लोग

  • देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस
Home >> People

People

  • जान बचाकर भागने वाला ये शख्स अपनी मेहनत से बन गया बिलियनेयर
    गरीबी से निकलकर बिजनेस वर्ल्ड में सफलता हासिल करने के यूं तो कई किस्से सुनने और देखने को मिलते हैं, लेकिन मारा ग्रुप के फाउंडर और सीईओ आशीष ठक्कर और उनकी फैमिली ने जिस भयावह स्थिति का सामना किया है, ऐसा कम ही लोग कर पाते हैं। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि आशीष जब 12 साल के थे तब वे अपने माता-पिता और बहन के साथ 1994 में रवांडा के नरसंहार से जान बचाकर भागे थे। ऐसे मिली आशीष को सक्सेस... - गुजरात से संबंध रखने वाले आशीष की फैमिली सालों पहले अफ्रीका शिफ्ट हो गई थी। - आशीष का जन्म 1981 में लेस्टर (इग्लैंड) में हुआ...
    08:00 AM
  • पिता को इंडिया में मिली ईमानदारी की सजा, बेटा अब कर रहा चांद पर बिजनेस
    टीम पीपुल। एक व्यक्ति, जिसका न खाने का ठिकाना था, न रहने का। उसके परिवार के पास कोई ऐसा घर नहीं था, जिसे अपना कहा जा सके। वह व्यक्ति आज चांद को जीतने चला है। सचमुच। नवीन जैन की कंपनी मून एक्सप्रेस ने चांद पर खुदाई करके गोल्ड, प्लेटिनम, कोबाल्ट जैसे मटेरियल धरती पर लाने की प्लानिंग की है। उन्हें अमेरिकन स्पेस एजेंसी नासा का कॉन्ट्रैक्ट भी मिला है। जानिए, अमेरिका के सबसे सफल भारतीय लोगों में गिने जाने वाले नवीन जैन की कहानी। उनकी कहानी में भूख, गरीबी, स्ट्रगल, कामयाबी, ठोकर, गिरना, संभलना, फिर उठ खड़ा...
    12:01 AM
  • 10वीं तक पढ़े इस शख्स ने कैसे बनाई इतनी कामयाब एंटीवाइरस कंपनी?
    टीम पीपुल। कभी कैलकुलेटर सुधारने वाला एक दसवीं पास शख्स आज दुनियाभर के करोड़ों कंप्यूटर, मोबाइल और अन्य इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट्स को वाइरस से बचाता है। पुणे के कैलाश काटकर की कहानी बताती है कि कामयाब होने के लिए सिर्फ एक चीज चाहिए- भविष्य की संभावनाओं को पहचान लेने वाली नजर। एंटीवाइरस समेत अन्य कंप्यूटर सॉल्युशंस देने वाली कंपनी क्विक हील की सफलता साबित करती है कि व्यक्ति एक दिशा में बढ़ता रहे, तो धीरे-धीरे तरक्की करते हुए ऊंचाई तक पहुंच ही जाता है। जानिए, कैलाश काटकर की बेहद इंस्पिरेशनल...
    February 18, 05:10 PM
  • एप्पल के सीईओ टिम कुक सुबह 3:45 बजे उठकर क्या करते हैं पहला काम?
    टीम पीपुल। टिमोथी डॉनल्ड कुक, यानी टिम कुक एप्पल के सीईओ हैं। आईफोंस की बिक्री उम्मीद के अनुसार न होने के कारण 2016 में उन्हें 58 करोड़ रुपए सैलरी मिली थी, जो 2015 के 87 करोड़ रुपए की तुलना में कम थी। लेकिन टिम हिम्मत हारने वालों में से नहीं हैं। स्टीव जॉब्स की तरह वे भी अपने इरादों में पक्के हैं। टिम जिस चीज को सही मानते हैं, वही करते हैं। यही वजह है कि उन्होंने अपने गे (समलैंगिक) होने की सार्वजनिक घोषणा कर दुनिया को चौंका दिया था…   -टिम किसी भी फॉर्च्यून-500 कंपनी के पहले सीईओ हैं, जिन्होंने अपने गे होने...
