Home »Uttar Pradesh »Lucknow »News» More Than 50 Thousand Workers Are On Strike In Uttar Pradesh

तस्‍वीरों में देखि‍ए भारत बंद का नजारा, लोग सड़कों पर उतरे

Team dainikbhaskar.com | Feb 20, 2013, 11:36 IST

  • लखनऊ. ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर नई पेंशन नीति, जीपीएफ और विभिन्न मांगों को लेकर 20 और 21 फरवरी को आयोजित राष्ट्रीय हड़ताल में यूपी में भी सरकारी अधिकारी- कर्मचारी भी शामिल हो गए हैं। दावा किया जा रहा है कि इस हड़ताल में 18 लाख राज्य कर्मी और 12 लाख केंद्रीय कर्मचारी हड़ताल में शामिल हैं। उधर हड़ताल में यूपी के एचपीसी, आईओसी, बीपीसीएल जैसी पेट्रोलियम कंपनियों के कर्मचारी भी शामिल हो गए हैं। एलपीजी गैस और पेट्रोल डीजल सप्‍लाई ठप हो गई है। लखनऊ के अमौसी में आईओसी प्‍लांट पर प्रदर्शन, कुर्सी रोड पर बीपीसीएल प्‍लांट पर प्रदर्शन, उन्‍नाव में एचपीसी प्‍लांट पर कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे हैं।
    फोटो- विधानसभा के सामने पावर कार्पोरेशन के कर्मचारी प्रदर्शन करते हुए।

    20फरवरी की खास खबरें

    छत्‍तीसगढ़ के मिशन स्‍कूल में फादर ने किया चार छात्राओं के साथ रेप !

    20 सेकंड में डाउनलोड हो जाती है 3 घंटे की मूवी!

    अमानवीयता : पहले बिस्किट खिलाया और फिर गोली मार दी

    स्लीपर में छह बर्थ सिर्फ महिलाओं के लिए, 2250 रु. में कीजिए कहीं भी हवाई सफर

    संघ का सर्वे: मोदी में नहीं है अकेले भाजपा की सरकार बनवा पाने का दम

    टीम इंडिया में सस्‍पेंस: टेंशन में हरभजन, कंगारू अलर्ट!

    चीन पाकिस्तान से रख रहा है भारत पर नजर

    बापू फिर विवादों में, आसाराम के भक्‍तों ने मचाया उत्‍पात

  • हड़ताली कर्मियों ने केंद्र व राज्‍य का पुतला जलाया, जाम लगाया
    आगरा में ट्रेड यूनियन की हड़ताल से आगरा में जनजीवन अस्‍त व्‍यस्‍त हो गया है। सरकारी कर्मचारियों ने बुधवार की सुबह 11 बजे ग्‍वालियर नेशनल हाइवे पर प्रदर्शन किया। केंद्र व राज्‍य सरकार के पुतलों की शव यात्रा निकाली। बाद में पुतलों का दहन किया। करीब आधे घंटे तक ग्‍वालियर नेशनल हाइवे पूरी तरह जाम रहा। इस दौरान दोनों तरफ कई किलोमीटर लंबा जाम लग गया।
    फोटो- आगरा में पुतला फूंकते हड़ताली कर्मचारी।
  • वाराणसी में आज सुबह से ही रोडवेज बस स्टैंड, एलआइसी, बैंक के कर्मचारी तालाबंदी कर नारेबाज़ी करते नजर आये। रोडवेज बस स्टैंड पर इस हड़ताल का खासा असर देखने को मिला। यात्री बस न मिलने के कारण जहां हैरान और परेशान दिखे वहीं इस हड़ताल को कई ऑटोरिक्शा और टैक्सी संघों ने समर्थन दि‍या है।
    फोटो- बनारस में बंद होने से परेशान वि‍देशी सैलानी।
  • बंद का समर्थन करने कानपुर पहुंची सुभाषि‍नी अली ने कहा की देश में सिर्फ तीन वीवीआईपी हैं, फिर 12 हेलीकाप्टर किसके लिए। देश में ठेके पर काम करने वाले मजदूरों को आज भी महज ढाई से तीन हज़ार रुपये में महीने भर गुजर बसर करनी पड़ती है। ये समस्‍या सरकार को नहीं दिख रही और सरकार महंगे हेलीकाप्टर खरीद रही है। सुभाषि‍नी अली ने कहा कि अगर सरकार इनके मांगो के आगे नहीं झुकती है तो आने वाले दिनों में अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।

