Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

बिहार / आज लोग रखेंगे रोजा, शब-ए-बरात में रातभर हुई इबादत

कब्रिस्तान में अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए फातिहा पढ़ी गई।

  • गुनाहों की माफी के लिए परवरदिगार से की गुजारिश
  • राज्यपाल लालजी टंडन ने शब-ए-बरात की प्रदेश व देशवासियों को शुभकामना दी

Dainik Bhaskar

Apr 21, 2019, 03:35 AM IST

पटना.एक हजार महीने की इबादत के बराबर वाली रात यानी शब-ए-बरात में लोगों ने रातभर इबादत की। पटना व आसपास के इलाकों में शनिवार की रात काफी चहल-पहल रही। पर्व को लेकर कब्रिस्तानों व मस्जिदों को भव्य रूप से सजाया गया था। लोग रातभर इबादत में मशगूल रहे। घर से लेकर मस्जिदों तक लोगों ने विशेष नमाज अदा की। बच्चों में इस त्योहार को लेकर खासा उत्साह था। रविवार को लोग रोजा रखेंगे।

सब्जीबाग, समनपुरा, दरियापुर, आलमगंज, मुरादपुर, शाहगंज, सुल्तानगंज, बाकरगंज, रमना रोड, लालबाग, करबिगहिया, फुलवारीशरीफ, दानापुर, खगौल, पत्थर की मस्जिद के अलावा पटना सिटी के कई मुस्लिम मोहल्लों में स्थित कब्रिस्तानों में पहुंचकर लोगों ने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए फातिहा पढ़ी। हाईकोर्ट मजार, खानकाह मुजीबिया मजार, फुलवारीशरीफ, एयरपोर्ट के बगल में स्थित कब्रिस्तान, फकीरबाड़ा कब्रिस्तान, पीरमुहानी कब्रिस्तान, शाहगंज कब्रिस्तान के अलावा पटना सिटी के मेहंदी शाह की मजार, चोवालाल लेन, गुलजारबाग, झाउगंज, चमडोरिया स्थित चमरू शाह की कब्रिस्तानों पर पहुंचकर लोगों ने अपने पूर्वजों की मजार पर फातिहा पढ़ी और उनकी मगफिरत के लिए दुआएं मांगीं।

शाम से फातिहा पढ़ने के लिए जुटने लगे लोग
फातिहा पढ़ने का यह सिलसिला मगरिब की नमाज के बाद से ही शाम से शुरू होकर रातभर चला। रातभर सड़कों पर लोगों का आना जाना लगा रहा। कब्रिस्तानों व मस्जिदों को छोटे -छोटे बल्बों से सजाया गया था। शाम होते ही घरों व मस्जिदों से कुरआन के तिलावत की आवाज सुनाई देने लगी। महिलाएं जहां घरों में ही इबादत व तिलावत में लीन रहीं वहीं पुरुषों ने मस्जिदों में जाकर नमाजें अदा कीं। लोग अपने गुनाहों को माफ करने के लिए अल्लाह के सामने हाथ फैलाकर गिड़गिड़ाये। मुस्लिम बहुल मुहल्लों में अस्थायी रूप से पटाखे की दुकान भी लगी हुई थी। लाख मना करने के बावजूद बच्चे पटाखा छोड़ने से बाज नहीं आए। महिलाएं सुबह से ही इस मौके पर बनने वाले पारंपरिक व्यंजनों को बनाने में जुट गई थीं। शाम में इन व्यंजनों को आस पड़ोस व रिश्तेदारों के यहां बांटा गया। रात के अंतिम समय में लोगों ने सेहरी खाकर रविवार को रखे जाने वाले रोजे की नीयत की।

राज्यपाल ने शब-ए-बरात की शुभकामना दी

राज्यपाल लालजी टंडन ने शब-ए-बरात की प्रदेश व देशवासियों को शुभकामना दी। उन्होंने कहा कि शब-ए-बरात के मौके पर मुसलमान भाई-बहनें पूरी रात जगकर खुदा की इबादत करते हैं। उनकी दुआओं से विश्वशांति, प्रेम और भाईचारा विकसित होता है और राष्ट्रीय एकता मजबूत होती है। राज्यपाल ने शब-ए-बरात के पावन मौके काे शांति, सद्भावना और प्रेमपूर्वक मनाने की गुजारिश की है।

Share
Next Story

हेल्थ कॉउंसिलिंग / तेज धूप, तनाव और उपवास से माइग्रेन के मरीज को बचना चाहिए

Next

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

Recommended News