TOP NEWS

TOP NEWS
  • स्पोर्ट्स डेस्क. भारत-इंग्लैंड के बीच वनडे सीरीज का तीसरा और आखिरी मैच रविवार को कोलकाता के ईडन गार्डन स्टेडियम में होगा। शुरुआती दो मैच जीतकर टीम इंडिया ये सीरीज पहले ही जीत चुकी है। वहीं, अब इस आखिरी मैच को जीतकर मेजबान व्हाइट वॉश करने के इरादे से उतरेगी। जबकि मेहमान टीम इस डे-नाइट मैच को जीतकर सीरीज में पहली जीत हासिल करना चाहेगी। ईडन में बेहतरीन है भारत का रिकॉर्ड... - भारत ने इस ग्राउंड पर अब तक 19 मैच खेले हैं, जिनमें से 11 में जीत मिली है, वहीं 7 हारे हैं। - इंग्लैंड की टीम ने इस ग्राउंड पर 3 मैच खेले हैं, तीनों में ही उसे हार मिली है। - इस ग्राउंड पर भारत और इंग्लैंड के बीच अब तक 2 बार मैच हुए हैं। दोनों में टीम इंडिया जीती है। - दोनों टीमों के बीच यहां आखिरी मुकाबला अक्टूबर 2011 में हुआ था। इसे भारत ने 95 रन से जीता था। भारत के नाम है हाइएस्ट टोटल - ईडन में किसी भी टीम का बनाया हाइएस्ट टोटल 404/5 रन है। यह भारत ने नवंबर 2014 में श्रीलंका के खिलाफ बनाया था। - वहीं, किसी विदेशी टीम का सबसे बड़ा स्कोर 315/6 रन है, जो श्रीलंका ने भारत के खिलाफ दिसंबर 2009 में बनाया था। - इंग्लैंड के खिलाफ इस ग्राउंड पर भारत का हाइएस्ट टोटल 281/8 रन है, जो उसने जनवरी 2002 में बनाए थे। - इस ग्राउंड पर इंग्लैंड की टीम का सबसे बड़ा स्कोर 259/10 रन है, जो उसने भारत के खिलाफ बनाया था। सीरीज में 0-2 से पीछे है इंग्लैंड - सीरीज में इंग्लैंड की टीम को अब तक एक भी जीत हासिल नहीं हुई है। - पहले मैच में पुणे में उसने 350 रन बनाए, लेकिन इसके बाद भी वो 3 विकेट से हार गया। - वहीं, दूसरे वनडे के दौरान कटक में 366 रन बनाकर भी वो 15 रन से भारत के हाथों मैच हार गया। सीरीज में भारत के ओपनर्स रहे हैं फ्लॉप - सीरीज के शुरुआती दोनों मैचों में भारत के ओपनर अब तक फ्लॉप ही रहे हैं। - लोकेश राहुल ने जहां दो मैचों में केवल 13 रन बनाए हैं। तो वहीं धवन केवल 12 रन ही बना सके हैं। - शिखर धवन तीसरे मैच से बाहर भी हो सकते हैं। बाएं हाथ के अंगूठे में लगी चोट के बाद वे हॉस्पिटल में गए थे। मैच से पहले इंग्लैंड को लगा झटका - तीसरे मैच से पहले इंग्लैंड की टीम को एक झटका लगा है, टीम के ओपनर एलेक्स हेल्स चोट की वजह से बाहर हो गए हैं। - कटक वनडे के दौरान धोनी का कैच लेने के दौरान हेल्स के दाहिने हाथ में चोट लग गई थी। - हालांकि हेल्स सीरीज में अबतक कुछ खास नहीं कर पाए थे। शुरुआती दो मैचों में उन्होंने कुल 23 रन बनाए हैं। - हेल्स की जगह पर तीसरे मैच के लिए जॉनी बेयरस्टॉ को टीम में शामिल किया जा सकता है। रवींद्र जडेजा बना सकते हैं ये रिकॉर्ड - मैच के दौरान रवींद्र जडेजा एक विकेट लेते ही वनडे करियर में अपने 150 विकेट पूरे कर लेंगे। - फिलहाल टीम इंडिया के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा 150 विकेट से केवल 1 विकेट दूर हैं। - ऐसा करते ही वे 150 विकेट लेने वाले भारत के पहले लेफ्ट आर्म स्पिन बॉलर बन जाएंगे। आगे की स्लाइड्स में जानें, दूसरे वनडे में विराट युवराज, और धोनी कौन-कौन से रिकॉर्ड बना सकते हैं...
    Last Updated: January 22, 00:03 AM
  • शिमला.हिमाचल की एक उभरती मॉडल-एक्ट्रेस की धर्मशाला में संदिग्ध हालात में मौत का मामला सामने आया। उसकी बॉडी दुपट्टे के सहारे पंखे से लटकी मिली। एक्ट्रेस रिचा धीमान के कमरे से एक नोट मिला है, जिसमें पुलिस कॉन्स्टेबल को मौत के लिए जिम्मेदार बताया गया है। पुलिस के मुताबिक, लव अफेयर एक वजह हो सकती है। पुलिस ने आरोपी कॉन्स्टेबल की तलाश शुरू कर दी है। कई फिल्मों में काम कर चुकी थी रिचा... - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले कुछ महीने से रिचा धर्मशाला में किराए पर रहती थी। वह कई फिल्मों और 100 से ज्यादा एलबम में काम कर चुकी थीं। आजकल एक पहाड़ी एलबम की शूटिंग में बिजी थी। - एसपी, कांगड़ा संजीव गांधी ने बताया कि शुक्रवार को मकान मालिक के जरिए एक्ट्रेस की मौत की जानकारी मिली। शुरुआती जांच-पड़ताल से लग रहा है कि उसने सुसाइड किया है, लेकिन नोट में एक कॉन्स्टेबल का नाम आने से मामला पेचीदा हो गया है। हर एंगल से जांच की जा रही है। - एक्ट्रेस की मां ने शिकायत में कहा कि बेटी ने पुलिसवाले से अफेयर के चलते ही कथित तौर पर जान देने का फैसला किया। मौत से पहले उसने एक दोस्त से बात की थी। जिसकी रिकॉर्डिंग मोबाइल में मिली थी। पुलिस ने सुसाइड के लिए उकसाने का केस दर्ज कर लिया है। - प्रदेश के मंत्री जीएस बाली ने कहा कि रिचा की फैमिली मुझसे मिली थी। मैंने डीजीपी से एक्ट्रेस की कॉल डिटेल की जांच करने की बात कही है। ताकि मौत की असल वजह सामने आ सके। मिस नगरोटा भी रह चुकी थी रिचा - 24 साल की रिचा नागरोटा के मलां इलाके की रहने वाली थी। उसने छोटी उम्र में ही मॉडलिंग करने लगी थी। मिस नगरोटा के खिताब से भी नवाजा गया। - 100 से ज्यादा पहाड़ी, भोजपुरी और पंजाबी म्युजिक एलबम में काम किया। साथ ही टीवी शो और तेलुगु फिल्मों में भी नजर आईं। - उन्होंने हिमाचल प्रदेश के कई ब्यूटी कॉन्टेस्ट अपने नाम किए। मोदी सरकार के क्लीन इंडिया कैंपेन के लिए एक वीडियो भी शूट किया था। आगे की स्लाइड्स में देखें, एक्ट्रेस रिचा के चुनिंदा फोटोज... (क्रेडिट-फेसबुक)
    Last Updated: January 21, 21:49 PM
