Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

यहां विषकन्याएं देती हैं मौत का तोहफा, रेड लाइट एरिया की ये है सच्चाई!

dainikbhaskar.com | Oct 03, 2013, 12:00 AM IST

यदि आपके कदम जरा भी फिसले तो आप मौत की आगोश में जा सकते हैं।

-- पूरी ख़बर पढ़ें --
पूर्णिया। पूर्णिया में एक ऐसी सड़क है जो जानलेवा है। इतनी जानलेवा कि यदि आपके कदम जरा भी फिसले तो आप मौत के आगोश में जा सकते हैं। मौत दुर्घटना से नहीं, बल्कि होती है जहर से। यह जहर देती हैं वो औरतें जो किसी विषकन्या से कम नहीं। हम बात कर रहे हैं पूर्णिया से होकर गुजरने वाली एन एच 31 की, जिसके इर्द-गिर्द तीन रेड लाइट एरिया हैं, जहां सौ से भी ज्यादा लड़कियां रोजाना लोगों को एड्स की सौगात दे रही हैं। एड्स एक ऐसी बीमारी जिसकी दवा तो है, लेकिन इलाज नहीं। एक ऐसी बीमारी जिससे तिल-तिल कर हो जाती है मरीज की मौत। आगे की स्लाइड्स में देखें पूर्णिया के रेडलाइट एरिया की Exclusive तस्वीरें और जानें कैसे देती हैं ये विषकन्याएं मौत, साथ में पढ़ें इनसे जुड़ी कुछ और खास बातें... नोट: बिहार से हम आपके लिए लाए हैं एक ऐसी सीरीज, जिसके तहत हम बिहार के इमेज को खराब करने वाले गलत कार्यों के प्रति लोगों को आगाह करेंगे। इसके तहत अंधविश्वास, रेडलाइट एरिया, भूत-प्रेत आदि की खबरें चलाएंगे और बताएंगे कि कैसे विकास की ओर अग्रसर बिहार में गलत अवधारणाएं अब भी पनप रही हैं। लोकल की अन्य ख़बरें पढ़ने के लिए क्लिक करें... EXCLUSIVE: अब आसाराम की नाइट लाइफ का एक और रंगीन खुलासा आलीशान महलनुमा कुटिया में आसाराम करते थे एकांतवास, जानिए इनका सच आसाराम की विकृति ‘पीडोफीलिया’? जानें, कैसे और क्यों होते हैं बच्चे शिकार PHOTOS: 50 साल की उम्र में गांधीजी करने वाले थे दूसरी शादी पत्नी को बदनाम करने के लिए हनीमून की 1140 तस्वीरें कर दी सार्वजनिक! भारत के 'रॉयल' विमान, कभी इन में बैठकर अंग्रेजों ने बचाई थी अपनी जान! सबसे पहले दो भक्त यहां करते हैं देवी की पूजा, आज तक कोई देख नहीं सका इन्हें! यहां विषकन्याएं देती हैं मौत का तोहफा, रेड लाइट एरिया की ये है सच्चाई! पढ़ें, लालू यादव से जुड़ी अन्य खबरें.. चारा घोटाला मामले में लालू यादव को 5 साल की सजा, 25 लाख जुर्माना
इस शख्स ने किया था लालू का फंदा तैयार, पढ़ें चारा घोटाले की रोचक बातें! ये हैं लालू यादव के पांच FUNNY वीडियो, जिन्हें देख मुस्कुरा देंगे आप! लालू की अंग्रेजी ने ढाई ऐसी कयामत कि पूछिए मत,देखिए Funny तस्वीरें! जेल में कैसे गुजर रहे हैं लालू के दिन, बेटे तेजस्वी को दिया 'गुरुमंत्र', पढ़ें! चारा घोटाला:सवा करोड़ में हुआ था ममता कुलकर्णी का डांस, जानें रोचक बातें! चारा घोटाला में जेल गए पूर्व सीएम की पत्नी की आखिरी इच्छा,पढ़ें क्या कहा! महज 29 साल की उम्र में संसद पहुंचे लालू यादव की अनदेखी तस्वीरें! तस्वीरों में देखिए लालू की बड़ी बेटी की शादी,नीतीश-राज बब्बर भी पहुंचे थे! लालू की बर्बादी के पीछे हाथ है 95 साल के इस शख्स का, पढ़ें क्या कहा!

