Home »Madhya Pradesh »Gwalior» नए नोटों में ले रही थी यह महिला अफसर रिश्वत, रंगे हाथों पकड़ी गई

नए नोटों में ले रही थी यह महिला अफसर रिश्वत, रंगे हाथों पकड़ी गई

Sameer Garg | Dec 01, 2016, 18:01 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
ग्वालियर। एक स्वसहायता समूह को मिडडे मील का काम बंद करने नोटिस देने के बाद कार्रवाई रोकने के लिए एक महिला अफसर ने 25 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। स्वसहायता समूह का प्रमुख रिश्वत की रकम भी ले आया तो अफसर ने नए नोट में देने के लिए कहा। गुरुवार को नए नोटों के साथ लोकायुक्त पुलिस ने इस महिला अफसर को रंगे हाथों पकड़ लिया और अब उसके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। ऐसे पकड़ी रिश्वतखोर अफसर.......
-यह मामला शिवपुरी का है। यहां पर जिला पंचायत की मध्यान्ह भोजन प्रभारी की मैनेजर कीनल त्रिपाठी हैं। कीनल ने कुछ दिन पहले एक स्वसहायता समूह को मिडडे मील सप्लाई बंद करने का नोटिस दिया था। लापरवाही के चलते नौकरी से हटाने का नोटिस दिया था।
-जब स्वसहायता समूह के संचालक रमेश जाटव ने सप्लाई बहाल करने की बात कही तो कीनल त्रिपाठी ने इसके एवज में 25 हजार रुपए की रिश्वत मांगी और पूरी रकम नए नोटों में देने के लिए कहा।
-इस रमेश जाटव ने ग्वालियर आकर लोकायुक्त पुलिस को इसकी शिकायत कर दी। लोकायुक्त पुलिस ने जाल बिछाया और बातचीत की पूरी रिर्काडिंग कर ली।
एडवांस भी दी रिश्वत की रकम
-रमेश जाटव ने पुराने नोटों में कीनल त्रिपाठी को पांच हजार रुपए एडंवास भी दे दिए और शेष रकम गुरुवार को देना तय हुआ।
-योजना बनाकर गुरुवार की शाम को लोकायुक्त पुलिस की टीम की इंस्पेक्टर शैलजा गुप्ता सहित कई अफसर पहुंच गए।
-जैसे ही रमेश जाटव ने कीनल त्रिपाठी को 20 हजार रुपए दिए, उसने लपेटकर टेबल की दराज में रख लिए। रमेश जाटव और कीनल त्रिपाठी बात ही कर रहे थे, कि लोकायुक्त पुलिस ने छापा मार दिया और नोट बरामद कर लिए।
नए नोटों में ली रिश्वत
-कीनल ने रिश्वत के रूप में 100 के नोटों की एक गड्डी और 2000 के पांच नए नोट लिए थे। अचानक लोकायुक्त को देखकर कीनल घबरा भी गई, लेकिन समझ गई कि उसे रंगे हाथों पकड़ लिया गया है।

3 किमी पैदल चल कर आई टीम
-टीम के साथ आए इंस्पेक्टर राजीव गुप्ता ने बताया कि किसी को भी इसकी कानोंकान भनक न हो जाए इसलिए टीम ने अपनी गाड़ी ग्वालियर वायपास पर ही खड़ी कर दी थी।
- रमेश जाटव ने पहले मोबाइल फोन पर टॉस्क मैनेजर से फोन पर बात कर उसकी रिकार्डिंग कर उसे लोकायुक्त को सौंपा।
-रिश्वत में दिए गए नोट में फिनोटिल डिवाइडर था। जो नोट ड्रॉज से बरामद हुए उसमें रंग लगा था। हांलाकि जब लोकायुक्त ने कीनल के हाथ रंगे तो वे लाल नहीं हुए।

पकड़ी गई तो बोली किसी ने रख दिए एक षड़यंत्र
-लोकायुक्त पुलिस ने जब मद्यान्ह भोजन प्रभारी को रंगे हाथों दबोच लिया तो उनकी पहली प्रतिक्रिया थी कि उनके खिलाफ किसी ने षड़यंत्र किया है और उन्हें फंसाया जा रहा है।
-इसके बाद लोकायुक्त के इंसपेक्टर राजीव ने कहा कि ज्यादा मत बोलो हमारे पार तुम्हारी रिकार्डिंग भी है और चुपचाप से यहां बैठ जाओ। इसके बाद वो चुपचाप बैठ गईं।
-इस मामले में टास्क मैनेजर कीनल त्रिपाठी पर लोकायुक्त टीम ने रिश्वतखोरी का केस दर्ज कर लिया है।
कीनल त्रिपाठी के पास पूरे जिले के मद्यान्ह भोजन का प्रभार है। वो 3 साल पहले उज्जैन से ट्रांसफर होकर शिवुपरी आईं हैं।
स्लाइड्स में देखिए इस महिला अफसर के फोटोज..........
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: नए नोटों में ले रही थी यह महिला अफसर रिश्वत, रंगे हाथों पकड़ी गई
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Gwalior

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top