TOP NEWS

  • देखिये ट्रेनडिंग न्यूज़ अलर्टस
TOP NEWS
  • कोलकाता. IPL-10 के 27th मैच में 132 रन के टारगेट का पीछा करते हुए रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की टीम ने 9 ओवर में 8 विकेट खोकर 48 रन बना लिए हैं। टाइमल मिल्स (2) और श्रीनाथ अरविंद (4) क्रीज पर हैं। इससे पहले कोलकाता नाइटराइडर्स की पूरी टीम 131 रन पर ऑलआउट हो गई। कैसे गिरे बेंगलुरु के विकेट... - बेंगलुरु की टीम को पहला झटका पहले ही ओवर में लगा। जब कोल्टर नाइल की तीसरी बॉल पर विराट कोहली (0) को मनीष पांडेय ने कैच कर लिया। - दूसरा विकेट अगले ही ओवर में गिरा। जब उमेश यादव की दूसरी बॉल पर मनदीप सिंह (1) का कैच भी मनीष पांडेय ने ले लिया। इस वक्ट टीम का स्कोर 3 रन था। - तीसरे ओवर की तीसरी बॉल पर एबी डीविलियर्स (8) भी आउट हो गए। कोल्टर नाइल की इस बॉल पर उथप्पा ने उनका कैच ले लिया। - पांचवें ओवर में कोल्टर नाइल ने एक और विकेट ले लिया। इस बार उन्होंने केदार जाधव (9) को क्रिस वोक्स के हाथों कैच कराते हुए बेंगलुरु का चौथा विकेट गिराया। - सातवें ओवर में दो विकेट गिरे। क्रिस वोक्स के इस ओवर की दूसरी बॉल पर क्रिस गेल (7) का कैच कोल्टर नाइल ने ले लिया। वहीं तीसरी बॉल पर स्टुअर्ट बिन्नी (8) का कैच उथप्पा ने ले लिया। - पवन नेगी (2) के रूप में बेंगलुरु का सातवां विकेट गिरा। 7.3 ओवर में उन्हें कोलिन डीग्रैंडहोम ने lbw आउट कर दिया। - आठवां विकेट सैमुअल बद्री (0) का रहा। 8.3 ओवर में क्रिस वोक्स ने उन्हें lbw कर दिया। कैसी रही थी कोलकाता की इनिंग - टॉस हारकर पहले बैटिंग करते हुए कोलकाता की पूरी टीम 19.3 ओवर में 131 रन पर आउट हो गई। - कोलकाता की ओर से सुनील नारायण ने हाइएस्ट 34 रन बनाए। उनके अलावा क्रिस वोक्स (18), सूर्य कुमार यादव (15) ने कुछ रन बनाए। - बेंगलुरु के लिए युजवेंद्र चहल ने सबसे ज्यादा 3 विकेट लिए, तो वहीं पवन नेगी और टाइमल मिल्स ने 2-2 विकेट लिए। बिन्नी, बद्री और श्रीनाथ को 1-1 विकेट मिला। कैसे गिरे कोलकाता के विकेट - टॉस हारकर पहले बैटिंग करने उतरी कोलकाता को पहला झटका 3.4 ओवर में कप्तान गौतम गंभीर (14) के रूप में लगा। टाइमल मिल्स की बॉल पर केदार जाधव ने उन्हें कैच कर लिया। - दूसरा विकेट 5.4 ओवर में गिरा। जब सुनील नारायण (34) को स्टुअर्ट बिन्नी की बॉल पर युजवेंद्र चहल ने बाउंड्री पर कैच कर लिया। इस वक्त टीम का स्कोर 65 रन था। - अगले ही ओवर में तीसरा विकेट भी गिर गया, जब रॉबिन उथप्पा (11) को 6.2 ओवर में सैमुअल बद्री ने lbw कर दिया। - चौथे विकेट के रूप में यूसुफ पठान (8) आउट हुए। 9.1 ओवर में युजवेंद्र चहल की बॉल पर केदार जाधव ने उन्हें स्टम्पिंग कर दिया। - 12वें ओवर में तीन बॉल के अंदर दो विकेट गिरे। 11.1 ओवर में युजवेंद्र चहल की बॉल पर मनीष पांडेय (15) को बद्री ने कैच कर लिया। एक बॉल बाद ही ग्रैंडहोम (0) को विराट ने स्लिप में कैच कर लिया। इस वक्त स्कोर 39/6 रन था। - सातवां विकेट 16.3 ओवर में गिरा, जब टाइमल मिल्स की बॉल पर क्रिस वोक्स (18) को मनदीप सिंह ने बाउंड्री के करीब कैच कर लिया। - 18वें ओवर में लगातार दो बॉल पर दो बैट्समैन आउट हुए। इस ओवर की तीसरी बॉल पर पवन नेगी ने कोल्टर नाइल (2) को डीविलियर्स के हाथों कैच कराया। - नेगी की अगली बॉल पर सूर्य कुमार यादव (15) को टाइमल मिल्स ने कैच कर लिया। इस वक्त टीम का स्कोर 125/9 रन था। - आखिर विकेट कुलदीप यादव (4) का रहा, जो 19.3 ओवर में श्रीनाथ अरविंद की बॉल पर बोल्ड हो गए। कोलकाता नाइटराइडर्स का स्कोर बोर्डः बैट्समैन रन बॉल 4 6 सुनील नारायण कै. चहल बो. बिन्नी 34 17 6 1 गौतम गंभीर कै. जाधव बो. मिल्स 14 11 1 1 रॉबिन उथप्पा lbw बो. बद्री 11 9 2 0 मनीष पांडेय कै. बद्री बो. चहल 15 16 1 0 यूसुफ पांडेय स्टम्पिंग जाधव बो. चहल 8 8 0 0 सूर्य कुमार यादव कै. मिल्स बो. नेगी 15 19 1 0 कोलिन डीग्रैंडहोम कै. कोहली बो. चहल 0 2 0 0 क्रिस वोक्स कै. मनदीप बो. मिल्स 18 21 3 0 नैथन कोल्टरनाइल कै. डीविलियर्स बो. नेगी 2 3 0 0 उमेश यादव नॉट आउट 2 4 0 0 कुलदीप यादव बो. श्रीनाथ अरविंद 4 7 0 0 आगे की स्लाइड्स में देखें, मैच के फोटोज...