    February 18, 12:53 AM
  • जानिए दुनिया के नंबर 1 इन्वेस्टर का बेस्ट इन्वेस्टमेंट, आप भी कर सकते हैं
    टीम पीपुल। वॉरेन बफेट दुनिया में तीसरे नंबर के दौलतमंद हैं। फोर्ब्स मैग्जीन ने उनकी नेटवर्थ 5 लाख करोड़ रुपए से भी ज्यादा आंकी है। उनका नाम दुनिया के सबसे जाने-माने और कामयाब इन्वेस्टर्स और बिजनेसमैन की श्रेणी में शुमार है। शायद ही कोई ऐसी कंपनी या सीईओ हो, जिसे वॉरेन बफेट के बारे में पता न हो। लेकिन 86 वर्षीय बफेट की उपलब्धि सिर्फ अमीर होना नहीं है। साधारण और किफायती जीवन जीने वाले बफेट बहुत बड़े दानदाता भी हैं और वे अपनी सारी दौलत दान करने की घोषणा कर चुके हैं। जानिए, बचपन से ही बफेट की बुद्धि...
    February 17, 04:58 PM
  • ये कभी थीं रिसेप्शनिस्ट, अब मिलती है 177 करोड़ रुपए सैलरी
    टीम पीपुल। 60 साल की इंदिरा नूई दुनिया के बड़े ब्रांड्स में शामिल पेप्सिको की सीईओ हैं। इस पद पर पहुंचने वाली वे पहली महिला और पहली गैर-अमेरिकी हैं। पद्मभूषण से सम्मानित इंदिरा की उपलब्धि इंडियंस की काबिलियत का सबूत है। कभी कॉलेज की फीस के लिए रिसेप्शनिस्ट का काम करने वाली इंदिरा अब 177 करोड़ रुपए सालाना की सैलरी पाती हैं।जानिए, इंदिरा की मां ने उनके मन में कुछ बड़ा काम करने का सपना कैसे भरा -इंदिरा नूई का जन्म तमिलनाडु की एक मिडिल क्लास फैमिली में हुआ। उनके पिता बैंक में काम करते थे और मां...
    February 17, 03:00 PM
  • नौकरी करके भी बन सकते हैं करोड़पति, इन 9 इंडियंस ने किया साबित
    टीम पीपुल। कहते हैं कि नौकरी करके कोई अमीर नहीं बन सकता। लेकिन इस सोच को कई भारतीय गलत साबित कर चुके हैं। इनमें भागलपुर जैसे स्मॉल टाउन में जन्मे संजय झा भी शामिल हैं। फिलहाल इन्फोसिस के सीईओ विशाल सिक्का की सैलरी चर्चा में है। कंपनी के फाउंडर्स ने उनके 74 करोड़ रुपए सालाना पैकेज पर सवाल उठाए हैं। लेकिन कुछ अन्य इंडियन सीईओज की अर्निंग देखें, तो उन्हें इससे भी ज्यादा पैसे मिल रहे हैं। आगे की स्लाइड्स में जानिए उन 9 इंडियन सीईओ के बारे में, जिनकी कमाई करोड़ों में है...
    February 17, 12:05 AM
  • न्यूड पिक्चर्स वाली प्लेब्वॉय मैगजीन के पहले इश्यू में क्यों नहीं थी तारीख?
    टीम पीपुल। 91 साल के ह्यू हेफनर पुरुषों की मशहूर मैगजीन प्लेब्वॉय के पब्लिशर हैं। अपनी मैगजीन के नाम की तरह उनकी इमेज एक प्लेब्वॉय की है। तीन शादियां कर चुके हेफनर की तीसरी वाइफ शादी के समय उनसे पूरे 60 साल छोटी थीं। हेफनर की लाइफ स्टाइल हमेशा चर्चा में रही है और इसके लिए उनकी आलोचना भी होती रही है। ह्यू हेफनर के जीवन के शुरुआती 26 साल एकदम साधारण थे। फिर उन्हें प्लेब्वॉय मैगजीन निकालने का आइडिया आया। उन्होंने अपना सब कुछ दांव पर लगाकर मैगजीन निकाली। जानें उस समय हेफनर की हालत कितनी खराब थी...