  • नई दिल्ली. डोनाल्ड ट्रम्प अमेरिका के 45th प्रेसिडेंट बन गए हैं। अभी तक उनकी फॉरेन पॉलिसी साफ नहीं है। हालांकि, एक्सपर्ट का मानना है कि उनके एडमिनिस्ट्रेशन में अमेरिका के भारत से रिश्ते और बेहतर होंगे। इसका भारत को फायदा मिलेगा। वे इलेक्शन कैम्पेन के वक्त भारत और हिंदुओं को व्हाइट हाउस का सच्चा दोस्त बता चुके हैं। एक्सपर्ट का मानना है कि वे पाकिस्तान के को लेकर सख्त रुख अपना सकते हैं, जिसका भारत को फायदा हो सकता है। भारत के लिए कैसे साबित होंगे ट्रम्प, जानें विदेश मामलों के एक्सपर्ट रहीस सिंह से... 1. मोदी को लेकर पॉजिटिव - ट्रम्प 16 अक्टूबर 2016 को कहा था, मैं नरेंद्र मोदी के साथ काम करने के लिए एक्साइटेड हूं। उन्होंने ब्यूरोक्रेसी में सुधार के लिए काफी एनर्जी के साथ काम किया है। वे महान शख्सियत हैं। मैं उनकी तारीफ करता हूं। - ऐसे में माना जा रहा है कि वे मोदी के रहते भारत से रिश्ते और बेहतर करना चाहते हैं। 2. भारतीयों को बता चुके सच्चा दोस्त - इलेक्शन कैम्पेन के वक्त दी गई स्पीच में उन्होंने भारतीय और हिंदुओं की खूब तारीफ की थी। - तब ट्रम्प ने कहा था, अगर मैं अमेरिका का प्रेसिडेंट बना तो भारतीय और हिंदू कम्युनिटी व्हाइट हाउस के सच्चे दोस्त होंगे। मैं भारत और हिंदुओं का जबर्दस्त फैन हूं। 3. इंडियन-अमेरिकन की मेहनत के कायल - ट्रम्प अमेरिका में रहने वाले भारतीयों की मेहनत के कायल हैं। - उन्होंने अपनी स्पीच में कहा था, मुझे भारत पर जबर्दस्त भरोसा है। भारतीय और हिंदु-अमेरिकन जनरेशन ने हमारे देश को मजबूती दी है, आप मेहनती हैं, आपकी एजुकेशन और एंटरप्राइज ने हमारे देश को हकीकत में तरक्की दी है। ये 2 बातें भारत के फेवर में नहीं 1. H-1B वीजा पर नरमी की उम्मीद नहीं - ट्रम्प ने कहा है कि वे H-1B वीजा के नियम सख्त करेंगे। वीजा की फीस बढ़ाएंगे। - यह भी कहा है कि वे जन्म से अमेरिकी सिटिजनशिप नहीं मानेंगे। अभी नियम है कि अमेरिका में जाे जन्म लेता है, वह अमेरिकी सिटिजन माना जाता है। - अगर ट्रम्प अपने रुख पर कायम रहे तो वहां रहने वाले भारतीयों की दिक्कतें बढ़ना तय है। 2. अमेरिका में भारतीयों को जॉब पाने में हो सकती है दिक्कत - ट्रम्प के प्रेसिडेंट बनने के बाद अमेरिका में दूसरे देश के लोगों को जॉब पाना मुश्किल हो सकता है। - इलेक्शन कैम्पेन के वक्त उन्होंने कहा था, आप ऐसी पॉलिसीज मंजूर नहीं कर सकते, जो चीन, मेक्सिको, जापान और भारत को मंजूर हों। आप ऐसी पॉलिसीज लागू नहीं कर सकते जो जॉब के लिए अमेरिका को इस्तेमाल करने वाली हों। भारत को साथ लेकर चलना इसलिए जरूरी - भारत को जितनी अमेरिका की जरूरत है, अमेरिका को भारत की उससे कहीं ज्यादा जरूरत है। - ट्रम्प जैसी विदेश नीति को लेकर चलना चाह रहे हैं, उसमें एशिया और यूरोप में उन्हें भारत के साथ की जरूरत पड़ेगी। - ट्रम्प ऐसा कोई कदम नहीं उठाना चाहेंगे, जिससे भारत से अमेरिका के संबंध बिगड़ें। पाकिस्तान पर होंगे सख्त, तो भारत को होगा फायदा - पाकिस्तान के प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो ने हाल ही में रीडआउट्स जारी किए थे। उनमें कहा गया था कि ट्रम्प पाक के प्रति पॉजिटिव हैं। - लेकिन मुसलमानों और पाकिस्तान को लेकर उन्होंने इलेक्शन कैम्पेन के वक्त जैसी बातें कहीं थीं, उनमें कुछ तो हकीकत थी। - ऐसा लगता है कि ट्रम्प पाकिस्तान के प्रति नरमी जताकर उसे सुधरने का मौका दे रहे हैं। - उन्होंने अभी तक पाकिस्तान को कोई हथियार या फाइनेंशियल सपोर्ट देने का वादा भी नहीं किया है। - पाकिस्तान के प्रति अगर ट्रम्प का रुख सख्त रहा तो भारत इसका फायदा लेगा। खास तौर पर आतंकवाद के खिलाफ भारत के रुख पर। ये भी पढ़ें: - स्कूल में बम और चाकू ले जाने वाले ट्रम्प को 58 साल पुराने एक सपने ने बना दिया US प्रेसिडेंट - अब अमेरिकी ही इस देश को बनाएंगे, हम दुनिया से इस्लामिक टेररिज्म खत्म कर देंगे: US के 45th प्रेसिडेंट ट्रम्प - ट्रम्प ने पिता से कर्ज लेकर बिजनेस किया: 3 शादियां कीं, बेटी पर भी कर चुके हैं कमेंट
    Last Updated: January 21, 21:38 PM
  • नई दिल्ली.सर्जिकल स्ट्राइक के कुछ ही घंटे बाद जम्मू-कश्मीर में गलती से एलओसी क्रॉस करने वाले भारतीय जवान चंदू बाबूलाल चव्हाण को पाकिस्तान ने शनिवार को रिहा कर दिया। दोपहर 2.30 बजे चंदू को वाघा बॉर्डर पर बीएसएफ को सौंपा गया। इसके बाद डॉक्टर्स की टीम ने जवान का मेडिकल चेकअप किया। चंदू के भाई भूषण ने कहा, मैं भारत सरकार को धन्यवाद देता हूं। रक्षा राज्यमंत्री और सभी अफसरों का शुक्रिया, जिनकी कोशिशों से मेरा भाई वापस घर लौट पाया।PAK का दावा- अफसरों से शिकायत पर जवान ने पोस्ट छोड़ी... - चंदू की रिहाई के बाद पाकिस्तान आर्म्ड फोर्सस के स्पोक्सपर्सन मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्वीट में दावा किया कि, भारतीय जवान अपने कमांडर्स के बुरे बर्ताब के चलते अपनी पोस्ट छोड़ी थी। वह मर्जी से एलओसी क्रॉस कर पाकिस्तानी सरहद में आया था। - गफूर ने कहा, 29 सितंबर, 2016 को भारतीय जवान ने पाक आर्मी के सामने सरेंडर कर दिया था। बॉर्डर पर शांति कायम रखने और नेकनीयत के चलते हमने चंदू चव्हाण को उसके मुल्क भेजने का फैसला किया। - न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पाक विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में भी कहा गया कि, भारतीय नागरिक होने के चलते पाकिस्तान ने जवान को अपने देश लौटने के लिए काफी समझाया। उससे कहा गया कि अगर कोई शिकायत है तो वह अपने