    फोटो- कानपुर में प्रदर्शन करतीं सुभाषि‍नी अली व अन्‍य वामपंथी संगठन।

  • हड़ताल ने महाकुंभ पहुंचे यात्रि‍यों को कई कि‍लोमीटर पैदल चलने पर मजबूर कर दि‍या है। सबसे ज्‍यादा दि‍क्‍कत बूढ़े लोगों को हो रही है।

    फोटो- इलाहाबाद कुंभ क्षेत्र में बूढ़ी मां को पीठ पर ढोकर ले जाता उसका पुत्र।

  • नोएडा में वामपंथी दलों ने बंद के समर्थन में मशाल जुलूस नि‍काला। इस दौरान जहां जो दुकान या प्रति‍ष्‍ठान खुला मि‍ला, उसे बंद करा दि‍या गया।

    फोटो- नोएडा में मशाल जुलूस नि‍कालते वामपंथी दल व श्रमि‍क।

  • नई दि‍ल्‍ली के रेलवे स्‍टेशन पर भी बंद का व्‍यापक असर देखा जा रहा है। हालांकि शीला दीक्षि‍त सरकार का दावा था कि यात्रि‍यों को कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी, पर बस अड्डे पर परेशान यात्रि‍यों की संख्‍या दि‍ल्‍ली सरकार के दावे को हवाई साबि‍त कर रही है।

    फोटो- नई दि‍ल्‍ली रेलवे स्‍टेशन पर वाहन न मि‍लने पर मायूस महि‍ला।

  • दि‍ल्‍ली में ऑटो रि‍क्‍शा चालकों की भी हड़ताल के चलते सबसे ज्‍यादा दि‍क्‍कत दि‍ल्‍ली आने वाले लोगों को हो रही है। नई दि‍ल्‍ली रेलवे स्‍टेशन पर सैकड़ों यात्री पैदल ही घर जाने को मजबूर हुए हैं।

    फोटो- नई दि‍ल्‍ली रेलवे स्‍टेशन से पैदल जाते यात्री।

  • लखनऊ में आलमबाग बस अड्डे पर बसें खड़ी कर दी गई हैं। यहां पर सैकड़ों यात्री इधर उधर भटककर परेशान हो रहे हैं।

    फोटो- लखनऊ आलमबाग बस स्‍टेशन पर खड़ी बसें।

  • आगरा में मजदूर संघों की इस हड़ताल के चलते नगर की व्यवस्था पूरी तरह चरमराई नजर आ रही है। रोडवेज कर्मचारी संघ के सदस्य मनोज राय ने बताया कि सरकार को 48 घंटे का अल्टीमेटम दिया गया है। अगर मांगे नहीं मानी जाएंगी तो काशी में ये आन्दोलन और उग्र होगा जिसकी गूंज पूरे देश में सुनायी पड़ेगी।

    फोटो- वाराणसी में प्रदर्शन करते हड़ताली कर्मचारी।

  • नोएडा में वामपंथी दलों ने बंद के समर्थन में उग्र प्रदर्शन कि‍या। इस दौरान मशाल जुलूस भी नि‍काला गया। कानपुर में वामपंथी की वयोवृद्ध नेता और पूर्व सांसद सुभाषि‍नी अली ने भी इस हड़ताल में शामिल होकर कर्मचारियो का हौसला बढाया। सुभाषि‍नी अली की माने तो आज पहले दिन की हड़ताल एतिहासिक रहा, सभी सरकारी दफ्तरों में ताले लगे रहे। हर कर्मचारी और मजदूर इस हड़ताल में शामिल हुए।

    फोटो- नोएडा में प्रदर्शन के दौरान बेहोश हुआ श्रमि‍क।

  • यूपी में परिवहन निगम के 50 हजार से अधिक कर्मचारी मंगलवार आधी रात से हड़ताल पर चले गये। इस हड़ताल में संविदा ड्राइवर और कंडक्टर भी शामिल हैं। इस कारण निगम की बसों का चक्का जाम हो गया है। परिवहन निगम कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा एवं रोडवेज मजदूर सभा जेपी गुट का दावा है कि निगम के 50 हजार से अधिक नियमित एवं संविदा कर्मचारी 20 एवं 21 फरवरी को हड़ताल पर चले गए हैं। दूसरी तरफ परिवहन निगम प्रशासन ने चेतावनी देते हुए कहा कि काम नहीं तो वेतन नहीं की व्यवस्था को लागू कर दिया गया है। जो हड़ताली संचालन में व्यवधान एवं तोड़फोड़ करेंगे उनके खिलाफ ‘एस्मा’ के तहत मुकदमा दर्ज कराएंगे।