    February 16, 04:38 PM
  • बड़े मजाकिया हैं देश की दूसरी बड़ी IT कंपनी के सीईओ, कहलाते हैं यारों के यार
    टीम पीपुल। विशाल सिक्का ने अगस्त 2014 में देश की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इन्फोसिस के सीईओ का पद संभाला था। इन दिनों वे सैलरी विवाद में घिरे हुए हैं। दरअसल, इन्फोसिस के फाउंडर्स ने कंपनी के मैनेजमेंट को लेकर चिंताएं जताई हैं। उनकी चिंता का एक अहम मुद्दा यह भी है कि विशाल की सैलरी बढ़ाकर लगभग 74 करोड़ रुपए सालाना कर दी गई है। लेकिन इस विवाद के बावजूद निजी जिंदगी में विशाल बहुत ही रिलैक्स व्यक्ति हैं। वे काम और पर्सनल लाइफ में अच्छा तालमेल बनाना बखूबी जानते हैं। कॉलेज के दिनों में उन्हें यारों का...
    February 16, 12:59 PM
  • क्रिकेट से सीखी लीडरशिप, नाम में हैं दो गांव, ये है सत्या नडेला की लाइफ
    टीम पीपुल। बिल गेट्स की कंपनीमाइक्रोसॉफ्ट के पहले नॉन-अमेरिकी सीईओ बनकर सत्या नडेला ने पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा था। वे लो-प्रोफाइल रहना पसंद करते हैं, इसलिए लोग उनकी पर्सनल लाइफ के बारे में कम ही जानते हैं। वे अपनी प्रोफेशनल लाइफ, खासकर अपने मास्टर प्लान के बारे में भी किसी से चर्चा नहीं करते हैं। जानिए सत्या नडेला ने क्रिकेट से क्या सीखा, जो उन्हें माइक्रोसॉफ्ट में ऊंचाई पर ले गया -सत्या को पोएट्री का बहुत शौक है। वे अमेरिकी और इंडियन पोएट्री पढ़ने के लिए उत्सुक रहते हैं।...
    February 15, 04:44 PM
  • इनके एक आइडिया ने बदल दी कई कार मालिकों की किस्मत, कमा रहे लाखों
    इंडिया में सबसे पहले गाड़ियों पर प्रचार शुरू करने वाले रघु खन्ना के एक आइडिया ने हजारों कार मालिकों की किस्मत बदल दी। रघु की वजह से कई कार मालिकों ने लाखों रुपए कमाए। आईआईटी गुवहाटी से इंजीनियर करने वाले रघु के पास बिजनेस के लिए न तो लाखों रुपए थे और न कोई अनुभव। इसके बाद भी उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई। वे मानते है कि कोई भी काम शुरू करने के लिए हौसला होना चाहिए... - रघु का जन्म शिमला में हुआ। बचपन से ही रघु शरारती थे। - पिता हिमाचल प्रदेश की यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे और मां हाउसवाइफ। - रघु...
    February 15, 09:21 AM
  • 10 हजार के उधार से देश के सबसे बड़े दौलतमंद कैसे बने थे दिलीप सांघवी?
    टीम पीपुल। सन फार्मास्युटिकल के फाउंडर और एमडी दिलीप सांघवी की नेटवर्थ फिलहाल 89 हजार करोड़ रुपए है। वे देश के दूसरे सबसे अमीर शख्स हैं। लेकिन 2015 में वे मुकेश अंबानी को पीछे छोड़कर भारत के सबसे अमीर व्यक्ति बन गए थे। तब उनकी नेटवर्थ 1 लाख 45 हजार करोड़ रुपए आंकी गई थी। जानिए, सांघवी की कामयाबी के क्या हैं राज़ - सांघवी 61 साल के हैं। उनका जन्म 1 अक्टूबर 1955 को गुजरात के अमरेली जिले में हुआ था। बाद में उनका परिवार कोलकाता शिफ्ट हो गया। -सांघवी की कंपनी सन फार्मास्युटिकल देश की सबसे बड़ी और दुनिया की...