देश के अफसरों से कहे। डीजीएमओ लेवल पर चल रही थी बातचीत - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 37 राष्ट्रीय राइफल्स के जवान की घर वापसी के लिए भारत ने डीजीएमओ लेवल पर पड़ोसी देश से 20 ज्यादा बार बातचीत की थी। - 29 सितंबर को PoK में सर्जिकल स्ट्राइक के कुछ ही घंटे बाद चंदू गलती से पाक सीमा में चले गए थे। पाक रेंंजर्स ने उसे मानकोट के पश्चिम में झंडरूट में कब्जे में लिया था। - कहा जाता है कि इसके बाद चंदू को नियाकल के पाकिस्तानी आर्मी हेडक्वार्टर में रखा गया। तब इंडियन आर्मी ने कहा था कि चंदू सर्जिकल स्ट्राइक का हिस्सा नहीं था। वह गलती से सीमा पार कर गया था। डीजीएमओ लेवल पर चल रही थी टॉक - 12 जनवरी को रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भाम्बरे ने कहा था कि चंदू की घर वापसी के लिए पाक के साथ डीजीएमओ लेवल पर 20 से ज्यादा बार बातचीत हुई। - पाकिस्तान जांच पूरी होने के बाद हमारे जवान को छोड़ने के लिए राजी भी हो गया है। महाराष्ट्र का रहने वाला है चंदू - चंदू महाराष्ट्र के धुले जिले का रहने वाला है। बचपन में माता-पिता की मौत हो गई थी। तब से तीनों भाई-बहन बोरविहिर में अपनी नानी के घर रह रहे थे। - चंदू के पाकिस्तान में पकड़े जाने की खबर सुनकर एक हफ्ते के भीतर ही उनकी नानी का हार्ट अटैक से निधन हो गया था। - भाई का नाम भूषण और बहन का नाम रुपाली है। दोनों भाई सेना में काम कर रहे हैं। भूषण चव्हाण 9th मराठा लाइट इन्फैंट्री गुजरात में पोस्टेड है। कब हुआ था सर्जिकल स्ट्राइक? - 18 सितंबर को उड़ी में सीमा पार से आए 4 आतंकियों ने आर्मी हेडक्वार्टर पर हमला किया था। जिसमें 19 जवान शहीद हुए थे। - हमले के 10 दिन बाद (28 सितंबर की रात) आर्मी के स्पेशल फोर्स के 125 कमांडो हेलिकॉप्टर से एलओसी के पास उतारे गए। - कमांडो रेंगते हुए PoK में घुसे और 4 इलाकों में आतंकियों के 7 कैंप तबाह कर दिए थे। इस दौरान 38 आतंकी मारे गए।
    Last Updated: January 21, 21:30 PM
  • नई दिल्ली/चेन्नई. जल्लीकट्टू (सांड को काबू करना) खेल रविवार को तमिलनाडु के अलंगानाल्लुर में होगा। सीएम ओ. पन्नीरसेल्वम सुबह 10 बजे शुरूइसका इनॉगरेशन करेंगे। सीएम ने शनिवार को कहा, गवर्नर विद्या सागर राव नेऑर्डिनेंस को मंजूरी दे दी है। अब कानून बनाने के लिए इसे आने वाले असेंबली सेशन में पेश किया जाएगा।खेल पर बैन के विरोध में चेन्नई के मरीना बीच पर 2 लाख से ज्यादा लोग अभी भी जमा है। इस बीच,रजनीकांत की बेटी ऐश्वर्या ने भी खेल का सपोर्ट किया है। AIADMK सांसद राष्ट्रपति से मिले... - न्यूज एजेंसी के मुताबिक, AIADMK चीफ शशिकला नटराजन और सीएम ने ऑर्डिनेंस और जल्लीकट्टू कराने पर सपोर्ट को लेकर नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया। - ऑर्डिनेंस केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद अब राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए उनके पास भेजा गया है। - एआईएडीएमकेसांसदों के एक डेलिगेशन ने शनिवार को राष्ट्रपति से मुलाकात कर ऑर्डिनेंस पर जल्द मुहर लगाने की अपील की ताकि खेल पर लगा बैन हट सके। - एआईएडीएमके सांसदों ने लोकसभा के डिप्टी स्पीकर एम थम्बीदुरई की अगुआई में प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की। एआईएडीएमके ने केंद्र सरकार को वॉर्निंग भी दी है। - कहा, अगर राज्य के हितों और लोगों की आकांक्षाओं को नजरअंदाज किया गया तो उसके खतरनाक नतीजे हो सकते हैं। - बता दें कि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में भी है। कोर्ट केंद्र सरकार की अपील पर एक हफ्ते तक कोई अंतरिम आदेश जारी नहीं करने पर सहमत हो गया है। तमिलनाडु में जल्लीकट्टू पर 2014 से बैन है। - उधर, चेन्नई के मरीना बीच पर आंदोलन जारी है। प्रदर्शन करने वालों में स्टूडेंट्स, वकील, एक्टर्स, आर्टिस्ट्स और आईटी प्रोफेशनल्स शामिल हैं। इन्होंने बैन हटने तक प्रोटेस्ट खत्म करने से इनकार कर दिया है। PETA पर कस सकता है शिकंजा - साउथ के मशहूर एक्टर सूर्या ने जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था पेटा से बिना शर्त माफी मांगने को कहा है। सूर्या ने पेटा इंडिया के सीईओ को लीगल नोटिस भेजा है। - दरअसल, संस्था ने दावा किया था कि एक्टर ने अपनी फिल्म Si3 को प्रमोट करने के लिए जल्लीकट्टू का सपोर्ट किया है। - इस पर सूर्या ने कहा, पेटा मानसिक दबाव में है, वह माफी मांगे या कानूनी कार्रवाई का सामना करे। - उधर, आंदोलनकारियों की भी मांग है कि खेल से बैन हटाकर पेटा पर लगाया जाए। - लिहाजा चर्चा है कि तमिलनाडु सरकार अब पेटा पर बैन लगाने के लिए कानूनी रास्ते तलाश रही है। मोदी ने किया ट्वीट - नरेंद्र मोदी ने शनिवार कोखेल के सपोर्ट में ट्वीट किया। - लिखा, हमें तमिलनाडु की समृद्ध संस्कृति पर बहुत गर्व है, लोगों की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को पूरा करने की कोशिश की जा रही है। रजनीकांत की बेटी एश्वर्या भी सपोर्ट में - जल्लीकट्टू पर बैन को लेकर बहस जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल तक पहुंच गई। - फेस्टिवल में शनिवार को रजनीकांत की बेटी ऐश्वर्या रजनीकांत धनुष ने इसका सपोर्ट किया। कहा, मुझे गर्व है कि मैं तमिल हूं और ये हमारी परंपरा है। इसे बैन नहीं होना चाहिए। मैं इसके सपोर्ट में लोगों के साथ हूं। - जल्लीकट्टू के सपोर्ट में साउथ फिल्म इंडस्ट्री