    Last Updated: April 23, 23:19 PM
  • नई दिल्ली. पिछले चार साल में हीटवेव्स (लू) ने 4620 लोगों की जान ले ली। इनमें से 4,246 लोगों की मौत केवल आंध्र और तेलंगाना में हुई। मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंस के मुताबिक 2016 में 1600 लोगों की जान खराब मौसम की वजह से गई, इनमें 557 लोगों ने हीटवेव्स के चलते जान गंवाई। इसी तरह 2015 में 2,081, 2014 में 549 लोगों की जान हीटवेव्स के चलते गई। बुजुर्गों और बच्चों पर ज्यादा असर... - गांधीनगर स्थित इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ के डायरेक्टर दिलीप मालवंकर ने कहा, हालांकि, देशभर में हीटवेव और डिहाइड्रेशन के अलावा दूसरे कारणों से जान गंवाने वालों की तादाद ज्यादा है। हालांकि, इनके आंकड़े कभीकभार ही सामने आते हैं। - डिहाइड्रेशन की वजह से रेस्पिरेटरी (सांस लेने से संबंधित) और रेनल (गुर्दा) फेलियर होता है। खासतौर से वो लोग ज्यादा शिकार होते हैं, जिन्हें हार्ट और किडनी की बीमारी होती है। डिहाइड्रेशन की वजह से जान गंवाने वालों की लिस्ट में सबसे ऊपर बुजुर्ग और बच्चे होते हैं। 2010 में अहमदाबाद में हीटवेव्स के चलते 65 लोगों की जान गई, लेकिन इसी दौरान वहां 800 और लोगों की मौत भी हुई थी। - बता दें कि मालवंकर अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के साथ मिलकर हीटवेव एक्शन प्लान पर काम कर रहे हैं। पिछले साल से जारी हो रहे हैं हीटवेव अलर्ट - पिछले साल से भारतीय मौसम विभाग हीटवेव्स के अलर्ट जारी कर रहा है। हीट वेव तब डिक्लेयर की जाती है, जब टेम्प्रेचर 45 डिग्री के पार हो जाता है। अगर टेम्प्रेचर नॉर्मल से 4-5 डिग्री ज्यादा है, तब हीटवेव का एलान किया जाता है। सामान्य से 6 डिग्री टेम्प्रेचर बढ़ने को गंभीर हीटवेव्स की कंडीशन माना जाता है। ग्लोबल टेम्प्रेचर बढ़ने के साथ ही हीटवेव्स में भी बढ़ोतरी हो रही है। - मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंस के आंकड़े बताते हैं कि 1961 से 1970 के बीच गंभीर हीटवेव्स के दिनों की संख्या 74 थी। 1971 से 1980 के बीच ये घटकर 34 हो गए थे। इसके बाद 1981 से 1990 के बीच 45 और 1991 से 2000 के बीच ऐसे 48 दिन रिकॉर्ड किए गए, जब गंभीर हीटवेव की कंडीशन थी। महाराष्ट्र में अब तक 10 लोगों की मौत - हेल्थ डिपार्टमेंट के मुताबिक महाराष्ट्र में मार्च और अप्रैल में गर्मी से मरने वालों का आंकड़ा 10 तक पहुंच गया। अलग-अलग शहरों में 29 लोग गर्मी की वजह से हॉस्पिटल एडमिट हो चुके हैं। नागपुर में 18 अप्रैल को पारा 45.5 डिग्री पहुंच गया था। इसने पिछले 10 सालों का रिकॉर्ड तोड़ा। विदर्भ के अधिकांश जिलों में टेम्प्रेचर 45 डिग्री के पार पहुंच गया है। पुणे मौसम विभाग ने पहले ही हीट वेव का अलर्ट जारी कर दिया था।
    Last Updated: April 23, 22:47 PM
  • नई दिल्ली.दिल्ली नगर निगम के 270 वार्डों के लिए रविवार को वोटिंग खत्म हो गई। स्टेट इलेक्शन कमीशन के मुताबिक, इस इलेक्शन में 54% वोटिंग हुई। नतीजे 26 अप्रैल को आएंगे। वोटिंग खत्म होने के बाद आए एग्जिट पोल में तीनों नगर निगमों में बीजेपी को बड़ी बढ़त के साथ लगातार तीसरी बार सत्ता में वापसी का अनुमान जताया है। इनमें आम आदमी पार्टी (आप) दूसरे और कांग्रेस तीसरे नंबर पर है। ABP न्यूज-सी वोटर के एग्जिट पोल ने बीजेपी को 218 सीट दी हैं। वहीं,इंडिया टुडे- एक्सिस के पोल में 200 से 220 सीट मिली हैं। इन दोनों एग्जिट पोल में कांग्रेस को 19- 31 और आम आदमी पार्टी को 23- 35के बीचसीट मिलने की बात कही गई है। 10 सालों से दिल्ली की तीनों नगरनिगमों- ईस्ट, नॉर्थ और साउथ पर बीजेपी काबिज है। बता दें कि दो वार्डों में कैंडिडेंट्स के निधन की वजह से वोटिंग नहीं हुई।बीजेपी फिर से सत्ता में आएगी... - स्टेट इलेक्शन कमिश्नर एस के श्रीवास्तव ने बताया कि2537 कैंडिडेट्स के लिए रविवार को वोट डाले गए। इस दौरान4% वोटिंग हुई। - 18 ईवीएम में बैटरी और बटन को लेकर शिकायत मिली थी, जिन्हें बदल कर नयी मशीनें लगायी गयीं। -तीनों नगरनिगमों- ईस्ट, नॉर्थ और साउथ में कुल 272 वार्ड है। मौजपुर और सराय पीपलथला में कैंडिडेट्स के निधन के बाद इलेक्शन टाल दिए गए। एग्जिट पोल में किसे कितनी सीटें मिलीं: पार्टी 2012में सीटें एबीपी न्यूज- सी वोटर इंडिया टुडे- एक्सिस BJP 138 218 200-220 Cong 77 22 19-31 AAP 00 24 23-35 Others 57 08 2-8 1) NORTHMCD- 104सीटें, बहुमत के लिए 53 सीट पार्टी 2012में सीटें एबीपी न्यूज- सी वोटर इंडिया टुडे- एक्सिस BJP 59 88 78-84 Cong 29 07 8-12 AAP 00 06 8-12 Others 11 03 1-3 2) SOUTHMCD- 104सीटें, बहुमत के लिए 53 सीट पार्टी 2012में सीटें एबीपी न्यूज- सी वोटर इंडिया टुडे- एक्सिस BJP 44 83 79-85 Cong 29 09 7-11 AAP 00 09 9-13 Others 19 03 1-3 3) EASTMCD- 64सीटें, बहुमत के लिए 33 सीट पार्टी 2012में सीटें एबीपी न्यूज इंडिया टुडे BJP 35 47 45-51 Cong 77 6 4-8 AAP 00 9 6-10 Others 9 2 0-2 * अदर्स में बीएसपी समेत दूसरी पार्टियां शामिल हैं। 