भास्कर ज्ञान

Home >> International News >> Bhaskar Gyan
  • कार्बनडाइ ऑक्साइड को फ्यूल में बदल देगी एक कृत्रिम पत्ती
    वॉशिंगटन। वैज्ञानिकों ने अब ऐसी पत्ती बनाने का दावा किया है, जो कार्बन डाइ ऑक्साइड और सौर ऊर्जा का इस्तेमाल कर ईंधन बना देगी। शिकागो यूनिवर्सिटी में प्रोफसर अमीन सलेही का कहना है कि ये पत्ती सिनगेस और सिंथेसिस गैस का उत्पादन करेगी। ये कार्बन मोनो ऑक्साइड और हाइड्रोजन का मिश्रण होगी। सिनगैस सीधे जलाई जा सकेगी। इसे डीजल और हाइड्रोकार्बन ईंधन में तब्दील किया जा सकेगा। कार्बन डाइ ऑक्साइड को ईंधन में बदलने की प्रक्रिया ऑक्सीकरण के विपरीत होती है। ये कृत्रिम पत्ती दो सिलिकॉन फोटोवोलिटिक...
    July 30, 10:17 AM
  • दुनिया में रोबोट की आबादी हो जाएगी इंसानों से भी ज्यादा
    टेक्सास। आने वाले दिनों में ह्यूमनोइड रोबोट की संख्या दुनिया में मनुष्यों से ज्यादा हो जाए तो आश्चर्य नहीं होगा। यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास की स्टडी में कहा गया है दुनिया के कई देशों में रोबोट बनाने की दिशा में तेजी से काम हो रहा है। स्टडी करने वाले डॉ. लुईस सेंटिस ने चेताया कि इंडस्ट्रियल रोबोट फ्यूचर में खतरनाक हो सकते हैं। लेकिन ह्यूमनोइड रोबोट सुरक्षित होंगे। वैज्ञानिक लगातार काम कर रहे हैं कि इंसान स्मार्ट फोन से उन्हें संचालित कर सकेगा।
    July 25, 09:52 AM
  • ‌इम्यून सिस्टम बताता है कि हमें क्या पसंद है
    वर्जीनिया (अमेरिका). यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जीनिया हेल्थ सिस्टम ने अपने शोध में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। इस खोज में पता चला है कि हमारा प्रतिरोधी तंत्र (इम्यून सिस्टम) सिर्फ बीमारियों से लड़कर शरीर की हिफाजत ही नहीं करता है, बल्कि वो हमारे सामाजिक व्यवहार को भी तय करता है। हमारी पसंद और नापसंद का चयन करता है। यूनिवर्सिटी के न्यूरोसाइंस विभाग के प्रमुथ जोनाथन किपनिस कहते हैं अब तक माना जाता था कि मस्तिष्क और प्रतिरोधी तंत्र अलग-अलग हैं, दिमाग में होने वाली इम्यून एक्टिविटी को पैथोलॉजी...
    July 18, 09:39 AM
  • इम्यून सिस्टम बताता है कि हमें क्या पसंद है, रिसर्च में सामने आई ये बात
    वर्जीनिया. यूनिवर्सिटी ऑफ वर्जीनिया ने अपने शोध में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। इस खोज में पता चला है कि हमारा प्रतिरोधी तंत्र (इम्यून सिस्टम) सिर्फ बीमारियों से लड़कर शरीर की हिफाजत ही नहीं करता है, बल्कि वो हमारे सामाजिक व्यवहार को भी तय करता है। हमारी पसंद और नापसंद का चयन करता है। हैरान करने वाला शोध यूनिवर्सिटी के न्यूरोसाइंस विभाग के प्रमुथ जोनाथन किपनिस कहते हैं अब तक माना जाता था कि मस्तिष्क और प्रतिरोधी तंत्र अलग-अलग हैं, दिमाग में होने वाली इम्यून एक्टिविटी को पैथोलॉजी माना...
    July 17, 11:48 AM
  • वैज्ञानिकों ने बनाया दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला का चेहरा
    लंदन। दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला का चेहरा कैसा दिखता होगा..? सबसे अधिक खूबसूरत होने के मानक क्या हैं..? इस तरह के सवाल जब जेहन में आते हैं तो हम अक्सर जवाब सिर्फ कल्पनाओं में ढूंढ़ते हैं। लेकिन अब ऐसा नहीं है। लंदन के वैज्ञानिकों का दावा है कि उन्होंने दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला का चेहरा बना लिया है। वैज्ञानिकों ने साईंटिफिक फेसियल मैपिंग टेस्ट से कंप्यूटराइज चेहरा बनाया है। ये चेहरा काफी हद तक हॉलीवुड हीरोइन एंबर हर्ड से मिलता जुलता लग रहा है। वैज्ञानिकों ने इसके लिए कई तरह के मानक भी...