के टॉप एक्टर्स के अलावा श्रीश्री रविशंकर और सदगुरु जग्गी वासुदेव भी हैं। DMK नेताओं ने रखा उपवास - डीएमके प्रेसिडेंट एमके स्टालिन, पार्टी की राज्यसभा सांसद कनिमोझी समेत कई नेताओं ने शनिवार को जल्लीकट्टू के सपोर्ट में दिनभर का उपवास रखा। - पार्टी ने केंद्र सरकार से सांड को परफॉर्मिंग एनिमल्स की लिस्ट से डि-नोटिफाई करने की मांग की है। - साथ केंद्र से यह भी कहा है कि वह यह तय करे कि आगे से जल्लीकट्टू पोंगल फेस्टिवल पर बिना किसी दिक्कत के होगा। कमल हासन ने भी किए कई ट्वीट - कमल हासन ने शनिवार को कई ट्वीट कर आंदोलन का सपोर्ट किया। उन्होंने कहा, अहिंसा बनाए रखें, इससे हमें जीत हासिल करने में मदद मिलेगी। दुनिया हमें देख रही है। - तमिलों ने कई बार भारत को गर्व का अहसास कराया है। अपने मकसद के लिए मजबूती से लड़ें। महिला-पुरुष इस मौके पर साथ आएं। - सविनय अवज्ञा आंदोलन का ड्राफ्ट 1930 में मद्रास में तैयार किया गया था, अब 2017 में तमिलनाडु में यह कामयाबी के साथ लागू होगा। - यह जनता का आंदोलन है, मुझे लगता है सेलिब्रिटीज को इसे सिर्फ सपोर्ट करना चाहिए और लोगों से मौका छीनना नहीं चाहिए। - मैं न्यूज देख रहा हूं, तमिलनाडु में चारो तरफ लोगों का प्रदर्शन चल रहा है, धन्यवाद, आप स्टूडेंट्स नहीं हो, अब आप टीचर्स हो। मैं आपका फैन हो। पेटा ने क्या कहा ? - पेटा इंडिया ने कहा, हम ये मानते हैं कि एक दिन दुनिया में होने वाले सभी ब्लड स्पोर्ट्स इतिहास का हिस्सा बन जाएंगे। भले वो दिन आज का ना हो। - जलियाकट्टू का मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है। नैतिकता के पैमाने पर देखें तो जानवरों, बच्चों और बुजुर्गों के साथ क्रूरता बेहद घिनौना काम है।
    Last Updated: January 21, 21:18 PM
  • पटना. शराबबंदी के सपोर्ट में शनिवार दोपहर ह्यूमन चेन का हिस्सा बनने आए 83 लोग बेहोश हो गए। इनमें ज्यादातर स्कूली बच्चे थे। हालांकि, कोर्ट में सरकार ने कहा था कि किसी को इस प्रोग्राम में जबरदस्ती शामिल नहीं किया जाएगा। इस प्रोग्राम में कई स्कूलों और आंगनबाड़ी से आए बच्चे भी शामिल हुए। इस बीच, नीतीश कुमार सरकार ने दावा किया कि इस ह्यूमन चेन में राज्यभर में 3 करोड़ लोगों ने हिस्सा लिया। ये वर्ल्ड रिकॉर्ड हो सकता है।सरकार ने कोर्ट को दिलाया था भरोसा... - सरकार ने हाईकोर्ट को मानव श्रृंखला के बारे में शुक्रवार को गारंटी दी कि प्रोग्राम में स्कूली बच्चे क्या, किसी को भी जबरिया शामिल नहीं कराया जाएगा। - कोर्ट ने कहा, हमें इस गारंटी पर भरोसा है, लेकिन हम इसे भी देखेंगे। इसके लिए 28 को फिर सुनवाई होगी। - मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह और डीजीपी पी.के.ठाकुर को भी कोर्ट ने बुलाया था। - कोर्ट ने अफसरों से कहा था, पुलिस-प्रशासन, दमकल, एंबुलेंस, मरीज ले जा रही प्राइवेट गाड़ी वकील-मुवक्किल की गाड़ियां ना रोकी जाएं। 3 करोड़ लोग मानव श्रृंखला में खड़े हुए - सीएम नीतीश कुमार और लालू प्रसाद ने भी गांधी मैदान पहुंचकर श्रृंखला बनाई। - सरकार का दावा है कि कुल 11 हजार 292 किमी की इस श्रृंखला में 3 करोड़ से ज्यादा लोग शामिल हुए। ये वर्ल्ड रिकॉर्ड हो सकता है। - इस मानव श्रृंखला की 5 सैटेलाइट, 38 ड्रोन व 6 हेलिकॉप्टर से फोटो ली गई। - मानव श्रृंखला के रिकॉर्ड को देखने के लिए लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स की टीम पहुंची। पूरे देश में जाएगा मैसेज- लालू - मानव श्रृंखला में शामिल होने राजद प्रमुख लालू यादव पटना के गांधी मैदान पहुंचे। - उन्होंने कहा, शराब पीने से सेहत खराब होती है। शराब के खिलाफ हम लोग आज एकजुट होकर खड़े होने आए हैं। इससे पूरे देश में मैसेज जाएगा। - बीजेपी ने मानव श्रृंखला का समर्थन किया। - वहीं, बीजेपी सांसद और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि यह नीतीश कुमार का मकड़जाल है। सड़कों पर इमरजेंसी लागू कर दी गई है। मैं इस जाल में नहीं फंसने वाला हूं। एक-दूसरे से जुड़ी राज्य की चारों दिशाएं - मानव श्रृंखला का मुख्य हिस्सा पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक 3007 किमी लंबा था। इसमें करीब 56 लाख लोग शामिल हुए। - उत्तर बिहार में मानव श्रृंखला का प्रस्तावित रूट 1821 किमी, जबकि दक्षिण बिहार में 1186 किलोमीटर का था। - उत्तर बिहार की श्रृंखला दक्षिण बिहार से महात्मा गांधी सेतु, राजेन्द्र सेतु और विक्रमशिला सेतु पर मिली। - इसके अलावा जिलों के अंदर की सड़कों पर 8,285 किमी लंबी श्रृंखला बनी, जिसमें 1.5 करोड़ लोगों शामिल हुए। गांधी मैदान से शुरू हुईं चार श्रृंखलाएं - गांधी मैदान के 8.5 एकड़ एरिया में बिहार के नक्शे पर मानव श्रृंखला बनाई गई। नक्शे के किनारे पर करीब 5,463 लोग हाथ में हाथ थामे खड़े हुए। - नक्शे के अंदर बिहार का नाम और शराब की बोतल को क्रॉस करती तस्वीर दिखाई गई थी।
    Last Updated: January 21, 21:05 PM