    फोटो- इलाहाबाद में बंद बैंक।

  • आज उत्‍तर प्रदेश में हर जगह प्रदर्शन जारी है। कर्मचारी अपने दफ्तर तो पहुंचे लेकिन काम करने के लिए नहीं, हड़ताल में शामिल होने के लिए। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी, महामंत्री शिवबरन सिंह यादव और वरिष्ठ उपाध्यक्ष भूपेश अवस्थी ने परिषद की सभी इकाइयों को हड़ताल में पूर्ण भागीदारी के निर्देश दिए हैं।

    फोटो- लखनऊ के जवाहर भवन और इंदिरा भवन के सामने प्रदर्शन करते विभिन्‍न विभागों के कर्मचारी।

  • केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों के खिलाफ दो दिनों के भारत बंद के पहले दिन बिहार के विभिन्न हिस्सों में व्यापक असर पड़ा। सड़क, रेल और व्यापारिक प्रतिष्ठान तो बंद रहे ही सड़कों पर आम राहगीरों को भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ा। बैंक, बीएसएनएल सहित अन्य केंद्र सरकार के दफ्तरों पर ताले लटके रहे। इस बंद से करोड़ों के कारोबार पर असर पड़ा। हड़तालि‍यों ने पटना रेलवे स्‍टेशन पर ट्रेन के इंजन पर कब्‍जा कर लि‍या और ट्रेनें रोक दीं।

    फोटो- पटना रेलवे स्‍टेश पर ट्रेन रोकते एटक कार्यकर्ता।

  • भारत बंद के तहत आज पटना में विभिन्न ट्रेड यूनियनों के कार्यकर्ता सड़क पर उतर आये। पटना सहित नालंदा, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, छपरा, भागलपुर, आरा, बक्सर, मधुबनी, सासाराम आदि जगहों पर बंद समर्थकों के चलते ट्रेन सेवाओं पर असर पड़ा। ट्रेने जहां तहां खड़ी रहीं। वही हाल सड़कों का रहा। बंद समर्थकों के सड़क पर उतर आने के चलते निजी वाहन अत्यंत कम संख्या में चले। पटना की लाइफ लाइन ऑटो भी नहीं के बराबर चले। इससे आम यात्रियों को पैदल ही एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए हलकान होते रहे।

    फोटो- पटना रेलवे स्‍टेशन पर ट्रेन इंजन पर कब्‍जा करते एटक कार्यकर्ता।

  • हरिकिशोर तिवारी के अनुसार विश्व बैंक के दबाव में लगातार केंद्र एवं राज्य सरकार कर्मचारियों-अधिकारियों से विश्वासघात कर रही हैं। सरकार सांसद और विधायकों पर नई पेंशन नीति क्यों नहीं लागू कर रही है। नई नियुक्तियों पर रोक और संविदा कर्मचारियों की नियुक्ति कर बेरोजगारी की समस्या को बढ़ाया जा रहा है।

    फोटो- इलाहाबाद में बैंक बंद कराते बंद समर्थक।

  • बंद का सबसे व्‍यापक असर बैंकों पर देखा जा रहा है। आज बुधवार को बंद के चलते सभी राष्‍ट्रीयकृत बैंक बंद हैं और अरबों रुपये का लेनदेन प्रभावि‍त हुआ है।

    फोटो- इलाहाबाद में बंद बैंक।

  • माना जा रहा है कि इस हड़ताल से 8000 करोड़ का लेनदेन प्रदेश में प्रभावित होने का अंदेशा है। केवल राजधानी लखनऊ में ही 375 करोड़ के लेनदेन प्रभावित होने का अनुमान है। इस दौरान 6500 एटीएम प्रदेश में और लखनऊ में 800 एटीएम चालू रहेंगे। लेकिन प्रदेश की 6500 शाखाएं और 67000 कर्मी शामिल हैं।

    फोटो- इलाहाबाद में बैंक के सामने नारेबाजी करते हड़ताली कर्मचारी।

  • उधर यूपी सरकार ने हड़ताल के दौरान सुरक्षा के प्रबंध के साथ ही रेल और सड़क यातायात सुचारु रखने के आदेश दे दिए हैं। प्रदेश के आईजी कानून-व्यवस्था बद्री प्रसाद सिंह ने बताया कि सभी जिलों के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को कहा गया है कि वे विशेष सतर्कता बरतें और कानून-व्यवस्था को प्रभावित न होने दें। ऐसे कर्मचारी जो काम करना चाहते हैं, उन्हें दिक्कत न होने दी जाए।