2012 में बहुजन समाजवादी पार्टी को 15 सीट मिली थीं। 2012एमसीडी इलेक्शन के नतीजे 1) नार्थ दिल्ली कुल वार्ड-104 बीजेपी-59,कांग्रेस-29,बीएसपी-7,अन्य-9 2) साउथ दिल्ली कुल वार्ड-104 बीजेपी-44,कांग्रेस-29,बीएसपी-5,अन्य-26 3) ईस्ट दिल्ली कुल वार्ड-64 बीजेपी-35,कांग्रेस-19,बीएसपी-3,अन्य-7
    Last Updated: April 23, 22:21 PM
  • नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी नेरविवार को नीति आयोग की मीटिंग में सभी राज्य सरकारों से अपील की कि अपने-अपने राज्यों में जम्मू-कश्मीर के स्टूडेंट्स से बातचीत करते रहें। इस मीटिंग में महबूबा मुफ्ती नेकश्मीरी स्टूडेंट्स के साथ देश के दूसरे राज्यों में हो रहे बुरे बर्ताव का मुद्दा उठाया। कुछ दिन पहले मेरठ में कश्मीरी स्टूडेंट्स के साथ मारपीट का मामला सामने आया था। इसके बाद मेरठ में कश्मीरियों को उत्त प्रदेश छोड़ कर जाने को कहा गया था। सभी मुख्यमंत्रियों ने महबूबा की बात पर सहमति जताई... -नीति आयोगकी मीटिंग में मोदी ने कहा कि सभी राज्यों को कश्मीरी स्टूडेंट्स के हितों का ख्याल रखना चाहिए। इससे पहले पीएमओ की तरफ से जारी बयान में कहा गया था है कि राज्य समय-समय पर कश्मीरी स्टूडेंट्स से बातचीत करते रहें और उनकी प्रॉब्लम्स का हल निकालें। - मोदी ने महबूबा की उस बात का भी जिक्र किया जिसमें उन्होंने सभी राज्यों से जम्मू-कश्मीर में अपने प्रोग्राम करने की अपील की थी। मेरठ में कश्मीरियों के खिलाफ पोस्टर - मेरठ-देहारादून हाईवे पर पिछले दिनोंकश्मीरियों के खिलाफ पोस्टर्स लगाए। उनसे राज्य छोड़कर जाने को कहा गया। - होर्डिंग में उत्तर प्रदेश नव निर्माण सेना नाम लिखा है। इनमें 30 अप्रैल के बाद यूपी में कश्मीरियों के खिलाफ हल्ला बोलने का एलान किया गया। - उत्तर प्रदेश पुलिस ने शनिवार को नव निर्माण सेना के चीफ अजीत जानी को अरेस्ट कर लिया है। - बता दें कि 4 मार्च, 2014 को भारत-पाक क्रिकेट मैच के दौरान कश्मीरी स्टूडेंटस पर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने के आरोप लगे थे। मेवाड़ यूनिवर्सिटी में भी हुई मारपीट - राजस्थान के चित्तौड़गढ़ की मेवाड़ यूनिवर्सिटी में कश्मीरी स्टूडेंट्स के मारपीट की गई थी। इसमें 6 कश्मीरी जख्मी हुए थे। - पुलिस के मुताबिक, 19 अप्रैल की शाम यूनिवर्सिटी के कश्मीरी स्टूडेंट्स सामान खरीदने मार्केट गए थे। इसी दौरान कुछ अज्ञात लोगों ने उनसे मारपीट की। - स्टूडेंट्स की शिकायत पर अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी- 323 और 341 के तहत केस दर्ज कर लिया गया है। राजनाथ ने राज्य सरकारों से कहा था-कश्मीरी भी भारतीय हैं, उन्हें सिक्युरिटी दें - राजस्थान और यूपी के कुछ शहरों में कश्मीरियों के साथ बुरे बर्ताब की घटनाओं पर होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह ने चिंता जताई। शुक्रवार को उन्होंने कहा कि सभी राज्य कश्मीर के लोगों की सिक्युरिटी मुहैया कराएं, क्योंकि वो भी दूसरों की तरह भारतीय नागरिक हैं। - राजनाथ ने कहा था- कई जगहों पर कश्मीरी स्टूडेंट्स के साथ बुरा बर्ताब हो रहा है। मैं साथी मंत्रियों से इस मामले में दखल देने की अपील करता हूं। हमने होम सेक्रेटरी से एडवाइजरी जारी करने को कहा है। - सभी भारतीयों से अपील करता हूं कि कश्मीर के लोगों को अपना भाई समझें, वो भी देश नागरिक हैं। - देश के विकास में कश्मीरियों की भी उतना ही अहम रोल है। जितना कि किसी और राज्य के लोगों का। उनका ख्याल रखें, वो हमारी फैमिला का हिस्सा हैं।
    Last Updated: April 23, 22:17 PM
