Home »Uttar Pradesh »Gorakhpur» Student Invents Ecofriendly Bike In Gorakhpur

30 रु. के खर्च में 60 km चलेगी बाइक, घर बैठे बना सकते हैं फ्यूल

dainikbhaskar.com | Apr 21, 2017, 10:58 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

यूपी के गोरखपुर में आईटीएम गीडा मकैनिकल इंजीनियरिंग के 5 स्टूडेंट्स ने एसिटिलीन से फर्राटा भरने वाली बाइक तैयार की है।

गोरखपुर. यूपी के गोरखपुर में आईटीएम गीडा मकैनिकल इंजीनियरिंग के 5 स्टूडेंट्स ने एसिटिलीन से फर्राटा भरने वाली बाइक तैयार की है। ये बाइक इकोफ्रैंडली है। पेट्रोल के मुकाबले 10 गुना कम कार्बन उगलेगी और जेब पर भी आधा खर्च आएगा। आपको जानकर हैरानी होगी कि ये फ्यूल कोई भी घर बैठे तैयार कर सकता है। एसिटिलीन का यूज करके ऐसा कारनामा करने वाले स्टूडेंट्स अनीश सिंह, निरंजन गुप्ता, पुनीत कुमार सिंह, गंगा सागर मिश्र और निकेत गिरी ने बाइक के बारे में dainikbhaskar.com से कुछ बातें शेयर कीं।देश की पहली ऐसी बाइक....
- अनीश ने बताया कि कॉलेज प्रोजेक्ट के तहत ये बाइक तैयार की गई है। हम मोदी के मेक इन इंडिया से इंस्पायर्ड हैं। एक बार मैं अपने गांव के पास गैस वेल्डिंग शॉप पर गया था। वहीं से मुझे ये आइडिया आया।
- अब तक राजस्थान में हाइड्रोजन से चलने वाली कार बनी थी। एसिटिलीन फ्यूल का यूज करके देश में पहली बार बाइक बनाई गई है। बड़ी कंपनियों और मोदी-योगी गवर्नमेंट का साथ मिलेगा तो हम इसे और मॉडिफाइ करके बेहतर बना सकते हैं।
ऐसे बनाई गई बाइक
- बाइक बनाने वाले अनीश सिंह और साथी स्टूडेंट्स ने बताया कि हमने पुराने मॉडल की पेट्रोल से चलने वाली एक पुरानी राजदूत कबाड़ी वाले से खरीदी। 7500 रुपए खर्च करके इसे पेट्रोल से चलने लायक बनाया। एक छोटे सिलेंडर के आकर का फ्यूल कलेक्शन सिलिंडर बनाया।
- इसके बाद बाइक के होरिजोंटल टू स्ट्रोक इंजन में थोड़ा बदलाव किया। इसका RPM (Revolutions per minute) 1400 से घटाकर 1150 किया। ऐसा इसलिए किया ताकि इंजन कम गर्म हो। बाइक के कारबोरेटर में थोड़ा चेंज करके उसे एक नोजल (कनेक्टर) के सहारे जोड़ दिया, ताकि इंजन को एसिटिलीन मिल सके।
- पहली बार स्टार्टिंग के लिए पेट्रोल का यूज तो किया, लेकिन बाद में इंजन स्टार्ट करने के लिए बेसिक और सेकेंडरी दोनों फ्यूल एसिटिलीन ही यूज किया।
- इसका प्रयोग 4 स्ट्रोक इंजन पर भी किया जा सकता है।
ऐसे बनाई एसिटिलीन गैस
- स्टूडेंट्स के प्रोजेक्ट गाइड विनीत कुमार राय ने बताया कि सबसे पहले एक लीटर एसिटिलीन बनाने के लिए कैल्शियम कार्बाइड (CaC2) 300 ग्राम और 700 एमएल वॉटर (H2O)लिया। इसके बाद दोनों को गर्म करके ये फ्यूल बनाया।
- इस एक लीटर एसिटिलीन को बनने में 30 से 35 रुपए का खर्च आया। सहयोगी अभिषेक त्रिपाठी ने बताया कि इस प्रोजेक्ट को इस स्टेज पर लाने के लिए 5 महीने लग गए।
अागे की स्लाइड में पढ़ें 1 लीटर एसिटिलीन से करीब 50 से 60 km चलेगी बाइक...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Student Invents Ecofriendly Bike In Gorakhpur
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Gorakhpur

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top