Home »Madhya Pradesh »Gwalior» सीजन का पहला कोहरा, मौसम में बढ़ गई ठंड

सीजन का पहला कोहरा, मौसम में बढ़ गई ठंड

Sameer Garg | Nov 30, 2016, 10:19 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
ग्वालियर।कोहरे का सीजन अब शुरु हो गया है। लगातार दूसरे दिन भी घना कोहरा देखने को मिला। यह कोहरा वेस्टर्न डिस्टरबेंस और बंगाल की खाड़ी में आए साइक्लोन के कारण बना है। कोहरे के कारण रेल से लेकर हवाई मार्ग और सड़क के ट्रैफिक पर असर पड़ा है। ऐसा था आसमान में कोहरा.......

-मौसम विभाग पिछले कुछ दिनों से तापमान में गिरावट की भविष्यवाणी कर रहा था और दिसंबर से इसकी शुरुआत हो गई है। लगातार तीसरे दिन शुक्रवार को भी कोहरा दिखाई दिया।
-लोगों को पिछले दिनों की तुलना में ज्यादा ठंड भी महसूस हुई। अब अधिकतम तापमान भी 30 डिग्री सेल्सियस के नीचे ही रहेगा।
-रात का तापमान भी 10 डिग्री के आसपास रहने का अनुमान है और कोहरे के कारण सामान्य जनजीवन प्रभावित होगा।
वेस्टर्न डिस्टरबेंस के कारण छाया कोहरा
-मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक वेस्टर्न डिस्टरबेंस सक्रिय हो गया है और इससे पहाड़ों पर बर्फ गिर रही है। इसके अलावा बंगाल की खाड़ी में साइक्लोन सक्रिय है।
-इन दोनों बदलावों के कारण पूरे उत्तर भारत में कोहरा छाया है और ठंड भी बढ़ रही है।

कोहरे से बढ़ी ठंड
-कोहरे के कारण ठंड भी बढ़ गई है और अब ठिठुरन वाली सर्दी की शुरुआत हो सकती है। बुधवार को भी कोहरे के असर दिखाई दिया।
-सड़कों पर वाहन धीमे चल रहे थे और स्कूल जाने वाले बच्चों को ज्यादा परेशानी हुई। स्कूल बसें लेट आईं।
कोहरा क्या है
कोहरा (फॉग) मुख्यत: ठंडी आर्द्र हवा में बनता है और इसके अस्तित्व में आने की प्रक्रिया बादलों जैसी ही होती है। गर्म हवा की अपेक्षा ठंडी हवा अधिक नमी लेने में सक्षम होती है। वाष्पन के जरिए यह नमी ग्रहण करती है। बादल का वह भाग जो ऊपरी भूमि के संपर्क में आता है, कोहरा कहलाता है।
कोहरे की दो श्रेणियां
कोहरा दो श्रेणियों, एडवेक्शन फॉग और रेडिएशन फॉग में बदल जाता है। एडवेक्शन फॉग तब बनता है जब गर्म हवा का एक विशेष हिस्सा किसी नम प्रदेश के ऊपर पहुंचता है। रेडिएशन फॉग तब बनता है जब धरती की ऊपरी परत ठंडी होती है। ऐसा प्राय: शाम के समय होता है।
क्या है पश्चिमी विक्षोभ
पश्चिमी विक्षोभ भारतीय महाद्वीप के उत्तरी इलाकों में सर्दियों के मौसम में आने वाले तूफान को कहते हैं। इसमें वायुमंडल की ऊंची तहों में भूमध्य सागर, अटलांटिक महासागर व कुछ हद तक कैस्पियन सागर से नमी आती है। यह नमी अचानक वर्षा और बर्फ के रूप में उत्तर भारत, पाकिस्तान व नेपाल पर गिरती है। इससे ठंड बढ़ जाती है। उत्तर भारत में रबी की फसल विशेषकर गेहूं के लिए यह तूफान (चक्रवात) अति आवश्यक होता है।
दूसरे सप्ताह से पड़ेगी कड़ाके की ठंड
मौसम वैज्ञानिक एसके गोधा के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ से घना कोहरा निकला है। दिसंबर के दूसरे सप्ताह से कड़ाके की सर्दी का दौर शुरू हो जाएगा। कोहरा भी छाएगा।
कोहरे ने रोकी ट्रेनों की रफ्तार, फ्लाइट लेट
कोहरे ने बुधवार को ट्रेनों की रफ्तार पर ब्रेक लगा दिया। शताब्दी सहित कई ट्रेनें देर से आईं। दिल्ली से आने वाली शताब्दी एक्सप्रेस 2.22 घंटे देर से आने से हबीबगंज से 2.25 घंटे की देर से रवाना हुई है। यह ट्रेन रात करीब 10 बजे ग्वालियर आई। इससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं एयर इंडिया की मुंबई से आने वाली फ्लाइट निर्धारित समय से डेढ़ घंटे देर से आई।
रेल यात्रियों को सलाह
-यात्रा प्रारंभ करने से पूर्व 139 पर अपनी ट्रेन की स्थिति जांच कर ही घर से निकलें, जिससे स्टेशन पर अधिक प्रतीक्षा न करनी पड़े।
-यात्रा के दौरान अतिरिक्त आवश्यक खाद्य सामग्री, शिशु आहार पर्याप्त मात्रा में अवश्य साथ में रखें।
स्लाइड्स में देखिए कोहरे के फोटोज.............
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: सीजन का पहला कोहरा, मौसम में बढ़ गई ठंड
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Gwalior

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top