पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Afghan taliban
  • Pakistan US | Afghanistan Crisis: US CIA Chief William Meeting With Pakistan Army Chief Qamar Javed Bajwa And ISI Faiz Hameed

अफगान मसले पर US एक्टिव:नई दिल्ली से इस्लामाबाद पहुंचे CIA डायरेक्टर बर्न्स, पाक आर्मी चीफ और ISI सुप्रीमो से लंबी मुलाकात

इस्लामाबाद12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अमेरिका की सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (CIA) के डायरेक्टर विलियम बर्न्स गुरुवार को इस्लामाबाद पहुंचे। यहां उन्होंने पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा और खुफिया एजेंसी ISI के डायरेक्टर लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद से लंबी बातचीत की। इस मामले में दो बातें गौर करने लायक हैं। पहली- बर्न्स ने इमरान के करीबी और पाकिस्तान के NSA मोईद यूसुफ से मुलाकात नहीं की। दूसरी- बर्न्स सीक्रेट विजिट पर बुधवार को नई दिल्ली में थे। यहां से वे सीधे इस्लामाबाद पहुंचे।

पाकिस्तानी सेना ने खुद जानकारी दी
भारत यात्रा के दौरान बर्न्स ने हमारे एनएसए अजीत डोभाल के साथ लंबी बातचीत की थी। बुधवार को रूस के एनएसए भी दिल्ली में ही थे। डोभाल और रूसी एनएसए के बीच मुलाकात की तस्वीरें सामने आईं, लेकिन बर्न्स का दौरा गुप्त रखने की कोशिश हुई।

बर्न्स गुरुवार को जब पाकिस्तान पहुंचे तो पाकिस्तान सेना के मीडिया विंग ने खुद बयान के जरिए जानकारी साझा की। इसमें कहा गया- सीआईए डायरेक्टर ने बाजवा और हमीद से अफगानिस्तान में अमन बहाली और नई सरकार को लेकर बातचीत की। इस दौरान पाकिस्तान की भूमिका को सराहा गया।

अमेरिका और ब्रिटेन समेत कई देशों में पाकिस्तान की अफगानिस्तान में भूमिका पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं। लंदन, वॉशिंगटन और काबुल में पाकिस्तान के खिलाफ कई दिन से विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं।

मुल्ला बरादर से भी मिले थे बर्न्स
पाकिस्तान के अखबार ‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ के मुताबिक, सीआईए डायरेक्टर कुछ दिन पहले अचानक काबुल पहुंचे थे और उन्होंने वहां तालिबान के नंबर दो नेता मुल्ला अब्दुल गनी बरादर से सीक्रेट मीटिंग की थी। तालिबान के अफगानिस्तान की हुकूमत पर कब्जे के बाद किसी टॉप अमेरिकी अफसर की काबुल की यह पहली यात्रा थी।

सरकार से दूरी
दो महीने से यह देखा जा रहा है कि अमेरिकी एडमिनिस्ट्रेशन और इंटेलिजेंस अफसर पाकिस्तान की सेना और आईएसआई से ही संपर्क कर रहे हैं। पिछले दिनों डिफेंस सेक्रेटरी लॉयड ऑस्टिन और सेक्रेटरी ऑफ स्टेट एंटनी ब्लिंकन ने भी बाजवा और हमीद से ही फोन पर बातचीत की थी। पाकिस्तान के एनएसए को भी इसमें शामिल नहीं किया गया था। अमेरिका इमरान खान सरकार के किसी मंत्री से भी बातचीत नहीं कर रहा। इसकी बड़ी वजह यह है कि पाकिस्तान में फौज और आईएसआई ही पर्दे के पीछे से सरकार चलाते हैं। जो बाइडेन दुनिया के ज्यादातर बड़े नेताओं से फोन पर बातचीत कर चुके हैं, लेकिन इमरान खान को उन्होंने अब तक फोन नहीं किया।

खबरें और भी हैं...