Home »Uttar Pradesh »Varanasi» Book On Petrol Price Hike Become Famous On Google

PICS: ''Google''पर छाई ये कि‍ताब, क्‍या है इसमें खास

Amit Mukherjee | Nov 23, 2012, 10:22 IST

  • वाराणसी. दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल पर इन दिनों काशी के एक अर्थशास्त्री ने खूब धूम मचा रखी है। साधारण से दिखने वाले यह महोदय अपने असाधारण दि‍माग की वजह से रसियन और फ्रेंच गूगल पर खासी चर्चा में हैं। अर्थशास्त्री मिथलेश झा की 2 किताबें 2009 से गूगल पर खूब पढ़ी जा रही हैं। और ऐसा होना भी लाजमी था क्‍योंकि‍ मि‍थलेश झा ने दुनि‍या के सबसे हॉट टॉपि‍क माने जाने वाले पेट्रोल की महंगाई कम करने के उपाय जो बताए हैं।
  • अर्थशास्त्री मिथलेश झा बताते हैं कि‍ 2004 से वो लगातार भारतीय अर्थव्यवस्था पर रिसर्च कर रहे हैं। 2006 में उन्होंने अपनी पहली रिसर्च को किताब की शक्ल में बाज़ार में उतारा, जिसका नाम ''पेट्रोल आसान है कीमत गिराना'' है। अर्थशास्त्री मिथलेश झा बताते हैं कि जब-जब देश में पेट्रोल की कीमत बढ़ती है, महंगाई भी बढ़ती है। ऐसे में भारतीय तेल कंपनि‍यां घटते भाव पर बड़े सौदे कर ऊंचे भाव पर माल बेचकर मुनाफा कमा सकती हैं। उन्हें वायदा कारोबार (फ्यूचर ट्रेडिंग) की चाल पकड़नी होगी।

  • अर्थशास्त्री मिथिलेश झा के मुताबिक लंदन और न्यूयॉर्क ऑयल एक्सचेंज में चलने वाले वायदा कारोबार में पूंजीपतियों के हाथों तेल का खेल चल रहा है और इस खेल से पूरी दुनिया को नाचने पर मजबूर किया जा रहा है। मिथलेश झा के अनुसार भारत सरकार हमेशा छोटा एग्रीमेंट करती है। उदाहरण के तौर पर 2005 में रूस से ऑफर आया था अग्रीमेंट करने को, मगर ध्यान नहीं दिया गया। अगर ये समझौता लम्बे समय के लिए किया जाता तो अरबों का फायदा होता।

  • मिथलेश झा बताते हैं कि हमारा देश रियल मार्केट को फालो करता है, जबकि इस मार्केट के पीछे वायदा कारोबार (फ्यूचर ट्रेडिंग) की बहुत बड़ी भूमिका है। दुनिया के दिग्गज देश फाल्स मार्केट को फालो करते हैं, जहां ब्रोकरों का राज है। सबसे पहले हमारे देश को इस बाज़ार नीति को समझना होगा। ''पेट्रोल आसान है कीमत गिराना'' किताब में पेट्रोल और वायदा कारोबार के क्षेत्र में पूर्वानुमान को दर्शाया गया है।

  • इन किताबों में इस बात का भी उल्लेख है कि कच्चे तेल के बाज़ार में कैसे सट्टेबाजों का जलवा है। मिथलेश झा बताते हैं कि‍ उन्होंने इन किताबों को सोनिया गांधी, एबी वर्धन, एलके आडवाणी, राजनाथ सिंह, पी चिदंबरम, मुकेश अम्बानी तक को भेजा है। उनका कहना है कि पब्‍लि‍शर के जरिये उनकी किताबें गूगल तक पहुच गयी हैं जो अब पूरी दुनिया में पढ़ी जा रही हैं। इसी महीने के आखिर में संभवतः अरविंद केजरीवाल से भी नीतियों को लेकर मुलाकात हो सकती है।

  • मिथलेश झा ने बताया कि वायदा कारोबार (फ्यूचर ट्रेडिंग) एक प्रकार का कृत्रिम व्यापार चक्र है। इसमें ज्यादातर खरीदार एवं बेचने वाले हवा में ही माल खरीदते और बेचते हैं। इसका पूरा-पूरा असर वास्तविक व्यापार चक्र पर पड़ता है। बीएचयू इकोनोमिक्स डिपार्टमेंट की प्रो.किरन बर्मन का भी मानना है की जो नीतियां मिथलेश झा की हैं, उसको काटा नहीं जा सकता। बल्कि अंतराष्ट्रीय बाज़ार में सट्टेबाज़ कैसे हावी है इसको बखूबी दर्शाया गया है। इकोनोमिक्स डिपार्टमेंट प्रो.राजेंद्र राय ने बताया कि‍ मिथलेश झा की किताबों को ग्लोबल लेवल पर लोग नेट पर पढ़ रहे है।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: book on petrol price hike become famous on google
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Varanasi

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top