Madhya Pradesh » Bhopal » ओह! तो यह है गोरी मेम की लिपिस्टक का राज!

ओह! तो यह है गोरी मेम की लिपिस्टक का राज!

Pratik Shekhar | Dec 17, 2012, 10:56 IST

भोपाल/श्योपुर।कराहल और इसके आस-पास उगने वाला एक जंगली पौधा (पवार) आदिवासियों की आमदनी का जरिया बन गया है। खासकर साल के दो महीने (अक्टूबर-नवंबर) में तो वे मजदूरी छोड़कर इसी काम में जुट जाते हैं। पवार (केसियोटोरा) की ब्रिटेन और चीन में काफी डिमांड है। ब्रिटेन में पवार खरपतवार का उपयोग पेट से संबंधित बीमारियों की दवाई, सौंदयज़् प्रसाधन की सामग्री (जैसे फेस पाउडर, लिपिस्टिक) बनाने में किया जाता है। वहीं चीन में इसका उपयोग ऑइल पेंट बनाने में होता है। ऑइल पेंट में पवार मिलाने पर दीवारों पर पेंट की चमक फीकी नहीं पड़ती है।


चिकनाई ज्यादा होती है: गोपाल कृष्ण मुदगल, कृषि वैज्ञानिक
पवार में चिकनाई होने के कारण इसका उपयोग चिकनाई वाली सामग्री और दवाएं बनाने में किया जाता है। विदेशों में इसका उपयोग अधिक होता है।


विदेशों में काफी मांग: संदीप शुक्ला, एसडीओ, श्योपुर
विदेशों से इसकी काफी मांग है। इसका उपयोग सौंदर्य प्रसाधन और दवा बनाने में किया जाता है। कराहल से बाहर के व्यापारी इसकी खरीद करते हैं।


चीन,ब्रिटेन भेजते हैं: सोनी अग्रवाल, दीपक ट्रेडर्स
आदिवासियों से खरीदे गए पवार खरपतवार को हम मुंबई और जयपुर भेजते हैं। वहां से इसे चीन और ब्रिटेन भेजा जाता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: ओह! तो यह है गोरी मेम की लिपिस्टक का राज!
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Bhopal

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top