Home »Jharkhand »Ranchi »News» Men Back After Declared Dead In Gadhwa Jharkhand

एक साल पहले कार में जलाकर जिसे मार दिया गया था, वह जिंदा लौट आया

Bhaskar News | Apr 21, 2017, 12:04 IST

  • हरिशंकर सिंह से पूछताछ करती गढ़वा और फैजाबाद की पुलिस।
    गढ़वा (झारखंड)।उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में एक साल पहले अपहरण के बाद अपने ही कार में जलाकर मार डाला व्यक्ति जिंदा निकला। मंगलवार को अचानक वह गढ़वा जिले के मेराल थाना पहुंचा और अपने अपहरण की पूरी कहानी बताई। उसने अपना नाम हरिशंकर सिंह बताया, लेकिन उसकी कार कैसे जली और उसमें पड़ा शव किसका था यह नहीं बता पाया। परिजनों ने पहचानी थी लाश...
    - मृतक की पत्नी संगीता सिंह और बेटे प्रभात कुमार सिंह ने अपने वेगन आर कार और उसमें पड़े शव की पहचान हरिशंकर सिंह के रूप में की थी। घटना 11 मई 2016 की है।
    - मेराल पुलिस ने इसकी जानकारी फैजाबाद पुलिस को दी। गुरुवार को फैजाबाद कैंट थाने की पुलिस मेराल थाना पहुंची और उसे अपने साथ ले गई।
    यह है पूरी कहानी
    - हरिशंकर ने बताया कि लगभग एक साल पहले फैजाबाद से उसका अपहरण हो गया था। अपराधियों ने एसे एक वर्ष तक नशे की दवा खिलाकर अलग-अलग जगहों पर रखा।
    - वह मंगलवार को उनके चंगुल से किसी तरह छूट कर भाग निकला। भागने के बाद जब उसकी मुलाकात पहले व्यक्ति से हुई तो उसने मदद की गुहार लगाई। उक्त व्यक्ति ने कहा कि पास में ही मेराल थाना है। आप वहां चले जाएं।
    - इसके बाद वह थाना पहुंचा और थाना प्रभारी करुणा शंकर दुबे को आपबीती सुनाई। उन्होंने तत्काल इसकी सूचना फैजाबाद थाने को दी। गुरुवार सुबह फैजाबाद कैंट के एसआई संतोष कुमार त्रिपाठी पहुंचे और हरिशंकर सिंह को लेकर फैजाबाद चले गए।
    - सब इंस्पेक्टर त्रिपाठी ने बताया कि हरिशंकर सिंह अपने क्षेत्र का जाना-माना व्यक्ति था। लेबर यूनियन में ऊंचे ओहदे पर थे। साथ ही फैजाबाद में ही वह सहायक पोस्ट मास्टर था।
    - उन्होंने सीसी कर 25 लाख रुपए निकाले थे। इसके साथ ही उन्होंने अपना और मारुति वैगन आर कार का इंश्योरेंस करा रखा था। नॉमिनी पत्नी संगीता सिंह को बनाया था।
    - इस बीच एक घटना घटी जिसमे हरिशंकर की वैगन आर (यूपी 43एम -4778) के साथ एक जला हुआ शव पाया गया। शव बुरी तरह जल चुका था।
    - बावजूद इसके कार और शव की पहचान उसकी पत्नी संगीता सिंह और पुत्र प्रभात कुमार सिंह ने हरिशंकर सिंह के रूप में की। पुत्र प्रभात कुमार सिंह ने अपने पिता की जलाकर मारने की हत्या का मामला अज्ञात लोगों पर दर्ज कराया। प्राथमिकी 11 मई 2016 को दर्ज की गई थी।

    पुलिस ने पोस्टऑफिस का 25 लाख और बीमा राशि हड़पने की साजिश बताया

    - फैजाबाद कैंट थाने के एसआई संतोष त्रिपाठी ने कहा कि हरिशंकर के जिंदा मिलने के बाद यह केस अधिक उलझ गया है। कार में जलकर मरने वाला कौन था।
    - हरिशंकर का अपहरण किन लोगों ने किया। अपहरण के पीछे क्या साजिश थी। यह सब फैजाबाद पुलिस हरिशंकर से बात करने के बाद सुलझाने का प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि हरिशंकर लगातार विवादास्पद बयान दे रहा है। अब जांच के बाद इसमें कुछ कहा जा सकता है।
    - उनके अनुसार फिलहाल यह मामला पोस्ट ऑफिस के 25 लाख रुपए हड़पने के साथ ही कार और हरिशंकर के बीमा की राशि लेने की साजिश लग रही है।
    आगे की स्लाइड्स पर देखें संबंधित PHOTOS :
  • पुलिस थाने में हरिशंकर सिंह।
  • थाने में हरिशंकर सिंह का बेटा प्रभात कुमार सिंह।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Men Back After Declared Dead In Gadhwa Jharkhand
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top