  • लंदन. ब्रिटेन के लीसेस्टरशायर में दो फैक्ट्रियों में छापे के दौरान 38 इंडियन वर्कर्स को हिरासत में लिया गया। इनमें 9 महिलाएं भी शामिल हैं। इमीग्रेशन ऑफिशियल्स का कहना है कि ये लोग वीजा अवधि खत्म होने के बाद या फिर अवैध तरीके से काम कर रहे थे। 7 लोग अवैध तरीके से ब्रिटेन आए थे... - इमीग्रेशन इनफोर्समेंट टीम ने एमके क्लॉदिंग लिमिटेड और फैशन टाइम्स यूके लिमिटेड में पिछले हफ्ते छापा मारा। यहां 38 भारतीयों और एक अफगान नागरिक को हिरासत में लिया गया। - न्यूजपेपर लीसेस्टर मर्क्युरी की रिपोर्ट के मुताबिक, 31 लोगों की वीजा अवधि खत्म हो गई थी। 7 लोग ब्रिटेन में अवैध तरीके से आए थे और एक शख्स वीजा नियमों के खिलाफ काम कर रहा था। 19 लोगों को ब्रिटेन से बाहर किया जाएगा और 20 लोगों को तब तक होम डिपार्टमेंट में लगातार रिपोर्ट करनी होगी, जब तक उनका केस चल रहा है। देना पड़ सकता है 19 लाख से ज्यादा जुर्माना - जिन फर्म्स पर छापा मारा गया है, उन्हें हिरासत में लिए गए हर शख्स के लिए 20 हजार पाउंड यानी 19.68 लाख रुपए जुर्माना भरना पड़ सकता है। - इसके हिसाब से एमके क्लोदिंग को 2.40 लाख पाउंड यानी 2.36 करोड़ रुपए से ज्यादा और फैशन टाइम्स को 1.80 लाख पाउंड यानी 1.77 करोड़ रुपए से ज्यादा जुर्माना भरना पड़ सकता है। हालांकि, अभी तक दोनों कंपनियों की ओर से इस छापे के बारे में कुछ नहीं कहा गया है। हकदार लोगों को नहीं मिल पाती जॉब- ऑफिशियल - ईस्ट मिडलैंड इमीग्रेशन इनफोर्समेंट डिपार्टमेंट की असिस्टेंट डायरेक्टर एलिसन स्पोवेज ने कहा, नियमों के खिलाफ बिजनेस करने वालों के लिए भारी जुर्माने का नियम है। मेरी टीम ने ये अब तक का सबसे बड़ा ऑपरेशन किया है, जो इंटेलिजेंस के बेस पर अंजाम दिया गया। इस ऑफरेशन से साफ जाहिर होता है कि हम अवैध अप्रवासियों से निपटने की काबलियत रखते हैं। - गलत तरीके से वर्कर्स लाए जाने पर हमारे टैक्स का नुकसान होता है। इसके अलावा उन लोगों को जॉब भी नहीं मिल पाती है, जो वाकई इसके हकदार है। - बता दें कि ब्रिटेन में कंपनियों को अपने वर्कर्स की जानकारी देनी होती है। अगर कोई ऐसा शख्स पाया जाता है, जिसे ब्रिटेन में काम करने का हक नहीं है, तो भारी जुर्माना भरना पड़ता है।
    Last Updated: April 23, 21:41 PM
  • नई दिल्ली. तमिलनाडु के किसानों ने अपना प्रोटेस्ट 25 मई तक रोक दिया है। जंतर-मंतर पर धरना दे रहे किसानों ने ये फैसला तमिलनाडु के सीएम ई पलानीस्वामी से भरोसा मिलने के बाद लिया है। इससे पहले पलानीसामी ने इस मसले पर रविवार को पीएम से बात की। प्रोटेस्टर अय्याकानु ने कहा कि अगर हमारी डिमांड नहीं मानी गई, तो 25 मई के बाद हम फिर धरना देंगे। बता दें कि 100 किसान यहां 14 मार्च से प्रदर्शन कर रहे हैं। शनिवार को इन लोगों ने यूरिन पीकर प्रोटेस्ट किया था। कर्ज माफी और मुआवजे की डिमांड को लेकर ये लोग प्रोटेस्ट कर रहे थे।पीएम को बताई किसानों की समस्याएं- पलानीस्वामी... - नीति आयोग की मीटिंग में हिस्सा लेने दिल्ली पहुंचे पलानीस्वामी ने कहा, मैंने पीएम से मुलाकात के दौरान किसानों की समस्याएं सामने रखीं। इस मसले पर उनके साथ चर्चा भी हुई। इसके अलावा मैंने पीएम से कहा कि श्रीलंका दौरे पर वो मछुआरों की समस्या पर वहां की सरकार से बात करें। प्रोटेस्ट के दौरान कभी घास खाई, कभी साड़ियां पहनीं - इससे पहले किसानों ने प्रोटेस्ट के दौरान घास खाई और साड़ियां पहनकर भी विरोध जताया। इसके अलावा आत्महत्या करने वाले किसानों के स्कल लेकर भी प्रोटेस्ट किया। - किसानों का कहना था कि वो पीएम का ध्यान अपनी ओर खींचने के लिए तरह-तरह से प्रोटेस्ट कर रहे थे। बता दें कि तमिलनाडु सरकार ने भी केंद्र से 40 हजार करोड़ रुपए किसानों के लिए मांगे हैं। उधर, केंद्र ने मदद के लिए 1700 करोड़ रुपए का फंड जारी किया है। राहुल गांधी ने की थी किसानों से मुलाकात - पिछले दिनों राहुल गांधी भी किसानों से मिलने जंतर-मंतर पहुंचे थे। उन्होंने कहा था, पीएम इस देश के अमीर लोगों का कर्ज माफ कर देते हैं, तो इस देश को बनाने वाले लोगों का, किसानों का कर्ज क्यों नहीं माफ करते? - यहां ये लोग कितने दिनों से बैठे हैं, इनकी आवाज ना सरकार सुन रही है और ना पीएम। पिछले तीन साल में 1.40 लाख करोड़ रुपए हिंदुस्तान के 50 बड़े कारोबारियों के माफ किए गए हैं। - किसानों की क्या गलती है, क्यों इनकी मदद नहीं की जा रही है। पीएम की जिम्मेदारी है कि इनकी बात सुनें और जो मुश्किलें हैं, उन्हें दूर करें। हम तमिलनाडु और दिल्ली में किसानों की पूरी मदद करेंगे। एक्टर प्रकाश राज ने भी किया सपोर्ट - इससे पहले एक्टर प्रकाश राज और सिंगर विशाल भी किसानों से मिल चुके हैं। प्रकाश राज ने कहा था, किसानों आवाज कोई नहीं सुन रहा, मैं यहां आया हूं ताकि मंत्रालय का ध्यान इस ओर जाए।
