Home »Uttar Pradesh »Mahakumbh 2013 »News» Amazing Story Of Baba Snow In Maha Kumbh

PICS: बर्फ में 11 साल तपस्या करने वाले 'बाबा बर्फानी' की अद्भुत कहानी

आशीष राय | Feb 04, 2013, 10:26 IST

  • कुंभ कैंपस. संगम तट पर लगे आस्था के मेले में आए अजब-अनोखे बाबा अपने कारनामों से लोगों को दांतों तले उंगलियां दबाने पर मजबूर कर रहे हैं। ऐसे ही एक बाबा है निरंजनी के शाही द्वार पाल और बाबा बर्फानी के नाम से मशहूर हो चुके हरियाणा के रहने वाले बाबा शिव भारती जी महाराज।
    बाबा बर्फानी पिछले 50 साल से निरंजनी अखाड़े से जुड़े हुए हैं। उन्होंने अपने योग और तप के बल पर अपने जीवन के 11 साल हिमालय की बर्फ़ में तपस्या कर के बिताया। उनको हिमालय की बर्फीली हवाएं भी नहीं हिला पाईं। कई बार बाबा का पूरा शरीर बर्फ के रूप में तब्दील हो गया, लेकिन उन्होंने अपने योग से खुद को ज़िन्दा रखा।
    तस्वीरों की जुबानी बाबा की अद्भुत कहानी...
  • आज से करीब 60 साल पहले हिमाचल प्रदेश के कांगड़ी में एक बालक का जन्म कड़कड़ाती सर्दी के बीच हिमालय के बर्फीले मैदान में हुआ। वह हाड़ कंपाने वाली ठंड के बावजूद जीवित रहा। पांच वर्ष की अवस्था में उनका संपर्क अपने गुरु और निरंज़नी अखाड़े के महंत प्रेम दास से हुआ। तब से वह अध्यात्म की राह पर निकल पड़े। अखाड़े में दीक्षा ली और नाग बने। यहीं उन्हों ने विशेष पूजा और योग सीखी।

  • बाबा ने अपने हठ योग और तपस्या के चलते पूरे के पूरे 11 साल हिमालय की बर्फ पर नंगे बदन तपस्या कर बिताएं।उनको हिमालय की बर्फीली हवाएं भी नहीं हिला पाईं। कई बार बाबा का पूरा शरीर बर्फ के रूप में तब्दील हो गया, लेकिन उन्होंने अपने योग से खुद को ज़िन्दा रखा।

  • बाबा का दावा है कि शरीर को उर्जा देने के लिए उन्होंने बर्फ का ही सहारा लिया। जब कभी भी भूख लगती बाबा मुख के पास की कुछ बर्फ का भोजन कर लेते। इस तरह कठोर तप कर बाबा ने पूरे 11 साल हिमालय की बर्फ में गुजार लिए।

  • भगवान भोले नाथ की तरह कैलाश के बर्फ के मैदान को अपना बिछौना और खुले आसमान को अपना ओढ़ना बना बाबा ने क़रीब 11 साल ठंड में बिताएं। आज भी वह जीवित हैं। सही सलामत हैं। बर्फानी बाबा कहते हैं कि आम आदमी इस अनोखी तपस्या को नहीं कर सकता। इसके लिए कई साल के योग अभ्यास की जरुरत होती है।
  • इसी तपस्या के बल पर ही आज तक बाबा को कोई रोग बाधा नहीं हुई। उनसे मिलने वालों की भीड़ लगी रहती है। वह आज भी कड़ाके की ठंड में बिना कपड़े के रहते हैं।

  • भोजन के वक्त सुबह और शाम बर्फ का एक टुकड़ा ज़रूर खाते हैं। भक्तों को प्रसाद में भभूत देते हैं।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: amazing story of Baba Snow in maha kumbh
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top