Arun Binjola | Sep 09, 2013, 17:32 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

नई दिल्‍ली। 16 दिसंबर की रात ‘दामिनी’ के साथ गैंगरेप की घटना अंजाम देने वाले चार आरोपियों को साकेत की अदालत ने फांसी की सजा सुनाई है। देशभर में लोग भी इन आरोपियों के लिए फांसी की सजा देने की मांग कर रहे थे, लेकिन ‘दामिनी’ अपने साथ दरिंदगी करने वाले आरोपियों के लिए फांसी की सजा देने के पक्ष में नहीं थी, बल्कि वह एक ऐसी सजा दोषियों को दिए जाने की पक्ष में थी, जिससे कोई भी व्‍यक्ति इस तरह की घटना को दोबारा अंजाम न दे सके।

पहली बार नृशंस अपराध करने का मतलब यह नहीं कि उस पर रहम करें : जज

'दामिनी' के दोस्‍त की जुबानी, 16 दिसंबर की रात की कहानी

‘दामिनी’ ने 16 दिसंबर, 2012 की रात को जो कुछ भी झेला वह भयावह था, इतना कि सुनकर ही रूह कांप उठे। चलती बस में दरिंदे एक घंटे तक वहशीपन की तमाम हदें पार करते रहे, लेकिन उसकी चीखें बस के काले शीशों के बाहर नहीं जा सकीं। घटना के बाद दिए बयान में उसने दिल को चीर डालने वाली आपबीती इस तरह बयां की।

दिल्‍ली गैंगरेप के बाद हुआ था हिंसक प्रदर्शन, इंडिया गेट पर लगा डाली आग

गांधी जी, गुरु नानक देव और कलाम के नाम पर 'दामिनी' के गुनहगारों के लिए मांगा 'रहम'

मजिस्‍ट्रेट को दिए बयान में बताया कि वह 16 दिसंबर, 2012 को साकेत के सेलेक्ट सिटी मॉल से अपने दोस्त के साथ ‘लाइफ ऑफ पाई’ देखकर लौट रही थी। हम लोगों ने वहां से एक ऑटो लिया और मुनीरका पहुंचे। यहां हमने सफेद रंग की एक बस देखी। बस का कंडक्टर आवाज लगा रहा था कि यह बस द्वारका और पालम जा रही है। चूंकि मुझे उस तरफ जाना था, इसलिए मैं अपने मित्र के साथ बस में सवार हो गई। (जज बोले- निर्दयता से किया गया कत्‍ल और गैंगरेप था)

अगली स्‍लाइड में पढ़िए, दामिनीने अपने बयान में आगे क्‍या कहा और आरोपियों के लिए किस सजा की मांग की

ये भी पढ़ें

LIVE: फैसला सुनने कोर्ट पहुंचे 'दामिनी' से गैंगरेप के आरोपी

TOTAL RECALL: 'दिल्‍ली गैंगरेप के बाद धधक उठी थी राजधानी, इंडिया गेट पर लगा डाली आग'

सावधान: खूंखार हो चले हैं नाबालिग, रेप और महिलाओं के अपहरण में सबसे आगे

नाबालिग दरिंदे को तीन साल की सजा, दामिनी के भाई ने की हमले की कोशिश

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App
Web Title:
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending Now

        पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

        दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

        * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
        Top