  • नई दिल्ली. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि उनके लिए धर्म मायने नहीं रखता। दरअसल, हिंदू जागरण संघ ने ट्वीट करके सुषमा पर हिंदू-मुस्लिम में भेदभाव करने का आरोप लगाया था। इसी पर सुषमा ने जवाब दिया था। बता दें कि सुषमा स्वराज ट्विटर पर गुहार लगाने वालों की मदद करने के लिए जानी जाती हैं। क्यों लगाया आरोप... - हिंदू जागरण संघ ने ट्वीट किया, मोदीजी आपकी मंत्री सुषमा (स्वराज) सिर्फ मुस्लिमों के वीजा पर ध्यान देती हैं। लेकिन हिंदुओं को भारत का वीजा हासिल करने में शोषण का सामना करना पड़ रहा है। यह बेहद दुखद है। - अपनी हाजिर जवाबी के लिए मशहूर सुषमा स्वराज ने इसके जवाब में ट्वीट किया, भारत मेरा देश है। भारतीय मेरे लोग हैं। जाति, राज्य, भाषा या धर्म मेरे लिए महत्व नहीं रखते। किडनी की पेशकश पर भी ऐसा ही जवाब दिया था - पिछले साल नवंबर में सुषमा स्वराज ने ट्वीट करे अपनी किडनी खराब होने की बात कही थी। - इस परमुजीब अंसारी नाम के एक शख्स ने उन्हें अपनी किडनी देने की पेशकश की थी। - मुजीब ने ट्विटर पर लिखा था, सुषमा स्वराज मैम, मैं बीएसपी का समर्थक हूं और एक मुस्लिम हूं, लेकिन मैं आपके लिए अपनी किडनी दान करना चाहता हूं। - मेरे लिए आप मां समान हैं। अल्लाह आपको बरकत दे। - इस पर सुषमा ने ट्वीट किया,भाइयो, आपका बहुत-बहुत शुक्रिया। मुझे यकीन है, किडनी पर किसी धर्म का कोई ठप्पा नहीं होता। चर्चा में रहते हैं सुषमा के ट्वीट - सुषमा अक्सर अपने ट्वीट की वजहों से चर्चा में रहती हैं। - अमेजन पर तिरंगे वाली डोरमैट्स बेचने पर सुषमा स्वराज ने कंपनी को चेतावनी दी थी। - उन्होंने ट्विटर पर लिखा था, भारतीय झंडे का अपमान करने वाले प्रोडक्ट बेचना बंद करो, नहीं तो अमेजन के अॉफिसर्स को वीजा नहीं दिया जाएगा। पहले दिए गए वीजा भी कैंसिल कर दिए जाएंगे। - इसके बाद अमेजन ने तिरंगे की तस्वीर वाली डोरमैट्स अपनी वेबसाइट से हटा ली थीं।
    Last Updated: January 21, 21:04 PM
  • नई दिल्ली. बीजेपी-कांग्रेस से पैसे लेकर आम आदमी पार्टी (AAP) के कैंडिडेट्स को वोट देने की अरविंद केजरीवाल की अपील को इलेक्शन कमीशन ने आचार संहिता का वॉयलेशन माना है। ईसी ने केजरीवाल को हिदायत दी है कि फिर ऐसा बयान दिया तो आप की मान्यता रद्द हो सकती है। उधर, केजरीवाल ने ईसी के ऑर्डर को गलत बताकर इसे कोर्ट में चुनौती देने की बात कही है।केजरीवाल ने स्पीच में क्या कहा था... - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 8 जनवरी को गोवा में रैली के दौरान केजरीवाल ने कहा, अगर बीजेपी या कांग्रेस वाले पैसे देने आएं तो उन्हें मना मत करना, क्योंकि ये आपके ही पैसे हैं। अपना समझकर चुपचाप रख लेना। - यही नहीं अगर वे पैसे ऑफर ना भी करें तो उनके ऑफिस जाइए और पैसे की मांग कीजिए। और जब वोट डालने की बारी आए तो उनके खिलाफ आप के कैंडिडेट्स के लिए बटन दबाएं। - 16 जनवरी को भी ईसी ने केजरीवाल को शो-कॉज नोटिस जारी किया था। तब उन्होंने कहा था, बीजेपी-कांग्रेस वाले पैसे बांटने आएंगे। महंगाई को देखते हुए आप लोगों को 5 हजार की बजाय 10 हजार के नए नोट मांगना चाहिए और वोट सिर्फ आप को ही देना है। - ईसी ने इन स्पीच की सीडी लोकल एडमिनिस्ट्रेशन से मांगी थीं और केजरीवाल को जवाब दाखिल करने के लिए ऑर्डर दिया था। वोट के लिए नोट लेने का चलन शुरू होने का डर - केजरीवाल दिल्ली इलेक्शन के दौरान भी वोटर्स से अपील कर चुके हैं कि वे दूसरी पार्टियों से पैसे लेकर आप को वोट दें। - माना जा रहा है कि इससे पैसे लेकर वोट देने का चलन बन सकता है। - बता दें कि गोवा में 4 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग होनी है। ईसी ने स्पीच में संयम रखने की हिदायतदी - ईसी ने केजरीवाल को हिदायत देते हुए कहा, आप यह ध्यान रखें कि अगर आगे आचार संहिता का उल्लंघन जारी रखते हैं तो आपके और पार्टी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी, जिसमें आम आदमी पार्टी की मान्यता रद्द करने की कार्रवाई भी शामिल है। - कमीशन ने आगे कहा, आगे से वह (केजरीवाल) चुनाव के दौरान अपनी स्पीच में संयम बरतेंगे और आचार संहिता का उल्लंघन नहीं करेंगे। - अगर ऐसा हुआ तो इलेक्शन सिंबल्स (रिजर्वेशन एंड अलॉटमेंट) एक्ट, 1968 के पैरा-16A के तहत आयोग किसी पार्टी की मान्यता खत्म या सस्पेंड करने का अधिकार रखता है।
    Last Updated: January 21, 21:02 PM
  • लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव में सपा-कांग्रेस गठबंधन के आसार बेहद कम माने जा रहे हैं। दोनों पार्टियों में बात 20 एक्स्ट्रा सीटों को लेकर बिगड़ी, जो अखिलेश कांग्रेस को नहीं देना चाहते। सपा नेता नरेश अग्रवाल ने कहा कि हमने 100 सीटें कांग्रेस को ऑफर की थीं, लेकिन वो 120 पर अड़े थे। उन्होंने कहा कि गठबंधन के आसार करीब-करीब खत्म हो गए हैं। उधर, दिल्ली में यूपी के कांग्रेस नेताओं के साथ पार्टी हाईकमान की मीटिंग हुई। कांग्रेस ने फर्स्ट और सेकेंड फेज के लिए 140 कैंडिडेट्स के नाम फाइनल भी कर दिए। बता दें कि मुलायम सिंह यादव कांग्रेस के साथ गठबंधन के पक्ष में नहीं थे, लेकिन अखिलेश यादव साथ चलने की बात कह रहे थे। प्रियंका गांधी ने अपने एक करीबी को अखिलेश से बात करने भी भेजा था।गठबंधन नहीं होने के लिए सपा ने कांग्रेस को बताया जिम्मेदार... - सपा नेता नरेश अग्रवाल ने कहा कि गठबंधन नहीं हो पाने के लिए कांग्रेस ही जिम्मेदार है। - अग्रवाल ने कहा, अखिलेश यादव ने ऑफर दिया था 100 सीट देने का, लेकिन कांग्रेस 120 सीटों से कम नहीं मान रही थी। - हमने उन्हें बता दिया है कि हम 300 सीटों से कम पर चुनाव नहीं लड़ेंगे। बातचीत में रुकावट नहीं- राजबब्बर - यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा कि बातचीत में किसी तरह की रुकावट नहीं है। - कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कांग्रेस सेंट्रल इलेक्शन कमेटी की मीटिंग में फर्स्ट और सेकेंड फेज की सीटें फाइनल कर दी गई हैं। - उधर, यूपी बीजेपी के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि सपा-कांग्रेस के गठबंधन से ना बीजेपी की सेहत पर असर पड़ने वाला है और ना टूटने से। अपने गढ़ में कांग्रेस चाहती थी सीटें - सोर्सेज की मानें तो कांग्रेस अपना गढ़ रहे अमेठी, रायबरेली और सुल्तानपुर जिलों की 15 सीट मांग रही थी। - 2012 में इन तीन जिलों में 15 सीटों पर 12 पर सपा ने जीत दर्ज की थी और कांग्रेस को 2 सीट और पीस पार्टी को 1 सीट मिली थी। 