    Last Updated: April 23, 20:31 PM
  • नई दिल्ली/वॉशिंगटन. अमेरिका ने टॉप भारतीय आईटी कंपनियों टीसीएस और इन्फोसिस पर H-1B वीजा के नॉर्म्स के वॉयलेशन (उल्लंघन) का आरोप लगाया है। कहा गया है कि ये दोनों कंपनियां गलत तरीकों से जरूरत से बहुत ज्यादा H-1B वीजा हासिल करती हैं। बता दें कि यूएस में लॉटरी सिस्टम से ये वीजा दिया जाता है। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन अब इसकी जगह मेरिट बेस्ड इमिग्रेशन पॉलिसी लाना चाहता है। एक्स्ट्रा टिकटों के जरिए हथिया लेती हैं ज्यादा वीजा... - न्यूज एजेंसी के मुताबिक ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के एक ऑफिशियल ने पिछले हफ्ते व्हाइट हाउस पर प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा, आउटसोर्सिंग करने वाली कुछ कंपनियों के ढेर सारे एप्लिकेशंस आते हैं जिससे स्वाभाविक तौर पर लॉटरी सिस्टम में उनकी सफलता के मौके बढ़ जाते हैं। आप उन कंपनियों के नाम अच्छी तरह जानते हैं। सबसे ज्यादा H-1B वीजा पाने वालों में टाटा, इन्फोसिस, कॉग्नीजेंट जैसी कंपनियां शामिल हैं, ये बड़ी संख्या में वीजा के लिए एप्लिकेशन देती हैं, वे लॉटरी सिस्टम में एक्स्ट्रा टिकटों के जरिए H-1B वीजा का बड़ा हिस्सा हथिया लेती हैं। - इस प्रेस ब्रीफिंग की ट्रांसक्रिप्ट व्हाइट हाउस की वेबसाइट पर पोस्ट की गई है। बता दें कि टीसीएस, टाटा ग्रुप की सब्सिडियरी है।प्रेस ब्रीफिंग के दौरान जब ये पूछा गया कि खासतौर पर क्यों भारतीय कंपनियों का ही नाम लिया गया तो इस पर ऑफिशियल ने कहा, टीसीएस, इन्फोसिस और कॉग्नीजेंट सबसे ज्यादा H-1B वीजा हासिल करने वाली कंपनियां हैं। इस मामले में ये टॉप थ्री कंपनियां हैं। - ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के इस आरोप पर दोनों भारतीय कंपनियों ने कोई बयान जारी करने से इनकार कर दिया है। ये कंपनियां स्किल्स इम्प्लॉयर्स नहीं - ऑफिशियल ने कहा, इन कंपनियों ने H-1B वीजा के लिए सालाना एवरेज सैलरी 60 हजार यूएस डॉलर से लेकर 65 हजार यूएस डॉलर के बीच तय कर रखी है, इसके उलट सिलिकॉन वैली के एक मीडियन (मध्यम) दर्जे के इंजीनियर की सैलरी करीब 150,000 यूएस डॉलर है। कॉन्ट्रैक्ट पर इम्प्लॉइज रखने वाली ये कंपनियां स्किल्स इम्प्लॉयर्स नहीं हैं, ये अक्सर वर्कर्स को एंट्री लेवल पोजीशन पर रखती हैं और ये बातें पब्लिक को मालूम हैं। H-1B वीजा रैंडम लॉटरी के जरिए दिया जाता है, करीब 80% H-1B वर्कर्स को अपनी फील्ड में मध्यम दर्जे से भी कम सैलरी मिलती है। जेटली ने H-1B वीजा मुद्दे पर रखा भारत का पक्ष - फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली एक डेलीगेशन के साथ इन दिनों अमेरिका में हैं। इन्होंने 21 अप्रैल को यूएस के कॉमर्स सेक्रेटरी विल्बुर रॉस से मुलाकात में H-1B वीजा मुद्दा सख्ती से उठाया था और यूएस में भारतीय आईटी कंपनियों और ज्यादा कुशल भारतीय पेशेवरों के अहम रोल को सामने रखा था। - जेटली ने रॉस से कहा था, अमेरिका और भारत के इकोनॉमिक डेवलपमेंट में ज्यादा कुशल भारतीय पेशेवरों का अहम रोल रहा है और हम चाहते हैं कि वे यूएस में ऐसा करना जारी रखें, ये दोनों देशों के हित में होगा। - इस पर रॉस ने कहा था, अमेरिका ने H-1B वीजा मुद्दे को रिव्यू करने की प्रॉसेस शुरू की है और इस पर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है। हालांकि अब ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन का मकसद एक मेरिट बेस्ड इमिग्रेशन पॉलिसी बनाना है जिससे ज्यादा कुशल पेशेवरों को अहमियत मिले। बता दें कि ट्रम्प ने H-1B वीजा मुद्दे को रिव्यू करने के लिए हाल ही में स्टेट, लेबर, होमलैंड सिक्युरिटी एंड जस्टिस डिपार्टमेंट्स के साथ एग्जीक्यूटिव ऑर्डर साइन किया है। - जेटली ने शनिवार को यूएस ट्रेजरी सेक्रेटरी स्टीवन म्नूचिन के साथ भी मीटिंग में H-1B वीजा मुद्दे पर भारत का पक्ष रखा था। H-1B पर मशक्कत क्यों? - दरअसल, अमेरिका में बढ़ती बेरोजगारी को दूर करने के लिए H-1B के रूल्स को सख्त बनाने की बात कही जा रही है। आरोप है कि कई कंपनियां दूसरे देशों से कम सैलरी पर वर्कर अमेरिका लाती हैं। इससे अमेरिकियों को नौकरी मिलने के मौके कम हो जाते हैं और बेरोजगारी बढ़ती है। - ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है, हमारे देश में भी क्वॉलिफाइड प्रोफेशनल्स हैं, जो कंपनियों की जरूरत पूरी कर सकते हैं।