    फोटो- लखनऊ के पीडब्‍ल्‍यूडी के कर्मचारी विभाग के सामने धरना देते हुए।

  • लाख कोशिशों के बावजूद नहीं चली बसें
    कानपुर में दो दिन की देश व्यापी हड़ताल का असर बस डिपो पर भी दिखा। उत्तर प्रदेश रोडवेज़ के कर्मचारियों ने रात 12 बजे चक्का जाम कर दिया। बसों की हड़ताल से महाकुम्भ में जाने वाले यात्रियों के साथ अन्य यात्रियों को भी खासी परेशानियों का सामना करना पड़ा।
    फोटो- कानपुर बस स्‍टेशन पर चि‍पका पोस्‍टर।
  • इलाहाबाद महाकुंभ आए यात्री जैसे तैसे प्राइवेट वाहनों को डबल कि‍राया देकर अपने गंतव्‍य को जाने को मजबूर हैं। लोगों को ट्रैक्‍टर, जुगाड़ या जो भी वाहन मि‍ल रहा है, उसी से अपने गंत्‍वय को जा रहे हैं।

    फोटो- इलाहाबाद में बस की छत पर बैठकर यात्रा करने को मजबूर लोग।

  • वाराणसी में रात 12 बजते ही रोडवेज के कर्मचारियों ने जो बस जहां थी, वही खड़ी कर दी। इतना ही नहीं, बसें चल न सकें, इसके लि‍ए कई बसों के टायर भी पंचर कर दिए गए। रोडवेज के एक अधिकारी अम्बे त्रिपाठी से बात की तो उन्होंने कहा कि यात्रियों को असुविधा ना हो इसके लि‍ए सरकार की तरफ से अतिरिक्त बस चलाने की बात की गई है।
    फोटो- सूना पड़ा कानपुर रोडवेज स्‍टेशन।
  • उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के यूनियन के नेता लज्जा राम का कहना है कि हड़ताल करना उनकी मजबूरी है क्योंकि परिवहन निगम हर महीने करीब 25 करोड़ और सालाना लगभग 300 करोड़ का नुकसान कब तक सहन करेगा। निगम को डीज़ल महंगा दिया जा रहा है। निगम यात्रियों का किराया बढ़ाने में भी असमर्थ है इसी कारण हड़ताल की जा रही है। उधर इस हड़ताल में लगभग सभी बैंक और सरकारी दफ्तरों पर काम पूरी तरह से ठप्प है।

    फोटो- कानपुर रोडवेज पर बस का इंतजार करते परेशान यात्री।

  • आगरा में स्‍थानीय बसें नहीं चलने से परिवहन व्‍यवस्‍था चरमरा गई है। आगरा की लाइफ लाइन माने जाने वाली एमजी रोड पर लोगों को पैदल या रिक्‍शे से जाना पड़ रहा है। रोड पर पैदल चलने वालों का काफिला निकल रहा है। ज्‍यादा दिक्‍कतें ताजमहल जाने वाले पर्यटकों को हो रही हैं।

    फोटो- आगरा में प्रर्दशन करते कर्मचारी।

  • वाराणसी के पीएनबी बैंक के मैनेजर शिवशंकर सिंह ने बताया कि 11 सूत्रीय मांगों के अलावा दो महत्वपूर्ण मांगे ये है कि सरकार वेतन विसंगतियों को जल्द ठीक करे और मृतक आश्रित नौकरी की समुचित व्यवस्था करे। वहीं डाक विभाग हेड पोस्ट मास्टर ज्योति बाबू बताते हैं कि सरकार द्वारा अनदेखी की वजह से आज करोड़ो लोग सड़कों पर हैं। डाक विभाग ने भी हड़ताल का समर्थन किया है।

    फोटो- बनारस रोडवेज पर खड़ी बसें।

  • इलाहाबाद में रोडवेज बस अड्डे पर सैकड़ों यात्री अपने घर जाने का इंतजार कर रहे हैं पर वहां बंद के चलते बसों की कोई व्‍यवस्‍था नहीं है।

    फोटो- इलाहाबाद बस अड्डे पर परेशान यात्री।

  • बंद का सबसे व्‍यापक असर बैंकों पर देखा जा रहा है। आज बुधवार को बंद के चलते सभी राष्‍ट्रीयकृत बैंक बंद हैं और अरबों रुपये का लेनदेन प्रभावि‍त हुआ है।

    फोटो- इलाहाबाद में बंद बैंक।

  • अंबाला में भारत बंद के दौरान हिंसक प्रदर्शन हुआ। इसमें एक शख्स की मौत हो गई।

  • अंबाला में प्रदर्शनकारियों से गुहार करता बस ड्राइवर

  • कार में तोड़ फोड़ करते प्रदर्शनकारी

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: more than 50 thousand workers are on strike in uttar pradesh
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top