Home »Jharkhand »Ranchi »News » Jharkhand Band: Girls Had Blocked Roads

सड़क पर आकर यूं बैठ गईं ये लड़कियां, देखते ही देखते लगी गाड़ियों की लाइन

dainikbhaskar.com | Dec 03, 2016, 09:39 AM IST

गुमला में सड़क जाम करतीं गर्ल्स स्टूडेंट‌्स।

गुमला(झारखंड)।आदिवासी संगठनों द्वारा शुक्रवार को बुलाए गए झारखंड बंद का मिलाजुला असर दिख रहा है। गुमला में लाठी-डंडे से लैस कुछ गर्ल्स स्टूडेंट्स भी सड़क पर आ गईं और सड़क जाम कर दी। इस दौरान उन्हें सड़क से हटाने में पुलिस को खासी मशक्कत करनी पड़ी। ट्रेन भी रोकी गई...

- बंद समर्थकों ने रांची-लोहरदगा सेक्शन के रांची के मांडर स्थित टांगर बसली स्टेशन के समीप रांची-लोहरदगा पैसेंजर ट्रेन को रोक दी। करीब आधे घंटे बाद ट्रेन को रवाना किया जा सका।
- 25 नवंबर को झारखंड बंद के दौरान उपद्रवियों ने जो रवैया दिखाया था, उसे देखते हुए कई बड़ी दुकानें बंद हैं।
- इधर, गुमला में बंद का काफी असर देखने को मिल रहा है। वाहनों का परिचालन ठप है और शहर की कई दुकानों पर ताला लटका हुआ है।
- वहीं, बंद के समर्थन में गर्ल्स स्टूडेंट्स ने रांची-गुमला सड़क को जाम कर दिया। इससे देखते ही देखते काफी गाड़ियों की कतार लग गई।
- सड़क पर बैठीं स्टूडेंट्स को वहां से हटाने के लिए मौके पर पहुंची महिला पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी।
एक्ट का समर्थन क्यों
-यह आदिवासियों की भूमि के लिए बनाया हुआ एक कानून है। सीएनटी (छोटानागपुर टेनेंसी एक्ट) और एसपीटी (संथाल परगना टेनेंसी) में संशोधन का प्रस्ताव झारखंड कैबिनेट की बैठक में पास हुआ।
-सरकार का तर्क है कि एक्ट में संशोधन से आदिवासी इलाकों में जमीन का स्वरूप बदलने से रोजगार के नए अवसर उपलब्ध होंगे।
-आदिवासियों की आर्थिक आमदनी बढ़ेगी, वे अपनी जमीन पर खुद के छोटे उद्योग-धंधे कर सकेंगे।
-कृषि पर आधारित उद्योग लगाने में भी आसानी होगी। जमीन का आर्थिक महत्व बढ़ेगा तो पलायन पर रोक लगेगी।
-आदिवासी इलाकों में नए शिक्षण संस्थान खुलेंगे, जिससे स्थानीय बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा।
विपक्ष क्यों कर रहा विरोध
-विपक्षी दलों का मानना है कि सीएनटी और एसपीटी अधिनियम में संशोधन से आदिवासियों और मूलवासियों को नुकसान होगा।
-कृषि भूमि का गैर कृषि उपयोग किए जाने के लिए अधिनियम में हुए संशोधन से रैयतों का जमीन पर अधिकार नहीं रह जाएगा।
-सीएनटी और एसपीटी आदिवासी और मूलवासियों की जमीन को सुरक्षा कवच प्रदान करता है।
-उनका मानना है कि संशोधन से यह कवच ही समाप्त हो जाएगा और उनकी जमीन औद्योगिक एवं कॉर्पोरेट घरानें को चली जाएगी।
आगे की स्लाइड्स में देखिए फोटोज...
फोटो : नितिन चौधरी।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Jharkhand Band: girls had blocked roads
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        Top