    Last Updated: April 23, 20:06 PM
  • नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि किसी महिला को प्यार करने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता। महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध पर चिंता जताते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह सवाल भी किया है कि आखिर देश में महिलाओं को शांति से रहने क्यों नहीं दिया जाता? शख्स पर लड़की को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का आरोप... - न्यूज एजेंसी के मुताबिक जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुआई वाली बेंच ने एक शख्स की पिटीशन पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की। हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट ने शख्स को 7 साल जेल की सजा सुनाई थी। शख्स पर एक 16 साल की लड़की के साथ छेड़खानी करने और उसे आत्महत्या जैसा कदम उठाने के लिए मजबूर करने का आरोप है। महिला के पास च्वाॅइस है वह प्यार करे, न करे - बेंच ने कहा, महिला को किसी से प्यार करने के लिए कोई मजबूर नहीं कर सकता, महिला के पास ये च्वाॅइस है कि वो किसी शख्स को प्यार करे या ना करे, प्यार का यही कॉन्सेप्ट है और पुरुषों को इसे मानना चाहिए, महिलाओं को देश में शांति से रहने दिया जाए। - सुप्रीम कोर्ट ने शख्स की अपील पर अपना फैसला फिलहाल सुरक्षित रख लिया है। मामले की सुनवाई करने वाली बेंच में जस्टिस एएम खानविलकर और एमएम शांतनागौदर भी शामिल थे। बचाव पक्ष ने मौत से पहले के बयान पर शक जताया - सुनवाई के दौरान सजायाफ्ता शख्स के वकील ने लड़की के dying declaration (मौत से पहले का बयान) पर शक जताते हुए कहा, मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक हॉस्पिटल में भर्ती होने के बाद से लड़की कुछ बोल या लिख नहीं सकती थी। - डॉक्टरों का कहना था कि वह 80% जल चुकी थी और उसके लिए मृत्यु पूर्व बयान दर्ज कराना संभव नहीं था, उसके दोनों हाथ जल चुके थे, वह कुछ बोलने या लिखने की स्थिति में नहीं थी। - इस पर बेंच ने कहा, लड़की के मृत्यु पूर्व बयान के मुताबिक शख्स ने ऐसे हालात बना दिए थे जिनमें वह ऐसा कदम उठाने के लिए मजबूर हो गई। ट्रायल कोर्ट ने आरोपी को बरी कर दिया था - इस मामले में जुलाई 2010 में ट्रायल कोर्ट ने आरोपी शख्स को बरी कर दिया था। जिसके बाद हिमाचल सरकार ने हाई कोर्ट में अपील की थी। पुलिस के मुताबिक लड़की के पिता ने शख्स के खिलाफ अपहरण और रेप का केस भी दर्ज कराया था, लेकिन आरोपी उनमें भी बरी हो गया था - धमकी और छेड़छाड़ से तंग आकर लड़की ने जुलाई 2008 में उस वक्त खुद को आग लगा लिया था, जब उसके मां-बाप घर नहीं थे। बाद में हॉस्पिटल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। हिमाचल हाई कोर्ट ने लड़की के मौत से पहले के बयान को सही मानते हुए आरोपी को दोषी करार दिया और उसे 7 साल जेल की सजा सुनाई।
    Last Updated: April 23, 20:04 PM
  • राजकोट. IPL-10 के 26वें मैच में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने गुजरात लायन्स को 26 रन से हरा दिया। 189 रन के टारगेट का पीछा करते हुए गुजरात लायन्स की टीम 20 ओवरों में 162/7 रन ही बना पाई। गुजरात की ओर से दिनेश कार्तिक ने 58* रन की इनिंग खेली। टूर्नामेंट के 7 मैचों में पंजाब की ये तीसरी जीत रही। अब प्वाइंट्स टेबल में वो चौथी पोजिशन पर आ गई है।ऐसा रहा मैच का रोमांच... - टॉस हारकर पहले बैटिंग करने उतरी पंजाब की टीम ने हाशिम अमला (40 बॉल, 65 रन) की शानदार इनिंग की मदद से 20 ओवरों में 188/7 रन बनाए। - पंजाब की शुरुआत अच्छी नहीं थी और 11 रन पर ही उसका पहला विकेट गिर गया। इसके बाद दूसरे विकेट के लिए हुई 70 रन कीपार्टनरशिप ने टीम को संभाला। - पंजाब की ओर से हाशिम अमला (65) के अलावा अक्षर पटेल (34), कप्तान मैक्सवेल (31) और शॉन मार्श (30) ने तेजी से रन बनाने की कोशिश की। - गुजरात के लिए एंड्रू टाई (2/35) के अलावा नाथू सिंह, शुभम अग्रवाल, ड्वेन स्मिथ और रवींद्र जडेजा ने 1-1 विकेट लिए। - जवाब में टारगेट का पीछा करने उतरी गुजरात की शुरुआत बेहद खराब रही और पहले