Home »Bihar »Patna » लाल लाल

लाल लाल

Vivek Kumar | Jun 20, 2016, 09:09 IST

पटना. बिहार बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर प्रसाद सिंह और उनकी पत्नी व पूर्व जदयू MLA उषा सिन्हा गिरफ्तार हो गए हैं। दोनों पर बिहार टॉपर घोटाले में शामिल होने का आरोप है। सोमवार को एसआईटी की एक टीम ने दोनों को उत्तर प्रदेश के वाराणसी से अरेस्ट किया। लालकेश्वर से पूछताछ करेगी SIT...
- एसएसपी मनु महाराज ने कहा- "दोनों को पटना लाने के लिए कानूनी प्रक्रिया पूरी की जा रही है।"
- लालकेश्वर और उषा को सीजेएम के कोर्ट में पेश किया जाएगा। इसके बाद उन्हें रिमांड पर लेकर पुलिस पटना लाएगी।
- पटना लाने के बाद एसआईटी की एक अलग टीम इनसे पूछताछ करेगी।
- लालकेश्वर की गिरफ्तारी के लिए एसआईटी की टीम उत्तर प्रदेश समेत अन्य राज्यों में छापेमारी कर रही थी।
10 दिन से वाराणसी में छुपे थे लालकेश्वर
- वाराणसी SSP आकाश कुलहरी ने कहा कि लालकेश्वर और उनकी पत्नी पिछले 10 दिन से यहां छुपे थे।
- 5-6 दिन पहले बिहार SIT की टीम आई थी और उनसे लालकेश्वर के यहां छुपे होने की सूचना दी थी।
- बिहार SIT और यूपी क्राइम ब्रांच की टीम इनकी तलाश कर रही थी।
- सोमवार सुबह दोनों को उनके रिश्तेदार के घर से गिरफ्तार किया गया।
- बिहार सरकार में शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने कहा कि पुलिस अपना काम कर रही है। टॉपर घोटाले के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।
क्या है मामला?

- इंटर आर्ट्स और साइंस के रिजल्ट में वैशाली के भागलपुर के VR कॉलेज के स्टूडेंट सौरभ श्रेष्ठ, राहुल कुमार और रूबी राय ने टॉप किया था।
- एक टीवी चैनल ने साइंस टॉपर सौरभ और आर्ट्स टॉपर रूबी राय का स्टिंग किया।
- वीडियो फुटेज में रूबी राय पॉलिटिकल साइंस को प्रोडिकल साइंस कहती हुई सुनी गई। सौरभ को साइंस का बेसिक नॉलेज तक नहीं था।
- इसके बाद बिहार बोर्ड ने 3 जून को 1 से 5 रैंक तक टॉप किए स्टूडेंट्स को इंटरव्यू के लिए बुलाया।
- रूबी राय इस इंटरव्यू में नहीं आई। वहीं, सौरभ ने इंटरव्यू के दौरान एक सवाल के जवाब में कहा था कि सवाल नहीं पूछिए, सुसाइड कर लूंगा।
लालकेश्वर और उनकी पत्नी पर क्या हैं आरोप
- लालकेश्वर सिंह पर इंटर टॉपर घोटाले में साजिश करने का आरोप है।
- उनपर टॉपरों की कॉपियों को बदलवाने, मनमाने अंक दिलाने, परीक्षा में फर्जी स्टूडेंट्स को बैठाने, अपने हिसाब से कुछ इंटर कॉलेजों को मनचाहा इवैल्यूएशन सेंटर देने, सेंटर डायरेक्टर चुनने और एग्जामिनर चुनने की सुविधा देने का आरोप है।
- इस पूरे घोटाले में गंगा देवी महिला कॉलेज की पूर्व प्रिंसिपल व लालकेश्वर की पत्नी डॉ. उषा सिन्हा की भी इन्वॉलवमेंट सामने आई है।
- आरोप है कि वो इंटर कॉलेजों के प्रिंसिपल को अपने घर पर बुलाकर मनमाना रिजल्ट दिलाने की डील करतीं थी।
- पैसे की डिमांड उनकी तरफ से की जाती थी। बिहार बोर्ड की कोई भी फाइल बिना उषा की रिकमंडेशन के आगे नहीं बढ़ती थी।
कौन हैं लालकेश्वर?

- बिहार बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष लालकेश्वर सिंह पटना यूनिवर्सिटी के पूर्व प्रोफेसर रहे हैं। इन्हें पटना कॉलेज का प्रिंसिपल भी बनाया गया था।
- हालांकि, लगातार विवादों में रहने के कारण 6 महीने में इन्हें पद छोड़ना पड़ा था।
- 2008 में पटना कॉलेज में इनके खिलाफ हंगामा मचा था।
- यूनिवर्सिटी से रिटायर होने के बाद इनको पॉलिटिकल कनेक्शन के तहत 2014 में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के चेयरमैन का पद मिला था।
- इसमें तत्कालीन विधायक और इनकी पत्नी डॉ. उषा सिन्हा का हाथ बताया जाता है।
- डॉ. उषा सिन्हा भी पटना के गंगादेवी महिला कॉलेज की प्रिंसिपल थीं।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: लाल लाल
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Patna

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top