Home »Uttar Pradesh »Agra» Sadhvi Chidarpita Says That People Does Not Understand The Difference

PICS: वि‍वाहि‍त होने पर भी साध्‍वी होने पर फख्र है:चि‍दर्पिता

Sanmay Prakash | Dec 08, 2012, 01:05 IST

  • आगरा.साध्वी चिदर्पिता का कहना है कि साधु या साध्वी का विवाहित होना वर्जित नहीं है। उन्होंने dainikbhaskar.com से कहा, ‘कई लोग ऐसे हैं जो साधु होने के साथ-साथ गृहस्थ जीवन में भी रहे। साधु और सन्यासी में काफी फर्क है, जिसे लोग समझ नहीं पा रहे हैं। सन्यासी शंकराचार्य होते हैं। वे आजीवन अविवाहित होते हैं। लेकिन महिलाओं का सन्यासी जीवन वर्जित है।
  • महिलाएं सन्यास नहीं ले सकती हैं, हालांकि साध्वी बन सकती हैं। रामकृष्ण परमहंस हिन्दु धर्म के सबसे बड़े उदाहरण हैं, जो साधु होने के बावजूद गृहस्थ थे। आशाराम बापू भी गृहस्थ जीवन से ही वापस साधु जीवन में आए।’ उन्होंने कहा कि उनपर सवाल उठाने वाले लोग एक महिला के विवाह कर लेने से दुखी प्राणी मात्र है।

  • यह पूछे जाने पर कि आपको किसने साध्वी का दर्जा दिया, चिदर्पिता ने कहा, ‘मैं हमेशा मन से साध्वी रही हूं। जब 12-13 वर्ष की उम्र में
    लड़के-लड़कियों से लोग पूछते हैं कि वह क्या बनना चाहते हैं, तो हमेशा जवाब मिलता है डॉक्टर या इंजीनियर। लेकिन किशोरावस्थान से ही मेरा जवाब था – साध्वी । मैं मन से हमेशा खुद को साध्वी ही महसूस करती थी। बाद में मैं आश्रम में गई। वहां साध्वी के तौर पर रही। आज भी विवाहित होने के बावजूद नाम के आगे साध्वी लगाता फख्र महसूस करती हूं।’ इस सवाल का जवाब साध्वी ने भले ही शांत स्वर में दिया, लेकिन शब्दों में वेदना मसूस हो रही थी।
  • साध्वी की उपाधि के न मिलने के सवाल को पहले तो चिदर्पिता टाल गई। लेकिन बाद में उन्होंने कहा, ‘साध्वी की उपाधि अखाड़ों से मिलती है। उनका मामला निर्वाणी अखाड़े से जुड़ा है।‘ इसके बाद चिदर्पिता निर्वाणी अखाड़े के सवाल पर कुछ नहीं बोला। चिदर्पिता ने खुशी जताते हुए कहा कि कुंभ में इस बार साध्वियों ने धर्म ध्वजा फहराया है। पहली बार महिलाओं के साथ अखाड़े ने ऐसा सुखद व्यवहार किया है। जूना अखारे का यह फैसला स्वागत योग्य है। वह हर बार कुंभ में गंगा स्नान को जाती हैं और इस बार भी साध्वी के तौर पर वहां जाएंगी। चिदर्पिता से बातचीत से पहले पति बीपी गौतम ने Dainikbhaskar.com के सवाल पूछे। इसके बाद उन्होंने चिदर्पिता से बात करवाई।

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: sadhvi chidarpita says that people does not understand the difference
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Agra

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top