेकवेल (11), लियाम प्लंकेट (6) और साजिद महमूद (9) को आउट कर वनडे में अपना पहला छक्का पूरा किया था।
    टीम इंडिया वह मैच 7 विकेट से जीती थी। श्रीसंथ को 6 विकेट चटकाने के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया था।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: sreesanth best performances in international cricket
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Cricket Classic

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top