Home »Union Territory »Chandigarh »News» Yuvraj Singh Father Yograj, The Coach Who Discovered Manan Vohra - Untold Fact

​​सिर में लगी गेंद तो बहने लगा खून, आंसू देख कोच ने मारा था मनन को थप्पड़

Vikas Sharma | Apr 18, 2017, 18:41 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

मनन वोहरा और इनसेट में कोच योगराज सिंह। दोनों ही चंडीगढ़ से ताल्लुक रखते हैं।

चंडीगढ़. सोमवार 17 अप्रैल को खेले गए आईपीएल मैच में पंजाब की तरफ से शानदार खेल का प्रदर्शन करने वाले मनन वोहरा की जमकर तारीफ हो रही है। पूर्व क्रिकेटर से लेकर उनके फैंस तक इसे आईपीएल सीजन की बेस्ट पारी बता रहे हैं। वोहरा ने सन राइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 50 गेंदों पर तूफानी 95 रन बनाए थे। लेकिन मनन के कोच योगराज सिंह उनकी इस पारी से खुश नहीं है। dainikbhaskar.com से बातचीत में योगराज ने मनन की लाइफ से जुड़ी कई बाते शेयर की...
- क्रिकेटर युवराज सिंह के पिता योगराज सिंह मशहूर एक्टर और पूर्व क्रिकेटर हैं।
- योगराज सिंह मनन को तब से कोचिंग दे रहे हैं जब मनन महज 8 साल के थे।
- उन्होंने कहा कि मनन काफी मेहनती है। लेकिन कई बार किस्मत भी साथ देनी चाहिए।
- योगराज ने कहा कि मेरी उससे रोजाना फोन पर बात होती है और अब उसकी इस पारी को ही ले लीजिए।
- उसने मुझे फोन किया और कहा कि सॉरी सर में टीम को जीता नहीं सका।
- मैंने उसे कहा कि अगर आप टीम को नहीं जीता सके तो कोई मतलब नहीं रहा इस पारी का।
- योगराज ने मनन से कहा कि एक क्रिकेटर का अच्छा फिनिशर होना भी बहुत जरूरी है।
- योगराज के मुताबिक, युवराज और मनन में यही फर्क है। युवराज फिनिशर बहुत अच्छा और उसने धोनी, द्रविड और तेंदुलकर के साथ मिलकर कई मैच जिताए हैं।
जरा सा खून निकला तो रोने लगा, मैंने थप्पड़ जड़ दिया...
- योगराज सिंह ने मनन की लाइफ से जुड़ी एक बात शेयर करते हुए कहा कि एक बार मैंने उसे थप्पड़ मार दिया था।

- दरअसल, जब मनन बहुत छोटा था एक बार प्लास्टिक की बॉल उसकी की आंख के ऊपर लग गई और उसे खून आने लगा। वह रोने लगा।

- मैंने उसे एक थप्पड़ जड़ा और कहा डॉक्टर के पास जा, पट्ठी करा और वापस आकर बैटिंग कर।

किस्मत भी कई बार दगा कर जाती है...
- योगराज ने कहा कि हमारे देश में चाय वाला भी तेंडुलकर से लेकर पीएम को सीख देने लगता है।
- वह कहेगा पीएम अच्छा काम नहीं कर रहा। तेंडुलकर अब वो बात नहीं रही। जबकि चाहे खुद को अच्छी चाय तक बनानी नहीं आती हो।
- मनन के साथ भी ऐसा ही हुआ है। उसे कई लोग सलाह देते हैं। इससे वह कई बार कन्फयूज हो जाता है।
- मुझे उसे रोज मोटीवेट करना पड़ता है। कई बार किस्मत भी साथ होनी चाहिए।
- मनन चोटों की वजह से कई मौको पर नहीं खेल पाया। वर्ल्ड कप से पहले एक चोट की वजह से वह टीम में सिलेक्ट नहीं हो पाया।
- युवराज के साथ मिलकर उसने रणजी में कई अच्छी पारियां खेली हैं और अगर थोड़ा सुधार कर लेगा तो जल्द ही वह देश के लिए भी खेलेगा।
आगे की स्लाइड्स में देखें तस्वीरें...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: Yuvraj Singh Father Yograj, The Coach Who Discovered Manan Vohra - Untold Fact
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top