    February 15, 12:01 AM
  • जानिए अरबपति फैमिलीज के रिश्ते, कौन किसकी बेटी, किसकी है बहू?
    टीम पीपुल। भारत में शादी सिर्फ लड़के और लड़की के बीच नहीं होती। शादी के जरिए दो परिवार जुड़ते हैं। यही वजह है कि रिश्ते जोड़ने में स्टेटस का ध्यान रखा जाता है। इसीलिए राजघरानों के रिश्ते राजघरानों के साथ ही जुड़ते रहे हैं। उसी तरह करोड़पति-अरबपति परिवारों की शादियां भी ऐसे ही परिवारों में होती रही हैं। जानिए कि देश के सबसे अमीर घराने शादियों के जरिए कैसे जुड़े हुए हैं -अडानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी के बेटे करण अडानी की शादी परिधि से हुई है। परिधि सिरिल श्रॉफ की बेटी हैं, जो देश की सबसे...
    February 14, 11:37 AM
  • इनके करोड़ों के फ्लैट खरीदने लगती है लाइन, जानें विकास की कामयाबी के राज़
    टीम पीपुल। दुनिया में तीन तरह के दौलतमंद होते हैं। कुछ को दौलत विरासत में मिलती है। कुछ गरीबी से ऊपर उठकर अपनी मेहनत से अमीर बनते हैं। और कुछ लोग विरासत में मिले कारोबार को अपनी मेहनत से कई गुना बढ़ाकर दौलतमंद बनते हैं। ओबेराय रियल्टी के चेयरमैन और एमडी विकास ओबेराय तीसरी कैटेगरी में आते हैं। जानिए विकास ओबेराय की लाइफ स्टाइल के बारे में, जो उन्हें दूसरे रिच लोगों से अलग करती है - 46 साल के विकास 1.6 अरब डॉलर (10 हजार करोड़ रु. से ज्यादा) की नेटवर्थ रखते हैं। - विकास मेहनत और पूरी तैयारी में यकीन...
    February 14, 12:07 AM
  • क्लास बंक की, सीनियर का लगेज उठाया, पढ़ें गूगल के CEO की Life Story
    गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई कभी गूगल के प्रोडक्ट चीफ भी रहे हैं। सुंदर ने आईआईटी खड़गपुर से इंजीनियरिंग की डिग्री ली है। चेन्नई में जन्मे सुंदर ने राजस्थान के कोटा की रहने वाली अंजली से शादी की है। पिचाई का मानना है कि क्लास बंक करना सभी स्टूडेंट्स का हक है। उन्होंने खुद भी क्लास बंक की है। ऐसे पिचाई सुंदराजन से सुंदर पिचाई बने गूगल के सीईओ... - सुंदर पिचाई चेन्नई में 1972 में जन्मे। - उनका नाम पिचाई सुंदराजन है, लेकिन उन्हें सुंदर पिचाई के नाम से जाना जाता है। - पिचाई ने अपनी बैचलर डिग्री आईआईटी,...
    February 13, 01:16 PM
  • गैराज में शुरू किया था गूगल का ऑफिस, याहू की सीईओ से रहा था अफेयर
    स्टैंडफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान गूगल के फाउंडर और सीईओ लैरी पेज ने एक बार अपनी टीचर्स से कहा था कि वे पूरे इंटरनेट को अपने कम्प्यूटर पर डाउनलोड कर लेंगे। यह बात सुनकर उनके प्रोफेसर्स को लगा था कि वह क्रेजी है, लेकिन उनकी इस सोच को गूगल ने बदल दिया। बता दें कि लूसी साउथवुड के साथ शादी करने से पहले लैरी पेज का नाम याहू की सबसे यंग सीईओ मैरिसा मेयर के साथ जोड़ा गया था। एक गैराज में शुरू किया था ऑफिस... - पेज का जन्म ईस्ट लैंसिंग, मिशिगन अमेरिका में 26 मार्च 1973 को यहूदी परिवार में हुआ था। -...
