Home »Uttar Pradesh »Gorakhpur» Open Ghosts Hospital In Gorakhpur

PIX: यहां खुला 'भूतों' का अस्पताल, कीचड़ में यूं हो रहा इलाज!

anuraag singh | Dec 11, 2012, 11:48 IST

  • गोरखपुर. क्या आप असहनीय दर्द से परेशान हैं? क्या आपका बुखार महीनों से कम नहीं हो रहा? यदि आपकी इन बीमारियों पर दवाओं का असर नहीं हो रहा है तो आपका इंतज़ार कर रहा है कीचड़ से भरा ये कुआं। यहां आपका इलाज करेंगे तांत्रिकों द्वारा काबू किये गए भूत-प्रेत। मान्यता के मुताबिक, गोरखपुर जिले के खोराबार के रायगंज गांव में एक ऐसा अस्पताल खुला है जहां पर मरीजों का इलाज डाक्टर करते हैं। इन्हें तांत्रिकों ने काबू कर रखा है।
    तस्वीरों में देखिए अनोखा इलाज...
  • रायगंज गांव में पिछले कुछ हफ़्तों से मेला लगा हुआ है। यहां पर तरह-तरह के रोगों से पीड़ित मरीज़ आतें हैं। कीचड़ के एक गड़हे/कुएं में छलांग लगाते हैं। उनका इलाज वहां रहने वाले भूत-प्रेत करते हैं।

  • इसमें मरीजों को ना तो कोई टेबलेट या सिरप दिया जाता है ना ही कोई इंजेक्शन लगता है। इसमें छलांग के बाद से इलाज की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। डरावनी आवाजों के साथ भूतों और मरीजों का खेल जो दिन-रात चलता रहता है। यदि भूतों के इस गड़हे में झूमने के बाद भी मरीज को आराम नहीं मिलता है तो फिर उनकी पीठ पर भूतही छड़ी से तांत्रिक पिटाई करता है।

  • इस पूरे अन्धविश्वास और झांड-फूंक के खेल में शामिल एक तांत्रिक बेचू के मुताबिक, तांत्रिको द्वारा इस तरह का इलाज कोई नया नहीं है। यह वहां से शुरू होता है जहां डाक्टर फेल हो जाता है। इस कीचड़ के कुएं में उन्होंने भूत-प्रेत बांध रखें हैं। जो हर लेते है मरीजों के दर्द और रोग। वो लोग भगवान के आदेश पर ये सेवा दे रहे हैं।
  • बेचू जैसे तांत्रिक इस कीचड़ के कुएं में भूतो के नाम पर मरीजों के स्वास्थ्य से खेल रहे हैं, वहीं उनके जाल में फंसे मरीज़ और उनके परिजन इन तांत्रिकों को भगवान की संज्ञा दे रहे हैं।

  • गोपालगंज (बिहार) से दर्द के इलाज के लिए आने वाली जमुनिया, बिहार के सिवान से आये बुखार से पीड़ित सोमारू और महाराजगंज जिले से अपने बच्चे के इलाज के लिए आने वालीं अमरावती पाल को इस इलाज प्रक्रिया पर पूरा विश्वास है।

  • गांव के शिक्षित गोविन्द सिंह के मुताबिक, लगातार विरोध के बावजूद इस खेल को इसलिए नहीं बंद करवा पा रहे हैं क्योंकि इसमें गांव के लोगों के अलावा बाहर से आरहे लोगों अंधविश्वास मजबूत है। इसलिए ये लोग समझदारी की बात सुनने के लिए भी तैयार नहीं हैं।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Open ghosts hospital in gorakhpur
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Gorakhpur

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top