Home »Madhya Pradesh »Gwalior» Food Safty Team Raids Synthetic Paneer Factory

मिलावट का कारोबारः मिल्क पाउडर और रिफाइंड तेल से बना मिला डेढ़ टन पनीर

dainikbhaskar.com | Apr 23, 2017, 08:07 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

चंबल के मुरैना में मिली सिंथेटिक पनीर की फैक्ट्री में मिला मटेरियल

ग्वालियर। फूड सेफ्टी विभाग ने मुरैना की एक डेयरी पर रात को छापा मारा। इस डेयरी में मिल्क पाउडर और रिफाइंड तेल से पनीर बनता हुआ मिला। डेयरी में स्टोर करके रखा हुआ करीब 1,500 किलो पनीर भी मिला है। इसके पहले भी इस डेयरी में मिलावटी पनीर मिला था, जिसके कारण प्रशासन ने 7 लाख रुपए का जुर्माना भी किया था। यह है मामला.....
- मुरैना से देश के कई हिस्सों में मावा और पनीर की सप्लाई होती है। चूंकि शादियों का सीजन शुरू हो गया है, जिसमें पनीर की खपत बहुत बढ़ गई है।
- मुरैना से ही कई टन पनीर की सप्लाई उत्तर भारत के कई शहरों में होती है। इसी कारण पनीर बनाने का काम जोर-शोर से चल रहा है।
- मुरैना कलेक्टर विनोद शर्मा को खबर मिली कि पनीर की डिमांड होने पर रिफाइंड तेल मिलाकर पनीर बनाया जा रहा है। इसलिए उन्होंने फूड सेफ्टी विभाग के अफसरों से जांच करने के लिए कहा।
- अफसरों ने कई डेयरी की जांच की। इसी दौरान महाराजपुरा इलाके में बनी एक डेयरी में फूड अफसर पहुंचे। यहां पर मोदी की जीके डेयरी है। इस डेयरी में भी जांच की गई।
- जांच में यहां पर कई टिन रिफाइंड तेल और मिल्क पाउडर मिला। निरीक्षण में पाया गया कि रिफाइंड तेल और मिल्क पाउडर से डेयरी में पनीर बनाया जा रहा था। थोड़ी सी मात्रा दूध की मिलाई जाती थी।
इस डेयरी में करीब 1500 किलो पनीर बना हुआ मिला। ये पनीर बनाकर थर्माकॉल की पैकिंग में रखा हुआ था और दूसरे शहरों में भेजने की तैयारी थी।
- अफसरों ने इस पनीर के सैंपल लेकर लेबोरेटरी को भेज दिए हैं और डेयरी मालिक के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।
- फूड ऑफिसर अवनीश गुप्ता ने बताया कि यहां मिलावटी मटेरियल से पनीर बनाया जा रहा था। इसके कारण पूरा सामान जप्त करके सैंपल लेबोरेटरी भेजे गए हैं।
पहले भी हो चुका है जुर्माना
- मोदी डेयरी पर पहले प्रशासन ने मिलावट करने के कारण 7 लाख रुपए का जुर्माना किया था, लेकिन डेयरी मालिक ने अपील कर दी।
- बताया जाता है कि डेयरी मालिक नरेन्द्र मोदी, लंबे समय से यह कारोबार कर रहा है और मावा से लेकर पनीर सभी पदार्थ मिलावट करके बनाए जाते हैं।
ऐसे बनता है सिथेटिक पनीर
- सबसे पहले सिंथेटिक मिल्क पाउडर औऱ सस्ती क्वालिटी के रिफाइंड ऑइल को मिलाकर पेस्ट तैयार किया जाता है। इस पेस्ट को क्रीम और केसीन (प्रोटीन) निकाल कर रखे गए असली दूध में अच्छी तरह से घोला जाता है।
- इस घोल को पनीर निकालने के लिए प्रोसेस किया जाता है। इस तरह सैपरेट किए गए पनीर को चिलर पैन में रख कर ठंडा किया जाता है, और पैकिंग के मुताबिक स्लाइसेज काट ली जाती हैं। इन स्लाइसेज को पैक कर सप्लाई के लिए रख लिया जाता है।
स्लाइड्स में है फैक्ट्री जहां बन रहा था सिंथेटिक पनीर....
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: food safty team raids synthetic paneer factory
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।
 

Stories You May be Interested in

      More From Gwalior

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top