Home »Haryana »Panipat » Heavy Crowd In The Funral Of Martyr Sanjeev Lathar At His Patternal Village Budhkhera

8 साल की सुहानी ने दी शहीद पिता को मुखाग्नि, खुद रोकर मां पोंछती रही सबके आंसू

Surendra Bharadwaj | Dec 02, 2016, 18:52 PM IST

जींद के गांव बूढ़ाखेड़ा लाठर में अंतिम दर्शन करके फूट पड़ी शहीद की पत्नी और मां ने कलेजे पर पत्थर रख ऐसे संभाला बहू को।

जींद। जींद जिले के कस्बा जुलाना के निकटवर्ती गांव बूढ़ाखेड़ा लाठर में शुक्रवार को शहीद मेजर संजीव कुमार लाठर के अंतिम संस्कार के समय पूरे गांव की आंखें नम थी। 8 साल की नन्ही सुहानी ने शहीद पिता को मुखाग्नि दी तो शहीद की मां की आंखों से बहने वाले आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे थे, जबकि वह सबके आंसू पोंछती रही। कह रही थी-अब तो बहू ही मेरा बेटा, दो पोते भी तो हैं...
- बुधवार सुबह पश्चिम बंगाल के सुकना आर्मी कैंप के पास क्रैश हुए हेलीकॉप्टर में भिवानी के मेजर संजीव लाठर समेत 3 अफसर शहीद हो गए थे और एक जेसीओ गंभीर रूप से जख्मी हो गया था।
- हादसा उस वक्त हुआ था, जब 54 गोरखा रेजिमेंट्स की एविएशन विंग में तैनात ये जवान रूटीन कैंपेन पर गए हुए थे। गश्त करने के बाद चीता हेलिकॉप्टर हेलीपैड पर उतरते वक्त क्रैश हो गया।
- संजीव लाठर मूल रूप से जींद जिले के गांव बूढ़ाखेड़ा के रहने वाले हरियाणा पुलिस के रिटायर्ड सब इंस्पेक्टर महेंद्र सिंह लाठर के बेटे थे।
- संजीव का जन्म भिवानी शहर में 28 फरवरी 1983 को हुआ था, लेकिन वह बालपन और सेना में नियुक्ति के बाद भी अपने पैतृक गांव बूढ़ाखेड़ा लाठर में आता-जाता रहा है।
- वर्ष 2000 में संजीव ने सिर्फ 17 वर्ष की उम्र में ही एनडीए की परीक्षा पास कर ली और 2004 में आईएमए के प्रशिक्षण के बाद कमीशन मिल गया।
- तीन बहनों के इकलौते भाई संजीव की शादी वर्ष 2006 में कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता रणसिंह मान के भाई जगराम मान की बेटी शालिनी के साथ हुई थी, जिनसे 8 साल की सुहानी और 2 साल की परी दो बेटियां हैं।
- परिजनों ने यह भी बताया संजीव आखिरी बार होली पर अपने घर आए थे और महीनों बाद घर लौटे तो तिरंगे में लिपटकर।
- शुक्रवार दोपहर उनका पार्थिव शरीर भिवानी पहुंचा, जहां से अंतिम संस्कार के लिए उसे पैतृक गांव बूढ़ाखेड़ा ले जाया गया है।

रविवार को मां को बताया-कर्नल की ट्रेनिंग पूरी कर ली और बुधवार को शहीद हो गया

- संजीव की मां संतोष कहना है कि उनका बेटा शेर जैसा था। अगर उनका दूसरा बेटा होता तो उसे भी वो सेना में ही भेजती।

- रविवार को उनकी संजीव से बात हुई थी वह बता रहा था कि उसकी कर्नल की ट्रेनिंग पूरी हो गई है। जल्द ही वो कर्नल बनने वाला है, लेकिन बुधवार को हैलिकॉप्टर हादसे का शिकार हो गया।

फाेटोज: विजेंद्र मराठा
आगे की स्लाइड्स में देखें और फोटोज.......
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title: heavy crowd in the funral of Martyr Sanjeev Lathar at his patternal village Budhkhera
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From Panipat

        Trending Now

        Top