5 सीटों का अखिलेश ने और दिया था ऑफर - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस गठबंधनको बचाने के लिएप्रियंका गांधी ने अपने भरोसेमंद धीरज को 20 जनवरी की देर रात दिल्ली से लखनऊ भेजा था। - धीरज लखनऊ के एक होटल में रुके थे। वह यहां सिर्फ अखिलेश यादव से मिलने आए थे। - सूत्रों के मुताबिक, अखिलेश ने शनिवार दोपहर धीरज से बात की। इसके बाद दिल्ली में गठबंधन को लेकर राहुल और सोनिया ने यूपी के नेताओं के साथ बैठक की। सपा ने कहा था- 80 से 85 सीटें देंगे - सपा नेता किरणमय नंदा ने शुक्रवार को दिल्ली में कहा था, गठबंधन के लिए हम लोग तैयार हैं। जहां पर हम चौथे नंबर पर हैं, वहां कांग्रेस लड़ेगी। - हालांकि, अभी तक कांग्रेस की ओर से पॉजिटिव रिस्पॉन्स नहीं मिला है। हमारा नारा नेताजी का नाम, अखिलेश का काम होगा। - अमेठी की सीट सपा के ही पास रहेगी। हम कांग्रेस को 84-85 सीट दे सकते हैं।
    Last Updated: January 21, 21:01 PM
  • गुमला (झारखंड). यहां के सोसा थाना क्षेत्र में बाइक सवार दो लोगों ने शनिवार शाम बिजनेसमैन सुनील कुमार पांडू की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस घटना से गुस्साए गांव के लोगों ने एक आरोपी को पकड़ लिया। हाथ-पैर बांधकर उसे जमकर पीटा। इसके बाद पत्थरों से कुचलकर उसकी हत्या कर दी। दो राउंड की थी फायरिंग... - गुमला के एसपी चंदन झा ने बताया कि बाइक सवार लड़कों ने दो राउंड फायरिंग किए। दोनों गोली बिजनेसमैन सुनील कुमार को लगीं। उनकी मौके पर ही मौत हो गई। - घटना को अंजाम देकर भाग रहे दोनों आरोपियों में से एक को भीड़ ने पकड़ लिया। पहले तो उसे जमकर पीटा, उसके बाद पत्थर मार-मार कर उसकी जान ले ली। - घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपी की बॉडी को बरामद किया। उसे पहले हॉस्पिटल लेकर गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। आगे की स्लाइड्स में देखें: घटना की फोटो और वीडियो...
    Last Updated: January 21, 20:42 PM
  • लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव मेें बीजेपी के फर्स्ट और सेकेंड फेज के स्टार प्रचारकों में वरुण गांधी और विनय कटियार जैसे बड़े नेताओं का नाम नहीं है। बीजेपी ने शनिवार को 40 स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी कर दी। इस लिस्ट में नरेंद्र मोदी और अमित शाह के अलावा स्मृति ईरानी का भी नाम है। इनके अलावा मनोज तिवारी को भी स्टार प्रचारकों में शामिल किया गया है। आदित्यनाथ और मेनका गांधी लिस्ट में... - स्टार प्रचारकों में नरेंद्र मोदी, अरुण जेटली, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, को टाॅप पर रखा गया है। - स्टार प्रचारकों की पहली लिस्ट में फायर ब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ, उमा, मनोज तिवारी, मेनका को जगह मिली है। - पहले दूसरे फेज के लिए वरुण गांधी, मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार, जैसे बड़े नामों को लिस्ट में जगह नहीं मिली है। - स्टार प्रचारकों में 15 केंद्रीय मंत्री, 2 सीएम, 2 प्रदेश अध्यक्ष, 8 सांसद, 2 विधायक, 1 एमएलसी शामिल है। - बसपा से बीजेपी में शामिल हुए लोकेश प्रजापति को भी स्टार प्रचारकों में जगह मिली है। - लिस्ट में बसपा से आए सांसद नरेंद्र कश्यप का नाम भी शामिल है। बता दें, इन पर दहेज में बहू की हत्या करने का आरोप है। - वहीं, हरियाणा में कांग्रेस पार्टी से 4 बार सांसद रहे अवतार सिंह को यूपी में स्टार प्रचारकों में जगह मिली है। ये हैं BJP के 40 स्टार प्रचारक 1- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, 2- अमित शाह जी 3- गृहमंत्री राजनाथ सिंह 4- नितिन गडकरी 5- अरुण जेटली 6- वेंकैया नायडू 7- रामलाल 8- स्मृति जुबिन ईरानी 9- ओम प्रकाश माथुर 10- केशव प्रसाद मौर्य 11- कलराज मिश्र 12- उमा भारती 13- शिवराज सिंह चैहान 14- वसुन्धरा राजे सिंधिया 15- पीयूष गोयल 16- डॉ. महेश शर्मा 17- योगी आदित्यनाथ 18- डॉ. संजीव बालियान 19- राम बिलास पासवान 20- मुख्तार अब्बास नकवी 21- हेमा मालिनी 22- जनरल वीके सिंह 23- साध्वी निरंजन ज्योति 24- संतोष गंगवार 25- शिव प्रकाश 26- सुनील बंसल 27- राजवीर सिंह 28- कौशल किशोर 29- मनोज तिवारी 30- स्वामी प्रसाद मौर्य 31- एसपी सिंह बघेल 32- हुकुम सिंह 33- डॉ. रामशंकर कठेरिया 34- रविकांत गर्ग 35- भूपेन्द्र यादव 36- बीएल वर्मा 37- मेनका गांधी 38- नरेन्द्र कश्यप 39- अवतार सिंह भड़ाना 40- लोकेश प्रजापति
    Last Updated: January 21, 19:54 PM
