Home »Uttar Pradesh »Lucknow »News » Interview Of Lucknow Metro Pilot

कभी नहीं चला पाईं स्कूटी लेकिन अब दौड़ाएंगी मैट्रो, पढ़ें इनकी सक्सेस स्टोरी

dainikbhaskar.com | Dec 05, 2016, 10:29 AM IST

लखनऊ मेट्रो का फर्स्‍ट ट्रायल करने वाली प्रतिभा।

लखनऊ. 1 दिसंबर को लखनऊ मेट्रो का फर्स्‍ट ट्रायल किया गया। ये ट्रायल 2 महिला पायलट ने किया। गौर करने वाली बात ये है कि इनमें एक महिला पायलट को स्‍कूटी भी चलाना नहीं आता है। वहीं, दूसरी ने दिल्‍ली मेट्रो में सफर करते समय पायलट बनने का सपना देख लिया था। dainikbhaskar.com ने लखनऊ मेट्रो का फर्स्‍ट ट्रायल करने वाली प्रतिभा और प्राची से बातचीत करके उनके बारे में इंट्रेस्टिंग बातें जानी।

पायलट प्रतिभा एस्‍ट्रोनॉट बनना चाहती थी, बन गईं ड्राइवर

- स्कूटी न चला पाने वाली प्रतिभा ने ट्रायल के पहले कभी मेट्रों नहीं चलाई थी।
- उनका कहना है, मैंने बचपन से एस्ट्रोनॉट बनने का सपना देखा था।
- जब थोड़ी बड़ी हुई तो, पहला मकसद था कि गवर्मेंट जॉब मिले।
- इसी बीच लखनऊ मेट्रो में वैकेंसी निकली, जिसमें मैंने अप्लाई किया। एग्‍जाम दिया और मेरा सिलेक्शन हो गया।
- मेरा सपना जरूर एस्ट्रोनॉट बनना था, लेकिन जब मुझे मेट्रो के फर्स्ट ट्रायल के लिए चुना गया तो मुझे लगा कि मेरा ये निर्णय भी सही था।
- पहली बार जरूर मेट्रो चला रही थी, लेकिन नर्वस नहीं, बल्कि एक्साइटेड थी।
- मेट्रो के ट्रायल के बाद बहुत से फोन आ रहे थे। हालांकि, हमसे फोन रिसीव करने के लिए मना किया गया था।
- मैं एक झटके में मीडिया में चर्चा का विषय बन गई थीं, लेकिन मुझे ये ज्यादा महसूस नहीं हो रहा था।
- मेरे कमरे में न तो टीवी है और न ही मैं सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा एक्टिव हूं।
- शाम को छोटी बहन का फोन आया- दीदी आप तो टीवी में आ रही हैं तब पता लगा कि आज कुछ मैं स्पेशल हूं।

कुछ ऐसा था मेट्रो चलाने का फर्स्‍ट एक्‍सपीरियंस

- प्रतिभा कहती हैं, मुझे एक महीने पहले बताया गया कि फर्स्ट ट्रायल में मेट्रो ड्राइविंग करनी है।
- जब मेट्रो चला रही थी, तो इधर-उधर की बजाय मेट्रो के ड्राइविंग सिस्टम और स्पीड पर फोकस था। हालांकि, मन में अच्छा लग रहा था।
- हमसे कहा गया था कि 25 किलोमीटर की रफ्तार से ज्यादा मेट्रो नहीं चलानी है।
- अभी मेट्रो के स्टेशन भी पूरी तरह से कंपलीट नहीं थे, इसलिए स्टेशन के पहले मेट्रो को रोकना था।
- कुछ जगह बहुत कम, तो कहीं ज्यादा स्पीड में मेट्रो चलाई।
प्रतिभा कभी नहीं भूलतीं अपने पापा की कही वो बात

- प्रतिभा यूपी के इलाहाबाद जिले के फूलपुर की रहने वाली हैं। पापा इफ्को में सीनियर मैनेजर हैं। मम्मी हाउस वाइफ हैं।
- 3 बहनों में सबसे बड़ी हैं। केंद्रीय विद्यालय से इंटर तक की पढ़ाई की।
- इसके बाद बरेली के एमएसआसीई कॉलेज से बीटेक किया।
- प्रतिभा अब्दुल कलाम को अपना रोल मॉडल मानती हैं। इन्‍हें अपने पापा की एक बात हमेश याद रहती है।
- जब उन्‍होंने कहा था- बेटा कोई भी परिस्थिति हो, अपना 100 परसेंट ही दो।


आगे की स्लाइड्स में पढ़ें लखनऊ मेट्रो का फर्स्‍ट ट्रायल करने वाली प्राची ने क्‍या कहा...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: interview of lucknow metro pilot
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        Top