    July 16, 10:20 AM
  • अब नहीं पड़ेगी कॉर्निया ट्रांसप्लांट की जरूरत, ईजाद किया गया नया तरीका
    शिकागो (अमेरिका)। कॉर्निया की समस्या से जूझ रहे पीड़ितों के लिए अच्छी खबर है। अब उन्हें कॉर्निया के प्रत्यारोपण से मुक्ति मिल सकती है। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने आंखों की बीमारी से निपटने का नया और आसान तरीका ईजाद करने का दावा किया है। इसे डेसीमेट स्ट्रिपिंग का नाम दिया गया है। शिकागो यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक डॉ. कैथरीन कॉल्बी के नेतृत्व में शोधकर्ताओं के एक दल ने यह उल्लेखनीय सफलता हासिल की है। उन्होंने बताया कि कॉर्निया के अंदर से कोशिका के कुछ वर्ग मिलीमीटर हिस्से को हटाने से...
    July 15, 10:49 AM
  • 'पोकेमॉन गो' के बारे में पांच बड़े सवाल
    क्रिस फॉक्स टेक्नॉलॉजी रिपोर्टर मैंने पोकेमॉन के बारे में सुना है. क्या कुछ नया हुआ है? हां. पोकेमॉन गो, नाम का एक रिएलिटी गेम आया है जो स्मार्टफ़ोन पर खेला जा सकता है. ये गेम आपके फ़ोन के जीपीएस का इस्तेमाल करता है. आप असल दुनिया में चलते-फिरते इसे खेल सकते हैं और छोटे-छोटे वर्चुअल मॉन्सटर्स पकड़ सकते हैं. पिकाचू और जिग्लीपफ़ जैसे इन मॉनस्टर्स को आप एक दूसरे के साथ लड़ने की ट्रेनिंग दे सकते हैं. 1- कैसे शुरू हुआ पोकेमॉन? मॉनस्टर्स पर आधारित ये गेम पहली बार 1990 के दशक में लोकप्रिय हुआ जब इन्हें...
    July 14, 11:07 AM
  • डिवाइस पहनने से कंट्रोल होगा शुगर लेवल, पेंक्रियाज ट्रांसप्लान्ट की नहीं पड़ेगी जरूरत
    लंदन. कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के साइंटिस्ट ने एक अनोखी डिवाइस बनाई है। जिसका नाम आर्टिफिशियल पैंक्रियाज है। यह ऑटोमैटिक डिवाइस है। इसे पहनने से ब्लड में शुगर का लेवल अपने आप कंट्रोल में रहेगा। टाइप-2 स्टेज के डायबिटीज मरीजों को इंसुलिन का इंजेक्शन भी नहीं लगवाना पड़ेगा। डिवाइस अगले साल तक बाजार में होगी। जानिए कैसे काम करती है ये डिवाइस... - दरअसल, डिवाइस को ऑन करते ही ये शरीर में ग्लूकोज लेवल को मॉनिटर करना शुरू कर देती है। - फिर जरूरत पड़ने पर रेग्युलर इंटरवल पर डायबिटीज मरीज की स्किन में...
    July 5, 04:58 PM
  • पुरुष 21 सेकंड भी नहीं रह सकते मोबाइल बिना : रिसर्च
    लंदन. पुरुष स्मार्टफोन के बिना 21 सेकंड से ज्यादा नहीं रह सकते। आप इसे सनक या लत भी कह सकते हैं पर ये सच है। ये निष्कर्ष हालिया रिसर्च में सामने आया है। जबकि महिलाओं ने 57 सेकेंड तक सब्र रखी। जर्मनी की वुर्जबर्ग यूनिवर्सिटी और नॉटिंघम ट्रेंट यूनिवर्सिटी ने ग्लोबल सायबर सिक्युरिटी फर्म की पहल पर मिलकर ये रिसर्च की है। इसके लिए पुरुषों और महिलाओं को स्मार्टफोन देकर अलग-अलग 10 मिनट तक कमरों में बैठाया गया था। पुरुष तो 21 सेकंड में ही स्मार्टफोन में ताका-झांकी करने लगे थे। पुरुषों और महिलाओं द्वारा...
    June 23, 10:06 AM
  • गन्स रखने के मामले में नंबर-1 US, यहां लोगों से ज्यादा वीपन्स
    इंटरनेशनल डेस्क. यूएस में फायरिंग और वॉयलेंस के बढ़ते मामलों का कारण यहां का गन कल्चर है। यहां के लोगों के पास दुनिया के दूसरे किसी देश के मुकाबले सबसे ज्यादा गन्स हैं। Gunpolicy वेबसाइट के आंकड़ों के मुताबिक, यहां लोगों से ज्यादा गन्स हो गई हैं। क्या है यूएस गन लॉ और पॉलिसी?... - यूएस कॉन्स्टिट्यूशन में सेकंड अमेंडमेंट के मुताबिक, यूएस सिटिजन को सिक्युरिटी के लिए गन रखने का हक मिला है। - सिर्फ यूएस स्टेट और यूएस टेरिटरी को ही अपना गन लॉ बनाने का हक है। - 18 साल का शख्स किसी भी स्टेट के लाइसेंस डीलर से...
    June 21, 09:28 AM