  • लखनऊ. मायावती ने शनिवार को यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, सपा के 5 साल के और मोदी के ढाई साल के कार्यकाल के दौरान दोनों ही सरकारों ने गरीबों, दलितों, पिछड़ों और किसान विरोधी नीतियों को अपनाने का काम किया है। केंद्र सरकार आरक्षण खत्म करने पर आमादा है। इससे प्रदेश की 22 करोड़ जनता में गुस्सा है। यही वजह है कि बीजेपी यूपी में अपना सीएम कैंडिडेट का एलान नहीं कर पा रही। जनता उन्हें सबक सिखाएगी।यूपी में 500 दंगे हो चुके हैं... - मायावती ने कहा, प्रदेश की सपा सरकार में शुरू से ही अराजक, अपराधी और भ्रष्ट हुकूमत वाली रही है। अब तक प्रदेश में 500 छोटे-बड़े दंगे हुए हैं। - केंद्र की मोदी सरकार आरक्षण खत्म करना चाहती है। अगर ऐसा हुआ तो प्रदेश की जनता आने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनाव में सबक सिखाएगी। - कांग्रेस ने पहले शीला दीक्षित को सीएम कैंडिडेट के रूप में पेश किया, लेकिन सपा से गठबंधन करने के लिए अखिलेश यादव जो एक दागी चेहरा है, उस पर हामी भर दी। - ये तो जाहिर है कि बिहार में नीतीश कुमार ने कांग्रेस की नैया को पार लगा दिया था, लेकिन अब ये सवाल उठने लगा है कि प्रदेश की जनता इन सरकारों को क्या जवाब देगी। - अखिलेश बीजेपी नेताओं को बचाने का दोषी है। इसीलिए वो आरोपी फिर चुनाव में उतर रहे हैं। यूपी की जनता को इनकी आंख खोलनी चाहिए। - बसपा को रोकने के लिए विरोधी पार्टियां मिली-भगत कर चुनाव लड़ना चाहती हैं। - बता दें कि मुलायम के करीबी माने जाने वाले अंबिका चौधरी ने बीएसपी ज्वाइन कर ली। जनता सिखाएगी सबक - मायावती ने कहा, 5 साल से त्रस्त प्रदेश की जनता को सपा को वोट नहीं देना चाहिए। सपा के पूर्व प्रमुख मुलायम सिंह के चलते शिवपाल यादव बलि का बकरा बन गए। - शिवपाल को जनता की नजरों में पूरी तरह से गिराने की कोशिश की गई है। जनता अखिलेश खेमे को सबक सिखाएगी। इनका बेस वोट भी दो खेमों में बंटकर रह जाएगा। - सपा को जो वोट देता है, उसका वोट खराब होगा और इसका फायदा बीजेपी को पहुंचेगा। बीजेपी को रोकने के लिए अल्पसंख्यकों को बसपा को वोट देना चाहिए। बसपा का वोट इधर-उधर जाने वाला नहीं है। कौन हैं अंबिका चौधरी? - अंबिका चौधरी मुलायम और शिवपाल के बेहद करीबी माने जाते हैं, लेकिन अखिलेश यादव की 208 कैंडिडेट्स की लिस्ट में उनका टिकट काट दिया था। - एक्सपर्ट्स का कहना है कि अखिलेश के बढ़ते असर की वजह से शिवपाल खेमे के लोग अब दूसरी जगह तलाश रहे हैं। - अंबिका 1993 से 2012 तक फेफना विधानसभा से विधायक और सपा सरकार में राजस्व मंत्री रहे। - 10 साल तक सपा स्पोक्सपर्सन रहे चौधरी तीसरी बार 2012 में चुनाव हारे। इसके बाद पार्टी ने उन्हें एमएलसी बना दिया। (पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें) - दोबारा राजस्व मंत्री पिछड़ा वर्ग व विकलांग मंत्री बनाए गए। बाद में उनसे लखनऊ के एक कॉलेज के जमीनी विवाद में राजस्व मंत्री के पद से हटाया गया था।
    Last Updated: January 21, 19:21 PM
  • भोपाल/सीहोर।मध्य प्रदेश के सीहोर के जिला हॉस्पिटल में भाजपा नेता जसपाल अरोरा और डॉक्टर्स के बीच हुए विवाद के बाद पैदा हुई अव्यवस्थाओं ने मरीजों के सामने परेशानी खड़ी कर दी है। डॉक्टर्स के हड़ताल पर होने से नर्स करती रहीं इलाज... यहां-वहां भटकता रहे माता-पिता ग्राम संग्रामपुर निवासी कमल मेवाड़ा के 4 वर्षीय बेटा आर्यन की तबियत बिगड़ने पर उसे हॉस्पिटल लाया गया था। हॉस्पिटल में हड़ताल के कारण उसके परिजन यहां-वहां भटकते रहे, लेकिन कोई डॉक्टर वहां मौजूद नहीं था। बाद में नर्सों ने बच्चे का इलाज शुरू किया। प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. केयू कुरैशी का कहना है कि हॉस्पिटल आने से पहले ही बच्चे की मौत हो गई थी। इस बीच सुरक्षा की दृष्टि से एडीएम चंद्रमोहन मिश्रा, तहसीलदार संतोष मुदगल और सीएमएचओ डॉ. आरके गुप्ता हॉस्पिटल में डंटे हुए हैं। यह है मामला... एक किशोर के मेडिकल होने में देरी पर भड़के भाजपा नेता और नपाध्यक्ष के पति जसपाल सिंह अरोरा द्वारा जिला अस्पताल में डॉक्टर से बदसलूकी मामले में शुक्रवार को भी सीहोर जिला अस्पताल में हड़ताल जारी रही। भाजपा से निलंबन पर अड़े डॉक्टर्स... अरोरा के खिलाफ FIR के बावजूद डॉक्टर्स नहीं माने.. शुक्रवार को इस मामले को लेकर विरोध-समर्थन चलता रहा। जहां डॉक्टरों ने जिला अस्पताल में अपनी ड्यूटी नहीं की, वहीं अरोरा को समर्थन में भाजपा कार्यकर्ता SP ऑफिस पहुंचे और ज्ञापन दिया। इस मामले में गुरुवार को जिला अस्पताल के 21 डॉक्टरों ने इस्तीफे की पेशकश कर दी थी। नाराज डॉक्टर भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार चौहान से मिले। पार्टी ने जसपाल को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। देर शाम डॉक्टरों ने कोतवाली पहुंचकर अरोरा के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई। यह है मामला... ज्यादती से पीड़ित एक किशोर को बुधवार को मेडिकल के लिए जिला अस्पताल लाया गया था। काफी देर बाद भी जब डॉक्टर ने मेडिकल नहीं किया तो परिजनों ने पूर्व जिपं अध्यक्ष जसपाल सिंह अरोरा को बुलाया। उन्होंने डॉक्टर को अपशब्द कहे। वे उनका फोन नहीं उठाने को लेकर गुस्सा थे। साथ ही धमकी दी थी कि कपड़े फाड़कर, जूते मारकर अस्पताल से भगाऊंगा। दिनभर जसपाल के समर्थन और विरोध में ज्ञापन भी दिए गए। मप्र मेडिकल एसोसिएशन के महासचिव डॉ. माधव हसानी और डॉ. अमित मालकर गुरुवार सुबह जिला अस्पताल पहुंचे। इसके बाद 21 डॉक्टरों के साथ कलेक्टोरेट पहुंचकर अपने इस्तीफे सौंप दिए। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार चौहान के निर्देश पर कार्यालय मंत्री सत्येंद्र भूषण सिंह ने अरोरा को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उनसे सात दिन के भीतर स्पष्टीकरण देने को कहा गया है। उधर, अरोरा ने कहा,मैंने कुछ किया, जनहित में किया। आगे लड़ाई को तैयार हूं। मैं जेल जाने को तैयार हूं। राजनेता होने के नाते जनसमस्याएं उठाना मेरी प्राथमिकता है। डॉ. धर्मेंद्र सुमन और अन्य डॉक्टरों की शिकायत पर जसपाल अरोरा के खिलाफ धारा 294, 353, 506 आईपीसी, 3-4 डॉक्टर प्रोटेक्शन एक्ट और अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। -अजय नायर, टीआई, कोतवाली