एड्स का जहर बांटने वाली इन लड़कियों का पहला ठिकाना है 'हरदा बाजार'। यहां शाम होते ही सज जाता है इनका बाजार। इस बाजार में अधिकांश मजदूर वर्ग के लोग अपनी तृष्णा शांत करने आते हैं और जाने-अंजाने एड्स की सौगात साथ ले जाते हैं। फिर यही सौगात अपने साथी को भी बांट आते हैं।

देह का ये कारोबार होता है हरदा बाजार से आठ किलोमीटर दूर एनएच 31 के ही किनारे सनोली चौक के पास। यहां की सेक्स वर्कर्स मुजरा वाली के नाम से मशहूर हैं और इनका ठिकाना मुजरा पट्टी के नाम से जाना जाता है।

पूर्णिया के रजवाड़े द्वारा इनके पूर्वजों को सौ साल पहले यहां बसाया गया था। अब न तो राजा रहे और न ही रजवाड़े, लिहाजा धीरे-धीरे मुजरा का बाजार बंद हो गया और शुरू हो गया देह व्यापार। लेकिन, इस बाजार के दरवाजे चुनिंदा हाई-प्रोफ़ाइल लोगों के लिए ही खुलते हैं।

रिहायशी इलाके के बीचों-बीच बसी इस आबादी का विरोध कई बार हो चुका है। ये लोग आर्थिक रूप से इतने मजबूत हो गए हैं कि इनके पक्के मकान हैं और ठाठ-बाट रईसी।

तीसरा और सबसे बड़ा रेड लाइट एरिया गुलाब बाग मंडी के पास है जो एन एच 31 पर सनोली चौक से महज दो किलोमीटर की दूरी पर है। यहां ये धंधा सुबह से लेकर शाम तक चलता रहता है। प्रशासन जब भी रेड लाइट एरिया के उन्मूलन और सेक्सवर्करों के पुनर्वास की शुरुआत करता है तो यही से। लेकिन, इस शुरुआत का कोई अंत नहीं होता।

एड्स के आंकड़े भी डराते हैं। केवल पूर्णिया सदर अस्पताल में इस साल एड्स के आंकड़े सत्तर पार कर चुके हैं। एड्स के खतरनाक वाइरस HIV से पीड़ित अधिकांश मरीज या तो सेक्स वर्कर हैं या फिर इनके आगोश में जाने वाले लोग। कुछ ऐसे भी लोग  HIV से पीड़ित हैं जिनकी गलती बस इतनी होती है कि वे अपने जीवनसाथी पर भरोसा करते हैं।

अपना शरीर बेचकर रोटी खाने वाली इन लड़कियों की जिंदगी की अजीब दास्तां होती है। पहली बार जिस्मफरोशी करने वाली ये लड़कियां या तो यह धंधा विरासत में पाती हैं या अपने ही प्रेमी या रिश्तेदारों से धोखा खाने के बाद यहां पहुंचा दी जाती जाती हैं।

यहां जो भी लड़कियां मौजूद हैं, वो अपने सारे रिश्ते-नाते भुला चुकी हैं। ये लड़कियां भी इस दलदल से निकलना चाहती हैं, लेकिन इनका बाहर निकलना और समाज के साथ तालमेल बिठाना एक बहुत बड़ी समस्या है।

लोगों के विरोध प़र ये सेक्स वर्कर्स कहती हैं कि यहां रात के अंधेरे में उसी समाज के लोग आते हैं जो दिन में उनका विरोध करते हैं।