Home »Uttar Pradesh »Lucknow »News » Lucknow District Administration Issue Notice On Chehlum Procession

प्रशासन ने मुस्लिम धर्मगुरुओं को भेजा नोटिस, पूछा- क्यों न बंद कर दिया जाए चेहल्लुम का जुलूस

dainikbhaskar.com | Dec 02, 2016, 12:54 PM IST

प्रशासन ने मुस्लिम धर्मगुरुओं को भेजा नोटिस, पूछा- क्यों न बंद कर दिया जाए चेहल्लुम का जुलूस
लखनऊ.चेहल्लुम के जुलूस को लेकर जिला प्रशासन ने सभी मुस्लिम धर्मगुरुओं को नोटिस भेजा है। इस नोटिस में पूछा गया है कि क्‍यों न अगली बार से पुराने लखनऊ में चेहल्‍लुम के जुलूस को प्रतिबंधित कर दिया जाए? यह नोटिस चेहल्‍लुम के जुलूस के दौरान होने वाली अव्यवस्था और धर्मगुरुओं के द्वारा आपसी समझौते के पालन न करने के संबंध में जारी किया गया है।
जिला प्रशासन ने 7 दिनों में मांगा जवाब
- एडीएम पश्चिमी ने एसीएम की रिपोर्ट पर कार्यवायी करते हुए नोटिस भेजकर 7 दिनों के अंदर लिखित जवाब देने को कहा है।
- नोटिस में कहा गया है कि चेहल्लुम के जुलूस की वजह से भारी अव्यवस्था होती है। जिला प्रशासन की ओर से जारी समय का पालन नहीं किया जाता है। साथ ही मुस्लिम धर्मगुरुओं द्वारा आपसी समझौते का पालन भी नहीं किया जाता।
- इसकी वजह से लोगों को बहुत दिक्कतों का समाना करना पड़ता है।
- जिन शिया धर्मगुरुओं को नोटिस भेजा गया है उनमें मौलाना कल्बे जव्वाद, मौलाना आगा रूही, मौलाना मीसम जैदी, मौलाना सैफ अब्बास, मौलाना हमीदुल हसन, मौलाना यासूब अब्बास और मौलाना कल्बे सादिक शामिल हैं।
क्या है मामला, क्यों भेजी गई नोटिस
- 21 नवंबर को चेहल्लुम का जुलूस निकाला गया था। यह जुलूस 1 बजे नाजिम साहब के इमामबाड़े से निकलकर शाम 6 बजे तक कर्बला तालकटोरा पर खत्म होना था।
- लेकिन जुलूस 2 बजे शुरू होकर कर्बला तक पहुंचने में रात 9 बज गए। जुलूस जिस रास्‍ते से होकर जाना था उसे पूरी तरह से बंद करना पड़ा था, इस वजह से ट्रैफिक व्यवस्था प्रभावित रही और लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।
- इसके बाद एसीएम 2 और एसीएम 6 से इस जुलूस को लेकर रिपोर्ट तैयार की। जिसमें यह कहा गया कि जुलूस में शर्तों का पालन नहीं किया गया। धर्मगुरुओं में आपसी तालमेल की कमी नजर आई। इस वजह से लोगों को दिक्कतें झेलनी पड़ी।
- इसी रिपोर्ट को आधार बनाते हुए एसीएम ने अपनी रिपोर्ट भेजी और अब कार्यवायी हुई है।

क्या है चेहल्लुम का समझौता
- वर्ष 1999 में 22 अप्रैल को शिया-सुन्नी धर्मगुरुओं के बीच हुए समझौते के तहत हर साल 20वीं सफर यानी चेहल्लुम को दोपहर एक बजे से शाम छह बजे तक जुलूस निकालने की अनुमति दी जाती है।
- जुलूस तय समय में पूरा होने पर ही इसकी परमिशन दी जाती है। यही समझौते का अहम बिंदु है।
क्या कहते हैं मौलाना
- मौलाना यूसुफ अब्बास ने कहा हम लोग पूरी तरह से प्रशासन को कोऑप्‍रेट करते हैं।
- नोटिस पर बैठकर बातचीत की जाएगी। हम लोग बात करके मसले का हल निकाल लेंगे।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: lucknow district administration issue notice on chehlum procession
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

    More From News

      Trending Now

      Top