Home »Sports »Cricket »Latest News» Waca Ground Stripped Of Test Match Vs India

36 साल बाद ऑस्ट्रेलिया के मैदान से छीनी गई टेस्ट क्रिकेट की मेजबानी

Dainikbhaskar.com | Sep 12, 2013, 10:10 IST

  • सिडनी.क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने 2014-15 सत्र में भारत के खिलाफ चार टेस्टों की घरेलू सीरीज के लिए मेजबान स्थलों की घोषणा कर दी। घोषित स्थानों में अपनी रफ्तार के लिए मशहूर पर्थ को शामिल नहीं किया गया है।
    सीए के मुख्य कार्यकारी जेम्स सदरलैंड ने बताया कि एडिलेड, ब्रिसबेन, सिडनी और मेलबर्न चार टेस्टों की मेजबानी करेंगे।
    पर्थ में कोई टेस्ट आयोजित नहीं किया जाएगा। हालांकि, इसकी भरपाई के लिए पर्थ को सीमित ओवरों के चार मैच दिए गए हैं। टीम इंडिया अगले साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया का दौरा करेगी, जिसमें चार टेस्ट मैचों की सीरीज के अलावा ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के साथ त्रिकोणीय वनडे सीरीज शुमार रहेगी।
    वाका मैदान को एक भी टेस्ट मैच का न मिल पाना काफी शॉकिंग फैसला है। 1976-77 के बाद यह पहला मौका है जब वाका का मैदान टेस्ट मैच की मेजबानी से महरूम हुआ है।
    आगे जानिए, क्यों क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने दिया वाका को झटका...
  • इसलिए नहीं होगा टेस्ट मैच
    वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट एसोसिएशन का यह मैदान वर्ल्ड कप के पैमानों पर खरा नहीं उतरता। यहां फिलहाल 22,000 लोग बैठकर खेल का लुत्फ ले सकते हैं। सीए इसकी क्षमता बढ़ाने के लिए यहां निर्माण कार्य करवाना चाहता है। इस मैदान का निर्माण 1893 में हुआ था। 1986 से ही यहां पर फ्लडलाइट्स की सुविधा मौजूद है।
    क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने सिर्फ पर्थ ही नहीं, बल्कि होबार्ट को भी टेस्ट क्रिकेट से दूर किया है। इसके पीछे प्रमुख वजह है 2015 का वर्ल्ड कप। 2015 में होने वाले इस बड़े टूर्नामेंट के लिए पर्थ को तैयार करने की जरूरत है। वहां दोबारा निर्माण कार्य करवाने की जरूरत है। इसी वजह से उसे टेस्ट मैच की मेजबानी नहीं सौंपी गई।
  • रफ्तार भरी पिच है वाका
    पर्थ का मैदान अपनी तेजी और बाउंस के लिए मशहूर रहा है। इस मैदान पर दिग्गज बल्लेबाजों तक को गेंद का सामना करने में पसीना आ जाता है। जिस जगह वाका स्टेडियम का निर्माण किया गया है वहां किसी जमाने में दलदल हुआ करता था। मैदान के नीचे दलदल होने के कारण पिच पर हमेशा नमी बनी रहती है। घास और नमी के कारण तेज गेंदबाजों को यहां अतिरिक्त मदद भी मिलती है।
    इसी कारण वाका पिच पर पड़ने वाले बाउंसर अकसर घातक बन जाते हैं। स्विंग और बाउंस के कारण यहां बल्लेबाजी करना सभी के लिए एक चुनौती रहती है।
  • कैसा है इतिहास?
    वाका के मैदान पर पहला टेस्ट मुकाबला 11 दिसंबर 1970 को ऑस्ट्रेलिया व इंग्लैंड के बीच खेला गया। तब से अबतक यहां 40 मैच खेले जा चुके हैं, जिनमें से 23 में मेजबान ऑस्ट्रेलिया को जीत मिली है और 10 में हार का सामना करना पड़ा है। यहां कुल 7 मैच ड्रा हुए हैं।
    भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच यहां कुल 4 टेस्ट खेले गए हैं, जिनमें से 3 में मेजबान जीता है। टीम इंडिया ने 16 जनवरी 2008 को यहां 72 रन की ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी।
    बनाम इंग्लैंड
    पर्थ के वाका मैदान पर ऑस्ट्रेलिया ने 12 में 8 एशेज सीरीज मैच जीते हैं। एशेज में यहां कुल एक बार मेजबान को पराजय झेलनी पड़ी। 15 दिसंबर 1978 में इंग्लैंड ने पर्थ में एकमात्र जीत दर्ज की थी। तीन मैच ड्रा रहे।
    आखिरी मैच में मिली हार
    पर्थ के मैदान पर आखिरी टेस्ट मुकाबला 30 नवंबर 2012 को मेजबान और साउथ अफ्रीका के बीच खेला गया था। उस मैच में ऑस्ट्रेलिया को 309 रनों से पराजय मिली।
  • पोंटिंग हैं किंग
    पर्थ के वाका मैदान पर सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड रिकी पोंटिंग के नाम है। पंटर ने यहां अपने करियर का पहला और आखिरी मैच खेला। उन्होंने यहां 17 मैचों की 26 पारियों में 38.60 के औसत 965 रन बनाए, जिसमें कुल एक सेंचुरी और 6 हाफ सेंचुरी शुमार रहीं।
  • पर्थ पर सचिन
    दुनिया की सबसे तेज पिच का दर्जा रखने वाले पर्थ में सेंचुरी लगाने का इंडियन रिकॉर्ड सिर्फ सचिन तेंडुलकर के नाम है। 1 फरवरी 1992 को हुए टेस्ट मुकाबले में सचिन ने 114 रन की पारी खेली थी।
  • मैक्ग्राथ की रफ्तार
    पर्थ के मैदान पर विकेट की हाफ सेंचुरी पूरी करने का दम सिर्फ एक गेंदबाज दिखा सका है। मेजबान टीम के स्टार रहे ग्लेन मैक्ग्राथ ने यहां 12 मैचों में 24.07 के औसत से 52 विकेट चटकाए। उनका बेस्ट परफॉर्मेंस 24 रन देकर 8 विकेट का रहा।
  • बेदी रहे इंडियन स्टार

    भारतीय टीम के लिए पर्थ में बेस्ट बॉलिंग परफॉर्मेंस किसी तेज गेंदबाज नहीं, बल्कि खब्बू स्पिनर बिशन सिंह बेदी का रहा। 1977 में हुए टेस्ट मुकाबले में बिशन ने मैच की दोनों पारियों में 5 विकेट चटकाए थे। इस पिच पर 10 विकेट लेने वाले वे एकमात्र इंडियन हैं।
    इस पिच पर पारी में 5 विकेट लेने का कारनामा कुल तीन इंडियन बॉलर कर सके हैं। बिशन सिंह के अलावा मनोज प्रभाकर (5/101) और उमेश यादव (5/93) यह कमाल कर सके हैं।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: waca ground stripped of test match vs india
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Latest News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top