ओवर में ही एक विकेट गिर गया। - दूसरे विकेट के लिए 40 रन की पार्टनशिप हुई, लेकिन दूसरा विकेट गिरते ही लगातार विकेट गिरने लगे। - गुजरात को मैच जीतने के लिए बड़ी पार्टनरशिप की जरूरत थी, लेकिन दिनेश कार्तिक के अलावा कोई बैट्समैन क्रीज पर नहीं टिका। - कार्तिक के अलावा कप्तान सुरेश रैना (32) और एंड्रू टाई (22) ने थोड़े बहुत रन बनाए। लेकिन वे काफी नहीं थे। पंजाब के लिए अक्षर, करिअप्पा और संदीप ने 2-2 विकेट निकाले। - मैच में शानदार फिफ्टी लगाने वाले हाशिम अमला को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। कैसे गिरे गुजरात के विकेट - गुजरात की टीम को पहला झटका पहले ही ओवर की आखिरी बॉल पर लग गया। जब संदीप शर्मा ने ब्रेंडन मैक्कुलम (6) को lbw आउट कर दिया। - दूसरा विकेट 5.4 ओवर में 46 रन के स्कोर पर गिरा, जब मोहित शर्मा की बॉल पर एरोन फिंच (13) को मार्कस स्टॉनिस ने शानदार कैच लेकर आउट कर दिया। - सुरेश रैना के रूप में गुजरात का तीसरा विकेट 8.6 ओवर में गिरा। वे 24 बॉल पर 32 रन बनाकर आउट हुए। - चौथा विकेट केसी करिअप्पा को मिला। 11.6 ओवर में उन्होंने रवींद्र जडेजा (9) को अपनी ही बॉल पर कैच कर लिया। - एक ओवर बाद ही गुजरात का अगला विकेट भी गिर गया। जब 12.6 ओवर में ड्वेन स्मिथ (4), अक्षर पटेल की बॉल पर स्टॉनिस के हाथों कैच हो गए। - अगले ओवर की पहली ही बॉल पर करिअप्पा ने नए बैट्समैन के तौर पर आए अक्षदीप नाथ (0) को lbw कर दिया। इस वक्त टीम का स्कोर 102/6 रन था। - सातवां विकेट संदीप शर्मा को मिला। 16.4 ओवर में उन्होंने एंड्रू टाई (12 बॉल, 22 रन) को बोल्ड कर दिया। दिनेश कार्तिक ने लगाई फिफ्टी - गुजरात के लगातार गिरते विकेटों के बीच दिनेश कार्तिक ने मैच में शानदार फिफ्टी लगाई। उन्होंने 44 बॉल पर 58* रन बनाए। कैसे आउट हुए थे पंजाब के बैट्समैन - पंजाब की शुरुआत अच्छी नहीं रही और टीम को पहला झटका दूसरे ही ओवर में लग गया। जब 1.2 ओवर में नाथू सिंह की बॉल पर मनन वोहरा (2) को दिनेश कार्तिक ने कैच कर लिया। - एंड्रू टाई ने 9.2 ओवर में पंजाब की टीम को दूसरा झटका दिया। जब शॉन मार्श (30) उनकी बॉल पर सुरेश रैना को आसान कैच दे बैठे। इस वक्त टीम का स्कोर 81 रन था। - तीसरा विकेट शुभम अग्रवाल को मिला। उन्होंने 13.6 ओवर में अपनी ही बॉल पर हाशिम अमला (65) को कैच कर पंजाब को बड़ा झटका दिया। - अगले ओवर में रवींद्र जडेजा ने ग्लेन मैक्सवेल (31) को lbw करते हुए पंजाब का चौथा विकेट गिराया। इस वक्त स्कोर 132 रन था। 18 बॉल की अपनी इनिंग में मैक्सवेल ने 1 चौका और 3 सिक्स लगाए। - पंजाब का पांचवां विकेट 17.5 ओवर में गिरा। जब एंड्रू टाई की बॉल पर स्टॉनिस (7) को ब्रेंडन मैक्कुलम ने कैच कर लिया। इस वक्त स्कोर 157 रन था। - छठा विकेट अक्षर पटेल (34) का रहा जो 18.4 ओवर में ड्वेन स्मिथ की बॉल पर एरोन फिंच के हाथों कैच हो गए। 17 बॉल की इनिंग में उन्होंने 3 चौके और 2 सिक्स भी लगाए। - 20वें ओवर की आखिरी बॉल पर रिद्धिमान साहा (10) रनआउट हो गए। मोहित शर्मा (4) नॉट आउट रहे। हाशिम अमला ने लगाई फिफ्टी - पंजाब की ओर से हाशिम अमला ने शानदार फिफ्टी लगाई। वे 40 बॉल पर 65 रन बनाकर आउट हो गए। -अपनी इनिंग के दौरान अमला ने 9 चौके और 2 सिक्स भी लगाए। उन्होंने अपनी फिफ्टी 30 बॉल पर पूरी की थी। - दूसरे विकेट के लिए अमला और मार्श ने मिलकर 48 बॉल पर 70 रन की पार्टनरशिप की। किंग्स इलेवन पंजाब का स्कोर बोर्डः बैट्समैन रन बॉल 4 6 मनन वोहरा कै. कार्तिक बो. नाथू सिंह 2 4 0 0 हाशिम अमला कै. बो. शुभम अग्रवाल 65 40 9 2 शॉन मार्श कै. रैना बो. टाई 30 24 4 1 ग्लेन मैक्सवेल lbw बो. जडेजा 31 18 1 3 मार्कस स्टॉनिस कै. मैक्कुलम बो. टाई 7 9 0 0 अक्षर पटेल कै. फिंच बो. स्मिथ 34 17 3 2 रिद्धिमान साहा रन आउट (बासिल थम्पी) 10 5 0 1 मोहित शर्मा नॉट आउट 4 3 0 0 गुजरात लायन्स का स्कोर बोर्डः बैट्समैन रन बॉल 4 6 ब्रेंडन मैक्कुलम lbw बो. संदीप शर्मा 6 6 1 0 एरोन फिंच कै. स्टॉनिस बो. मोहित शर्मा 13 12 0 1 सुरेश रैना कै. मैक्सवेल बो. अक्षर पटेल 32 24 4 0 दिनेश कार्तिक नॉट आउट 58 44 6 0 रवींद्र जडेजा कै. बो. करिअप्पा 9 7 1 0 ड्वेन स्मिथ कै. स्टॉनिस बो. अक्षर पटेल 4 4 1 0 अक्षदीप नाथ lbw बो. करिअप्पा 0 1 0 0 एंड्रू टाई बो. संदीप शर्मा 22 12 2 1 बासिल थम्पी नॉट आउट 11 10 1 0 आगे की स्लाइड्स में देखें मैच के फोटोज...
