Home »Madhya Pradesh »Gwalior» IITTM Degree Controversy, Parents Said Study Or Die

12 हजार की डिग्री के लिए 3 लाख रुपए, कॉलेज ने ऐसे किया पूरा फर्जीवाड़ा

प्रदीप बोहरे | Dec 13, 2016, 07:52 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

स्टूडेंट्स और पेरेंट्स ने घेरा IITTM के डायरेक्टर संदीप कुलश्रेष्ठ को

ग्वालियर। स्टूडेंट जब भी डिग्री की जानकारी लेने आता है, उसे अफसर जलील करते हैं। वह रेलवे स्टेशन पर जाकर बैठ गया और मर जाता तो कौन जिम्मेदारी लेता। ऐसे आरोप लगाते हुए कई स्टूडेंट्स के पेरेंट्स भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबंध संस्थान (IITTM) के डायरेक्टर डॉ. संदीप कुलश्रेष्ठ के पास पहुंच गए। यहां भी डायरेक्टर अड़े रहे कि उनकी डिग्री सही है और स्टूडेंट्स से कोई धोखा नहीं किया गया है। यह है मामला...
 
-केन्द्र सरकार के टूरिज्म मंत्रालय का ग्वालियर में IITTM इंस्टीट्यूट है। इसमें स्टूडेंट्स को 2 साल का टूरिज्म मैनेजमेंट में कोर्स कराया जाता है।
-पहले IITTM में पीजी डिप्लोमा था, लेकिन जब कुलश्रेष्ठ डायरेक्टर बने तो उन्होंने एमबीए टूरिज्म मैनेजमेंट कर दिया और डिग्री का अनुबंध अमरकंटक की नेशनल ट्राइबल यूनिवर्सिटी से कर दिया।
-स्टूडेंट्स की मांग है कि ड्रिगी IITTM ही दे, जबकि डायरेक्टर का कहना है कि डिग्री तो ट्राइबल यूनिवर्सिटी की ही मिलेगी।
-इसी बात को लेकर स्टूडेट्स और उनके पेरेंट्स ने IITTM में पहुंचकर जमकर हंगामा किया और डायरेक्टर से जबाव मांगा।
 
क्या कहते हैं स्टूडेंट
-स्टूडेंट्स का कहना है कि जिस डिग्री के IITTM 3 लाख रुपए वसूल रहा है, ट्राइबल यूनिवर्सिटी उसी डिग्री को मात्र 12 हजार रुपए दे रही है। यह धोखा है।
-डायरेक्टर कुलश्रेष्ठ से संतोषजनक जबाव नहीं मिलने के कारण स्टूडेंट्स एसपी के दफ्तर भी पहुंचे और कोर्ट जाने की बात भी कह रहे हैं।
 
मैनेजमेंट बोला स्टूडेंट्स को भड़काया जा रहा है
-इस मामले में संस्थान के डायरेक्टर डॉ. संदीप कुलश्रेष्ठ का कहना था कि उन्होंने विज्ञापन में यूनिवर्सिटी से एमओयू का स्पष्ट प्रकाशन करवाया था।
 -इसके बाद स्टूडेंड्स क्लास में जाकर भी यह बात स्पष्ट कर दी गई थी।
-उनका कहना है कि कुछ छात्र संस्थान के पूर्व अनुबंधित कर्मचारी मनोज प्रताप सिंह यादव के भड़काने पर हंगामा कर रहे हैं। मनोज संस्थान की छवि को धूमिल करने का प्रयास कर रहा है।
 
स्टूडेंट्स व पेरेंट्स ने लगाए ये आरोप
-एक स्टूडेंट के पिता रामप्रताप सिंह  का कहना था जिस यूनिवर्सिटी की यह लोग एमबीए की डिग्री दे रहे हैं, उससे यह डिग्री महज 12 हजार रुपए में मिल जाती है।
-इस डिग्री के लिए आईआईटीटीएम 3.10 लाख रुपए ले रहा है। उन्होंने अपने बेटे को यहां पर आईआईटीटीएम के नाम को देखकर भेजा था अब इस संस्थान की डिग्री नहीं मिलेगी तो उनके बेटे का भविष्य खराब हो जाएगा।
-दूसरे पेरेंट्स  दिनेश रिछारिया का कहना था कि इस मामले में उनके बेटे ने संस्थान प्रबंधन से बात करने की कोशिश की थी तो उसे डराया गया, प्रताड़ित किया गया।
-एक स्टूडेंट के भाई रोहित भल्ला ने डायरेक्टर डॉ. संदीप कुलश्रेष्ठ से कहा कि विज्ञापन में इस बात का कतई उल्लेख नहीं था कि डिग्री आईआईटीटीएम  की जगह पर इंदिरा गांधी नेशनल ट्राइबल यूनिवर्सिटी से दी जाएगी और न ही छात्रों को बाद में बताया गया।
 
पूरे मामले की जांच क्राइम ब्रांच करेगी
-ग्वालियर एसपी ने शिकायत मिलने पर पूरी जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी है। उधर IITTM की ओर से इंस्टीट्यूट में हंगामा करने वाले स्टूडेंट्स के खिलाफ भी पुलिस में शिकायत दी है।
 
विवादों में रहे हैं IITTM के डायरेक्टर
-IITTM के डायरेक्टर डॉ. संदीप कुलश्रेष्ठ स्वयं भी विवादों के घेरे मे रहे हैं। उनके ऊपर आरोप लगते रहे हैं कि उन्होंने गलत तरीके के सर्टिफिकेट लगाकर नौकरी ली। जब कुछ लोगों ने इसकी आवाज उठाई तो उन्हें नौकरी से हटा दिया गया।
-इस मामले में केन्द्रीय मंत्रालय से लेकर कई स्तर पर शिकायतें की गईं, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।
 
स्लाइड्स में देखिए हंगामे से जुड़े फोटोज...........
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: IITTM degree controversy, parents said study or die
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Gwalior

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top