Home »Madhya Pradesh »Indore »News» Fire In Running Bus On Road Indore

बस के अंदर फंसे थे 30 लोग, देखें, क्या हुआ जब धू-धूकर जलने लगी बस

SUMIT Thakkar | Mar 19, 2017, 12:11 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

आग की चपेट में बस स्टॉप भी आ गया था।

इंदौर। बीआरटीएस पर शनिवार को एक आई-बस जलकर खाक हो गई। हादसा शाम करीब 5:45 बजे होलकर साइंस कॉलेज के सामने हुआ। भंवरकुआं की ओर जा रही बस के पिछले हिस्से में एलईडी लाइट की वायरिंग में शॉर्ट सर्किट से आग लगी थी।
हादसे के वक्त बस में 30 से ज्यादा यात्री थे। धुआं देख ड्राइवर-क्लीनर ने बस को फौरन नजदीकी स्टॉप पर रोका और यात्रियों को उतार लिया। दोनों की सूझबूझ से यात्रियों की जान बच गई। इसके बाद वे आग को फायर एक्सटिंग्युशर से बुझाते रहे। हालांकि लपटें तेज होने से मिनटों में बस जलकर खाक हो गई।
यात्री चिल्लाए, कांच में देखा धुआं... और तुरंत बस खाली की
- ड्राइवर हरजिंदर सिंह ने बताया मैं नौलखा चौराहा स्थित स्टॉप से बस लेकर बढ़ा, तब उसमें 30 से ज्यादा यात्री थे।
- होलकर साइंस कॉलेज के सामने वाले स्टॉप से 100 मीटर पहले यात्री चिल्लाने लगे कि वायरिंग में स्पार्किंग हो रही है।
- मैंने साइड मिरर में देखा तो धुआं देखकर तुरंत स्टाॅप पर बस ले गया और तीनों गेट खोल यात्रियों को उतारा।
- आग बढ़ने लगी तो स्टॉप भी खाली करवा लिया था। वहीं, सीईओ सोनी ने बताया घटना के बाद पौन घंटे तक आई-बसें बंद कर दी थीं।
चार साल में ऐसा पहला हादसा
- एआईसीटीएसएल के सीईओ संदीप सोनी ने बताया कि यह बस मोनोकॉक डिजाइन पर तैयार है, जो सुरक्षा मापदंडों पर सबसे आगे हैं।
- इसका डिजाइन ऐसा है कि एक्सीडेंट होने पर भी यात्रियों को कम से कम नुकसान हो। शहर में चार साल से चल रही आई-बसों में अब तक का यह पहला हादसा है।
- सीईओ ने बताया बस में किसी तरह की गड़बड़ी या घटना होने पर स्टाफ इसकी सूचना कंट्रोल रूम पर देता है। इसके आधे मिनट में मदद पहुंच जाती है।
- कॉरिडोर के हर स्टेशन पर चार और चौराहे पर तीन कर्मचारी तैनात रहते हैं। साथ ही कॉरिडोर पर कंट्रोल रूम होने से तुरंत सहायता रवाना होती है।
- सुपरवाइजर पूरे समय कॉरिडोर पर घूमते रहते हैं। बड़ा हादसा इसलिए नहीं हो सकता क्योंकि हर दो से तीन मिनट में बस या तो स्टेशन पर पहुंचती है या चौराहे पर।
मेयर-कलेक्टर ने दिए आग की घटना की जांच के आदेश
- आई-बस में आग लगने की घटना पर एआईसीटीएसएल चेयरमैन व महापौर मालिनी गौड़ और कलेक्टर पी. नरहरि ने जांच के आदेश दिए हैं।
- इसके लिए कमेटी बनाई है, जो पांच बिंदुओं पर पड़ताल कर सात दिन में रिपोर्ट देगी।
- कलेक्टर का कहना है कि बस बनाने वाली कंपनी के एक्सपर्ट्स को भी बुलवाया है। सुरक्षा के लिहाज से पूरे सिस्टम को नए सिरे से देखा जाएगा।
करीब 50 हजार लोग करते हैं रोज सफर
- बीआरटीएस पर शनिवार शाम जिस आई-बस में आग लगने की घटना में 30 से ज्यादा यात्री बाल-बाल बचे, वैसी 42 बसें शहर में चल रही हैं। इनमें राेज करीब 50 हजार यात्री सफर करते हैं।
- ऐसे में हादसे के बाद बस में सुरक्षा के इंतजामों को लेकर कई शंकाएं और सवाल सामने आए। इसी को लेकर भास्कर ने पड़ताल की कि आई-बस में यात्रियों का सफर कितना महफूज है?
- इसमें सामने आया कि यह बस सुरक्षा साधनों से लैस है। बसें संचालित करने वाले एआईसीटीएसल प्रबंधन का भी कहना है कि सबसे ज्यादा ध्यान बस के मेंटेनेंस पर दिया जाता है।
आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करके देखें अन्य फोटोज...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: fire in running bus on road indore
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top