Home »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Union Minister Anil Madhav Dave Passed Away On Thursday

वसीयत के अनुसार नर्मदा किनारे हुआ दवे का अंतिम संस्कार, कई दिग्गज नेता पहुंचे

सुरभि नामदेव/आजाद सिरवैंया | May 19, 2017, 10:39 IST

  • दवे के अंतिम संस्कार की तैयारियों में जुटा प्रशासन।
    भोपाल/होशंगाबाद। केंद्र सरकार में पर्यावरण मंत्री रहे अनिल माधव दवे का दिल का दौरा पड़ने से 61 साल की उम्र में गुरुवार को निधन हो गया। उनकी वसीयत और अंतिम इच्छा के अनुसार शुक्रवार को होशंगाबाद स्थित नर्मदा के तट पर बने बांद्राभान में दवे का अंतिम संस्कार किया गया। पढ़ें पूरी खबर...

    दवे की वसीयत के अनुसार...
    सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अनिल माधव दवे के निधन के बाद गुरुवार को उनकी वसीयत पढ़ी। वसीयत के अनुसार, दवे चाहते थे कि उनका अंतिम संस्कार नर्मदा नदी पर बने बांद्राभान पर हो। उनकी अंतिम इच्छा पूरी करते हुए शुक्रवार को उनका अंतिम संस्कार नर्मदा के किनारे ही किया गया। इसके लिए गुरुवार से ही कलेक्टर अविनाश लवानिया, एसपी आशुतोष प्रताप सिंह सहित पूरा प्रशासनिक अमला तैयारियों में जुट गया था।
    कुछ ऐसी थी व्यवस्था
    अंत्येष्टि के लिए नर्मदा नदी के रेतीले मैदान पर 25 गुणा 25 आकार का अंत्येष्टि स्थल बनाया गया था। लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री आरआर पाटिल ने बताया कि अंत्येष्टि स्थल से लगभग एक किलोमीटर दूर तीन हेलीपेड बनाए गए थे। लोक निर्माण विभाग ने अंत्येष्टि स्थल के पास 25 मीटर में बेरिकेटिंग की गई थी। 25 से 35 मीटर की वीआईपी गैलरी भी बनाई गई थी।
    शामिल हुए कई दिग्गज नेता
    दवे को अंतिम विदाई देने के लिए केंद्रीय मंत्रियों सहित राजनीति जगत की कई बड़ी हस्तियां होशंगाबाद पहुंचीं। उधर, दवे के निधन के बाद केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन को पर्यावरण मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।

    दो दिन का रहेगा राजकीय शोक
    दवे के निधन को राजनीति जगत की बड़ी क्षति बताते हुए राज्यपाल ओपी कोहली ने दो दिन (18 व 19 मई) का राजकीय शोक घोषित किया है। इसके साथ ही 19 मई को लाल परेड ग्राउंड पर होने वाला निगम का कार्यक्रम 'धन्यवाद भोपाल' निरस्त कर दिया गया है। यह कार्यक्रम भोपाल को देश का दूसरे नंबर का स्वच्छ शहर चुने जाने के उपलक्ष्य में आयोजित किया जा रहा था। दवे का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनके भाई अभय दवे, बहन अर्चना, अस्मिता और अतीन सहित अन्य परिजनों की उपस्थिति में किया गया।

    इसलिए दवे ने चुना था बांद्राभान को
    दवे ने नर्मदा नदी को लेकर एक बड़ी मुहिम चलाई थी। नदी और पर्यावरण से उनका लगाव ऐसा था कि उन्होंने भोपाल स्थित अपने घर का नाम भी 'नदी का घर' रख दिया। नर्मदा के किनारे पर बने बांद्राभान पर वे अक्सर नदी महोत्सव का आयोजन कराया करते थे। यह जगह उन्हें इतनी पसंद थी कि उन्होंने अपने अंतिम संस्कार के लिए भी इसे ही चुना। बांद्राभान होशंगाबाद से 10 किमी की दूरी पर स्थित है, जो कि मां नर्मदा और तवा नदी का संगम स्थल भी है।
    आगे की स्लाइड्स पर देखें तस्वीरें...
  • होशंगाबाद स्थित बांद्राभान पर होगा दवे का अंतिम संस्कार।
  • शुक्रवार को राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा दवे का अंतिम संस्कार।
  • बांद्राभान पर दवे के अंतिम संस्कार की तैयारियां करते प्रशासनिक लोग।
  • दवे की अंतिम इच्छा थी कि उनका अंतिम संस्कार नर्मदा किनारे किया जाए।
  • दवे के अंतिम संस्कार में शामिल हो सकते हैं कई दिग्गज नेता।
  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
Web Title: Union Minister Anil Madhav Dave Passed away on Thursday
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top