    Last Updated: January 21, 19:12 PM
  • भोपाल/सागर. सागर में हो रही सेना की भर्ती में शामिल होने आए भिंड-मुरैना के लड़कों पर लड़कियों-महिलाओं से छेड़छाड़-बदसलूकी और उपद्रव करने का आरोप लगा है। शुक्रवार को इन्होंने 10 से ज्यादा ट्रेनों में करीब 150 बार चेन पुलिंग की, पथराव किया और लोगों से मारपीट की। इसके बाद सागर से बीना के बीच स्टेशनों पर पुलिस को अलर्ट किया गया है। घरों में जबरन घुसने की कोशिश... - सागर से करीब 7-8 किमी दूर बहेलिया गदगद गांव में सेना की भर्ती चल रही है। - इसमें शामिल होने आए करीब 150 लड़कों ने शुक्रवार देर रात गांव के घरों में जबर्दस्ती घुसने की कोशिश की। - घरों में उनका रात बिताने का इरादा था। विरोध करने पर उन्होंने महिलाओं से बदसलूकी की। - गांववालों की इन्फॉर्मेंशन पर मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी लड़कों को खदेड़ दिया। - बता दें कि सेना की भर्ती में आने वाले भिंड-मुरैना के लड़के उत्पात मचाने के मामले में पहले से ही बदनाम हैं। ट्रेन में लड़कियों से छेड़छाड़ - बिलासपुर-भोपाल पैसेंजर में सवार प्रमेद्र दांगी ने बताया कि सेना की भर्ती से लौट रहे लड़कों ने ट्रेन में लड़कियों से छेड़छाड़ भी की। - पैरेंट्स ने विरोध किया तो उनके साथ मारपीट की गई। उल्टा उन्हीं से माफी भी मंगवाई गई। - रास्ते में जहां-जहां ट्रेन की चेन पुलिंग की गई ट्रैके आसपास के खेतों को नुकसान पहुंचाया गया। स्टेशनों पर पथराव, पैसेंजर्स से मारपीट - भर्ती से लौट रहे लड़कों ने सागर से बीना के बीच 6 स्टेशनों पर उत्पात मचाया। - मकरोनिया स्टेशन पर पथराव कर दिया। बीना में एक लड़के को इतना पीटा की उसका हाथ फ्रैक्चर हो गया। - ईशरवारा स्टेशन के पास किशनपुर में भी ट्रेन रोककर पथराव कर दिया। - बाद में ईशरवारा स्टेशन मास्टर की शिकायत पर मौके पर पहुंची पुलिस ने ट्रेन रवाना करवाई। 10 से ज्यादा ट्रेनों में 150 बार चेन पुलिंग - सागर से बीना के बीच शुक्रवार को इन लड़कों ने 10 ट्रेनों की करीब 150 बार चेन पुलिंग की। - बिलासपुर-भोपाल पैसेंजर में ही 113 बार चेन पुलिंग की गई। इसकी वजह से यह ट्रेन बीना करीब 4 घंटे देरी से पहुंची। - इसके अलावा भागलुपर एक्सप्रेस, कोलकाता-अजमेर एक्सप्रेस, रीवा-इंदौर एक्सप्रेस, ग्वालियर इंटरसिटी, पठानकोट एक्सप्रेस, साबरमती एक्सप्रेस, पंजाब मेल, झेलम एक्सप्रेस और मेमू ट्रेन में भी जगह-जगह चेन पुलिंग की गई।
    Last Updated: January 21, 18:12 PM
  • इस्लामाबाद. पाकिस्तान की दो पार्लियामेंटरी कमेटियों ने एक ज्वाइंट रिजोल्यूशन पास किया है। इसमें भारत से कहा है कि वह जम्मू-कश्मीर में बनाए जा रहे दो हाईड्रो प्रोजेक्ट्स का काम फौरन रोक दे। पाकिस्तान ने यह भी कहा है कि भारत पानी विवाद सुलझाने के लिए बने कोर्ट के कॉन्स्टीट्यूशन पर सहमति दे। चिनाब और झेलम नदी पर बनाए जा रहे प्रोजेक्ट्स... - डॉन अखबार के मुताबिक, नेशनल असेंबली की फॉरेन अफेयर्स और वॉटर एंड पॉवर कमेटियों ने शुक्रवार को इस्लामाबाद में भारत के साथ चल रहे पानी के विवाद पर चर्चा की। - मीटिंग में ज्वाइंट रिजोल्यूशन पास किया गया। इसमें भारत से किशनगंगा और रातले हाईड्रो प्रोजेक्ट्स का काम रोकने की मांग की गई है। - बता दें कि भारत ये दोनों डैम जम्मू-कश्मीर में चिनाब और झेलम नदी पर बना रहे हैं। PAK की वर्ल्ड बैंक से अपील - पाकिस्तान ने भारत के इन हाईड्रो प्रोजेक्ट्स का मुद्दा वर्ल्ड बैंक के सामने भी उठाया है। - पाक ने वर्ल्ड बैंक से कहा है कि वह इस मसले को हल करने के लिए कोर्ट ऑफ आर्बिट्रेशन बनाए। - रेजोल्यूशन में कहा गया है कि इंडस वैली ट्रीटी (आईडब्ल्यूटी) के तहत यह वर्ल्ड बैंक की जिम्मेदारी है कि वह इस मामले में फौरन दखल दे। - इस रेजोल्यूशन को सरकार और अपोजिशन दोनों ने मंजूर किया है। - रेजोल्यूशन में लिखा है, जब तक वर्ल्ड बैंक कोर्ट ऑफ आर्बिट्रेशन बनाने को मंजूरी नहीं देता, तब तक उसे भारत को राजी करना चाहिए कि वह मामला सुलझने तक रातले डैम पर कंस्ट्रक्शन रोक दे। इसलिए बढ़ा पाकिस्तान का टेंशन - बता दें कि इन दोनों डैम की वजह से भारत-पाकिस्तान के बीच तनातनी चल रही है। - झेलम और चिनाब नदी पाकिस्तान की पानी की जरूरत पूरी करने का बड़ा जरिया हैं। - अब इन पर भारत की ओर से किए जा रहे कंस्ट्रक्शन से पाकिस्तान टेंशन में है। अपोजिशन ने क्या कहा? - इमरान खान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के लीडर शाह महमूद कुरैशी ने कहा, भारत के साथ पानी का विवाद बहुत बड़ा है। इसके आगे कश्मीर मसला भी बौना साबित हो सकता है। बता दें कि शाह फॉरेन मिनिस्टर भी रहे हैं। - उन्होंने पाक सरकार को इस पर एक क्लियर रोडमैप तैयार करने की सलाह दी है। शाह ने भराेसा दिलाया कि इस मसले पर उनकी पार्टी सरकार के साथ है।
    Last Updated: January 21, 17:18 PM

Flicker