Home »Uttar Pradesh »Lucknow »News» 21 AAP MLAs In Trouble Due To Prashant Patel

मोदी से इंस्‍पायर है यह शख्‍स, केजरीवाल के 21 MLA के लिए बना मुसीबत

dainikbhaskar.com | Jun 16, 2016, 12:13 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

29 साल के प्रशांत पटेल के चलते 'आप' विधायकों की बढ़ी है परेशानी।

लखनऊ.अरविंद केजरीवाल के 21 विधायकों की मेंबरशिप जिस शख्स की वजह से खतरे में है, वो हैं एडवोकेट प्रशांत पटेल। ये अपनी वकालत से आमिर खान, कन्हैया कुमार जैसे लोगों को भी परेशान कर चुके हैं। पटेल नरेंद्र मोदी से इंस्पायर हैं और केजरीवाल ने इस मामले में मोदी पर दिल्‍ली की हार न पचा पाने का आरोप लगाया है। dainikbhaskar.com आपको यूपी के फतेहपुर के रहने वाले इसी शख्स के बारे में बता रहा है। मैं बीजेपी के लिए काम नहीं करता हूं...
- वकील प्रशांत पटेल ने बताया कि मार्च 2015 में आप जिन विधायकों को मंत्री नहीं बना पाई, उन्हें पार्लियामेंट्री सेक्रेटरी बनाकर अप्‍वाॅइंट कर दिया।
- "यह पद लाभ के थे, जिस पर 21 विधायक अप्‍वाॅइंट थे। इस पर मैं मामले को पहले कोर्ट में ले गया, फिर राष्ट्रपति का दरवाजा खटखटाया।"
- प्रशांत बताते हैं कि जब इस तरह के मामले सामने आते हैं तो फैमिली डर जाती है। लेकिन इसके बावजूद सपोर्ट करती है।
- "2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान मैं मोदी से इंस्पायर हुआ। लेकिन बीजेपी की ओर झुकाव होने के बाद भी उसके लिए काम नहीं करता हूं।"
- "कुछ लोग मामले को दूसरा रुख देने के लिए कहते हैं कि मैं बीजेपी से जुड़ा हूं।"
मिडिल क्‍लास फैमिली से हैं प्रशांत
- प्रशांत ने बताया कि वह यूपी के फतेहपुर के जहानाबाद कस्बे के रहने वाले हैं।
- वह मिडिल क्लास फैमिली से हैं और पिता खेमराज उमराव पेशे से टीचर रहे हैं।
- भाई-बहनों में सबसे बड़े प्रशांत के छोटे भाई प्रभात बीटीसी करने के बाद जॉब का इंतजार कर रहे हैं।
- एक बहन कानपुर मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस कर रही है।
आईएएस बनना चाहते थे
- प्रशांत ने बताया कि उन्‍होंने इंटर तक फतेहपुर में ही पढ़ाई की। शुरुआती शिक्षा सरस्वती शिशु मंदिर में तो ग्रेजुएशन इलाहाबाद से किया।
- "नोएडा से एमबीए करने के बाद लॉ किया और फिर दिल्ली में वकालत शुरू की। इंटर तक मैंने यही सोचा था कि आईएएस बनूंगा।"
- "इसीलिए ग्रेजुएशन इलाहाबाद से किया ताकि तैयारी भी कर सकूं। लेकिन बाद में मन बदल गया और एमबीए कर लिया।"
कार्पोरेट कल्चर समझ नहीं आया, इसलिए छोड़ दी नौकरी
- प्रशांत ने बताया कि एमबीए करने के बाद गुड़गांव में कुछ दिनों तक ई-कॉमर्स कंपनी में भी जॉब की, लेकिन कार्पोरेट कल्चर समझ में नहीं आया।
- "बंध कर काम ठीक नहीं लगा, तब सोचा कि अपना काम शुरू किया जाए।"
- "मैंने केवल एक बार सरकारी जॉब के लिए एयरफोर्स में अप्लाई किया था। रिटेन और इंटरव्यू भी निकाल लिया, लेकिन मेडिकल में छांट दिया गया था।"
- "इसके बाद कभी किसी नौकरी के लिए कोशिश नहीं की।"
आमिर खान, कन्‍हैया कुमार को किया परेशान
- जब आमिर खान की फिल्म पीके रिलीज हुई थी तो प्रशांत ने ही फिल्म पर हिंदुओं के इमोशंस के साथ मजाक करने का आरोप लगाकर कोर्ट में रिट दाखिल की थी।
- इसके बाद जेएनयू मामले (कन्हैया कुमार को लेकर विवाद) में भी उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट में रिट दाखिल की थी।
- प्रशांत ने सेंसर बोर्ड की प्रेसिडेंट लीला सैम्सन के करप्शन के खिलाफ भी मोर्चा खोला था, जिसके बाद उन्हें पद से हटा दिया गया था।
क्या कहती है फैमिली?
- भाई प्रभात ने बताया कि प्रशांत शुरू से ही टीम लीडर थे। स्कूल में स्पीच देना, मामलों को गंभीरता से लेना और उस पर चर्चा करना इनका शौक था।
- "अब यही क्वालिटी उनके काम में दिख रही है। वह लगातार भ्रष्‍टाचार से जुड़े बड़े मामलों की पोल खोल रहे हैं। हमारे परिवार को उन पर गर्व है।"
क्यों खतरे में है 'आप' के 21 MLA की मेंबरशिप?
- पिछले साल 24 जून को दिल्ली सरकार 21 MLAs को पार्लियामेंट्री सेक्रेटरी अप्वाॅइंट करने वाला बिल लाई थी।
- इसमें कहा गया था कि इन विधायकों को पार्लियामेंट्री सेक्रेटरी बनाए जाने पर इसे लाभ के पद (ऑफिस ऑफ प्रॉफिट) का मामला न माना जाए।
- बीजेपी और कांग्रेस ने इस पर एतराज जताया था। दोनों पार्टियों ने कहा था कि केजरीवाल अपने एमएलए को फायदा देने के लिए ऐसा कर रहे हैं। इलेक्शन कमीशन ने भी सफाई मांगी थी।
- बीते सोमवार को प्रेसिडेंट ने इस बिल को लौटा दिया। अब इन विधायकों की मेंबरशिप भी जा सकती है।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: 21 AAP MLAs in trouble due to prashant patel
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top