Home »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Akhilesh Yadav Increased Yash Bharti Pension Amount

अखिलेश ने यश भारती की पेंशन को 20 हजार से बढ़ाकर किया था 50 हजार: RTI में खुलासा

dainikbhaskar.com | May 14, 2017, 10:50 IST

  • यश भारती पुरस्कारों के लिए संस्कृति विभाग की तत्कालीन मंत्री अरुण कुमारी कोरी और सचिव अनीता मेश्राम ने 20 हजार रुपए मासिक पेंशन की संस्तुति की थी।
    लखनऊ. पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने यश भारती की पेंशन राशि बढ़ाने में मनमानी की थी। एक आरटीआई में खुलासा हुआ है कि संस्कृति विभाग की तत्कालीन मंत्री और विभाग के सचिव की ओर से पेंशन की राशि 20 हजार रखने की संस्तुति की गई थी, लेकिन अखिलेश के आदेश के बाद यह 50 हजार कर दी गई। यह आरटीआई सामाजिक कार्यकर्ता डॉ. नूतन ठाकुर ने संस्कृति विभाग में फाइल की थी।
    सचिवालय से जारी हुआ पेंशन बढ़ाने का निर्देश
    - संस्कृति विभाग से मिजे दस्तावेजों के मुताबिक, यश भारती पुरस्कारों के लिए संस्कृति विभाग की तत्कालीन मंत्री अरुण कुमारी कोरी और सचिव अनीता मेश्राम ने 20 हजार रुपए मासिक पेंशन की संस्तुति की थी।
    - इस सिफारिश की अनदेखी करते हुए सीएम अखिलेश यादव ने पेंशन की राशि को बढ़ाकर 50 हजार रुपए करने का निर्देश दिया।
    - सीएम के निर्देश पर उनके सचिवालय के एक सचिव ने नोटशीट पर पेंशन की राशि बढ़ाने का निर्देश जारी किया।
    बदला गया पेंशन के लिए आवेदन का प्रारूप
    - डॉ.नूतन के मुताबिक, ''दस्तावेजों से यह भी सामने आया है कि पेंशन के लिए आवेदन करने वालों का प्रारूप भी बदला गया।''
    - ''संस्कृति विभाग की मंत्री और सचिव ने यह भी सिफारिश की थी कि पेंशन पाने वाले को यह घोषणा करनी होगी कि उसके पास आय के पर्याप्त साधन नहीं हैं और जीवनयापन के लिए उसे पेंशन की जरूरत है।''
    - ''लेकिन तत्कालीन सीएम अखिलेश ने इन दोनों शर्तों को भी हटाने का निर्देश दिया, जिससे कि धनवान लोगों को भी पेंशन का लाभ मिल सके।''
    - नूतर ठाकुर ने इसे सरकारी धन का दुरुपयोग बताया है।
    मुलायम सिहं ने शुरू किया था यश भारती सम्मान
    - ये अवॉर्ड मुलायम सिंह ने 1994 में शुरू किया था। अवॉर्ड यूपी से ताल्लुक रखने वाले ऐसे लोगों को दिया जाता है, जिन्होंने कला, संस्कृति, साहित्य या खेलकूद के क्षेत्र में देश के लिए नाम कमाया हो।
    - इस अवॉर्ड के तहत पुरस्कार में 11 लाख रुपए के अलावा जिंदगीभर हर महीने 50 हजार रुपए की पेंशन भी मिलती है।
    - ये पुरस्कार अमिताभ बच्चन, हरिवंश राय बच्चन, अभिषेक बच्चन, जया बच्चन, ऐश्वर्या राय बच्चन, शुभा मुद्गल, रेखा भारद्वाज, रीता गांगुली, कैलाश खेर, अरुणिमा सिन्हा, नवाजुद्दीन सिद्दीकी, नसीरुद्दीन शाह, रवींद्र जैन, भुवनेश्वर कुमार जैसी हस्तियों को मिल चुका है।
    योगी ने दिए थे जांच के आदेश
    - योगी सरकार ने यश भारती सम्मान की जांच कराने का फैसला किया था। योगी ने इस पुरस्कारा के संबंध में कहा था- ''ये अवॉर्ड किस आधार पर दिए गए, इसकी जांच होनी चाहिए।''
    - ''उन्होंने कहा कि पुरस्कारों देते समय उसकी गरिमा का भी ध्यान रखा जाना चाहिए। अपात्रों को अनावश्यक सम्मनित करने से पुरस्कार की गरिमा गिरती है।''
    BCCI से ज्यादा मिलती है पेंशन
    - बीसीसीआई कम से कम 25 फर्स्ट क्लास मैच खेलने वाले क्रिकेटर्स को 15 हजार रुपए महीने पेंशन देती है।
    - जिन प्लेयर्स ने कम से कम 100 टेस्ट खेले हैं, उन्हें 50 हजार रुपए हर महीने पेंशन दी जाती है। यश भारती सम्मान पाने वाले को भी इतनी ही पेंशन मिलती है।
    पहले साल इनको दिया गया था यश भारती सम्मान
    #डॉ. हरिवंश राय बच्चन
    #अमिताभ बच्चन
    #जया बच्चन
    #गोपालदास नीरज
    #कैफी आजमी
    #उस्ताद बिस्मिल्ला खां
    (इनके अलावा 24 और लोगों को पहले साल यह सम्मान दिया गया था)
  • इस सिफारिश की अनदेखी करते हुए सीएम अखिलेश यादव ने पेंशन की राशि को बढ़ाकर 50 हजार रुपए करने का निर्देश दिया।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: akhilesh yadav increased yash bharti pension amount
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top