    February 13, 07:51 AM
  • हाथी की लीद से पेपर बनाने वाली महिमा ने खड़ा कर दिया 'हाथी छाप' ब्रांड
    हाथी छाप ब्रांड की फाउंडर महिमा मेहरा री-साइकिलिंग की फील्ड में कुछ करना चाहती थीं, लेकिन वे ये काम किसी एनजीओ के साथ मिलकर करने की इच्छुक नहीं थीं। इसलिए उन्होंने खुद ही हैंडमेड पेपर बनाने का कारोबार शुरू किया। इसी काम के दौरान उन्होंने कुछ दिलचस्प चीजों की खोज भी की। इन्हीं में से एक था हाथी की लीद का इस्तेमाल करके बनाया गया पेपर। फैमिली के ज्वैलरी बिजनेस में नहीं बनाना चाहती थी फ्यूचर... - महिमा का जन्म जयपुर के एक पारंपरिक ज्वैलरी बनाने वाले परिवार में हुआ था। - फैमिली बिजनेस में उनकी...
    February 11, 09:37 AM
  • ये है अमीर बनने का पहला नियम, 7 दौलतमंदों के किस्सों से समझिए इसे
    टीम पीपुल। दुनिया के बहुत सारे दौलतमंदों में एक बात कॉमन रही है : उन्होंने वह काम किया, जो दुनिया में पहले किसी ने नहीं किया था। नया काम करना अमीरी का पहला नियम है। मोटिवेशनल राइटर डॉ. सुधीर दीक्षित ने अपनी पुस्तक अमीरों के पांच नियम में ऐसी कई शख्सियतों के बारे में बताया है, जिन्हें एक नया विचार सूझा और उस पर अमल करके वे करोड़पति-अरबपति बन गए। जानिए कि पर्सनल कंप्यूटर के आइडिया को एक्सपर्ट्स ने नकार दिया था, पर इसी से स्टीव जॉब्स और स्टीफन वोज्नियाक दुनियाभर में फेमस हो गए -1943 में IBM के चेयरमैन...
    February 11, 12:06 AM
  • राहुल के नाम को लेकर नेहरू से नाराज हो गई थीं इंदिरा, ये हैं अनसुने किस्से
    टीम पीपुल। राहुल बजाज, बजाज ग्रुप के चेयरमैन हैं। 78 वर्षीय राहुल ने कंपनी की कमान अपने दोनों बेटों- राजीव और संजीव को सौंप रखी है और खुद मार्गदर्शक के रोल में हैं। जानिए कि राहुल के नाम को लेकर इंदिरा गांधी क्यों नाराज हो गई थीं -राहुल बजाज का जन्म 10 जून, 1938 को कोलकाता में मारवाड़ी बिजनेसमैन कमलनयन बजाज और सावित्री बजाज के घर हुआ था। - बजाज और नेहरू परिवार में तीन जनरेशन से फैमिली फ्रैंडशिप चली आ रही थी। राहुल के पिता कमलनयन और इंदिरा गांधी कुछ समय एक ही स्कूल में पढ़े थे। - भारतीय बिजनेस जगत...
    February 10, 03:36 PM
  • ये हैं देश के सबसे यंग अरबपति, खुद ऐसे लिखी अपनी तकदीर
    टीम पीपुल। 42 साल के समीर गहलोत इंडियाबुल्स ग्रुप के फाउंडर और चेयरमैन हैं। फोर्ब्स मैग्जीन ने उन्हें इंडिया का यंगेस्ट सेल्फ मेड बिलियनेयर कहा था। एक माइनिंग बिजनेसमैन के बेटे समीर ने खुद के दम पर दौलत कमाई है। जानिए, समीर के सफर के बारे में, जिसने दुनिया को हैरान कर दिया -समीर गहलोत का जन्म 3 मार्च, 1974 को रोहतक में हुआ था। उनके पिता बलवान सिंह पॉवरफुल माइनिंग बिजनेसमैन रहे हैं। -समीर ने आईआईटी, दिल्ली से मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिग्री ली है। फिलहाल वे वाइफ दिव्या और दो बच्चों के साथ मुंबई में...
    February 10, 12:08 AM

पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

* किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.