    Last Updated: April 23, 19:52 PM
  • हैदराबाद. इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (ISRO) के चेयरमैन एएस किरण कुमार ने कहा कि चंद्रयान-2 मिशन को पूरी तरह भारत ही अंजाम देगा। उन्होंने कहा, इसमें रूस की मदद नहीं ली जाएगी। इस मिशन के अगले साल की शुरूआत में लॉन्चिंग की उम्मीद है। कुमार ने बताया, हमारी स्पेस मिशन कैपेसिटी बढ़कर 12 हो गई है। कुछ साल पहले यह 4-5 से बढ़कर 7 तक पहुंची थी। हम PSLV (सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल) को असेंबल करने के लिए नई बिल्डिंग तैयार कर रहे हैं, ताकि लॉन्चिंग के दौरान तैयारी करने में टाइम कम लगे।लॉन्चिंग फ्रीक्वेंसी बढ़ाने पर फोकस... - कुमार ने कहा, हमने 8 से 9 पीएसएलवी और 2 GSLV-Mk II के साथ कुल 12 लॉन्चिंग कीं। आगे फ्रीक्वेंसी बढ़ाने पर काम चल रहा है ताकि कम लागत में ज्यादा वजनी सैटेलाइट स्पेस में भेजे जा सकें। ISRO स्पेस एजेंसी व्हीकल असेंबल करने के लिए एक नई बिल्डिंग तैयार कर रही है। इससे टाइम की बचत होगी और एक ही लॉन्च पैड से ज्यादा लॉन्चिंग की जा सकेगी। आगे एक स्पेस स्टेशन बनाने का प्रपोजल भी आने वाला है। मिशन मार्स और वीनस पर शुरू होगा काम - कुमार ने बताया, इसरो अगले साल की शुरुआत में चंद्रयान-2 मिशन लॉन्च करेगा। इसके लिए सभी जरूरी इंजन और इक्विपमेंट्स तैयार करने का काम जारी है। - मार्स और वीनस मिशन के नए मिशन पर भी काम शुरू होगा। हमारी स्टडी टीम इस पर काम कर रही है। बाद में इसे अप्रूव किया जाएगा। ऑक्सीजन और हाइड्रोजन फ्यूल टेक्नोलॉजी पर भी काम हो रहा है। इसके पूरा होते ही हमारे ताकत बढ़ेगी। 30 मिनट में एक साथ लॉन्च किए थे 104 सैटेलाइट्स, रिकॉर्ड बनाया - इसी साल फरवरी में इसरो ने एक साथ सबसे ज्यादा सैटेलाइट्स लॉन्च करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया। - इसरो ने 30 मिनट में एक रॉकेट के जरिए 7 देशों के 104 सैटेलाइट्स एक साथ लॉन्च किए। अभी तक किसी भी देश ने एक साथ इतने सैटेलाइट लॉन्च नहीं किए हैं। सबसे ज्यादा सैटेलाइट लॉन्च करने का रिकॉर्ड फिलहाल रूस के नाम था। उसने 2014 में एक बार में 37 सैटेलाइट्स लॉन्च किए थे।
    Last Updated: April 23, 18:40 PM
  • नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी की अगुवाई में रविवार को नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की तीसरी मीटिंग हुई। इसमें पहले दो मीटिंग में लिए गए फैसलों पर चर्चा हुई। मीटिंग में आयोग के वाइस प्रेसिडेंट अरविंद पनगढ़िया देश में तेजी से विकास के लिए एक रोडमैप भी पेश किया। मोदी ने कहा, जीएसटी से एक देश, एक संकल्प और एक चाहत की भावना का पता चलता है। 2022 तक सपनों को पूरा करें... - मोदी ने कहा, नीति आयोग विकास के लिए 15 साल के विजन प्रोग्राम, 7 साल की मीडियम टर्न स्ट्रैटजी और 3 साल के एक्शन प्लान पर काम कर रहा है। - यहां टीम इंडिया इसलिए जुटी है ताकि दुनिया में बदलते ग्लोबल ट्रेंड्स और उनके प्रभावों पर चर्चा की जा सके। - ये हम सबकी जिम्मेदारी है कि देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ यानी 2022 तक सपनों को पूरा करें। - राज्यों को भी पॉलिसी बनाने में मदद करनी चाहिए। 2014-15 और 2016-17 के बीच राज्यों को दिए जाने वाले फंड में 40% का इजाफा हुआ है। - मोदी ने विकास के लिए सरकार, प्राइवेट सेक्टर और सिविल सोसाइटी को साथ में मिलकर काम करने के लिए कहा है। - मोदी के मुताबिक, न्यू इंडिया का विजन सभी राज्यों और मुख्यमंत्रियों के सहयोग से ही हासिल किया जा सकता है। - जीएसटी पर एकराय बनना इतिहास बनाएगा। यह कोऑपरेटिव फेडरलिज्म का एग्जाम्पल बनेगा।GST से एक देश, एक संकल्प और एक चाहत की भावना का पता चलता है। - मोदी ने राज्यों से कहा कि पूंजीगत खर्च और इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाएं। साथ ही उन्होंने चुनाव की बहसों और चर्चाओं को आगे ले जाएं। राज्यों के सीएम भी हुए शामिल - नीति आयोग की मीटिंग में राज्यों के सीएम भी शामिल हुए। इनमें नीतीश कुमार, कैप्टन अमरिंदर सिंह, त्रिपुरा के माणिक सरकार, तमिलनाडु के सीएम ई पलानीस्वामी शामिल रहे। - दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और वेस्ट बंगाल की सीएम ममता बनर्जी मीटिंग में नहीं पहुंचीं। - मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान किसानों का आय दोगुनी करने का रोडमैप का प्रेजेंटेशन दिया। मोदी ने किए ट्वीट - मोदी ने ट्वीट किया, राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ नीति आयोग की मीटिंग में भारत में बदलाव को लेकर विकास का मुद्दा अहम रहेगा। राज्यों ने कई क्षेत्रों में रिफॉर्म्स किए हैं। ये मीटिंग एक-दूसरे को सीखने का मौका है। - नीति आयोग के चेयरमैन बताएंगे कि कितनी तेजी से देश को विकास की राह पर ले जाया जा सकता है। मीटिंग में जीएसटी पर भी प्रेजेंटेशन होगा। - मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज एग्रीकल्चर के क्षेत्र में एक रेवोल्यूशन लेकर आए हैं। वे भी किसानों की आय दोगुनी करने को लेकर प्रेजेंटेशन देंगे। नीति आयोग की हो चुकी हैं दो मीटिंग - नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की पहली मीटिंग में केंद्र और राज्यों के बीच राष्ट्रीय मुद्दों और योजनाओं पर सहयोग करने को लेकर चर्चा हुई थी। - दूसरी मीटिंग में सतत विकास के लिए मुख्यमंत्रियों के तीन सबग्रुप और गरीबी हटाने-एग्रीकल्चर डेवलपमेंट के लिए 2 टास्क फोर्स बनाई गई थीं।
    Last Updated: April 23, 16:03 PM

Flicker