Advertisement

Dainik Bhaskar Brings you the latest Hindi News

रिसर्च/ वैज्ञानिकों ने खोजा गेम ऑफ थ्रोन्स में जिंदा बचे रहने का फार्मूला

  • गेम ऑफ थ्रोन्स का 8वां सीजन अप्रैल 2019 में टेलीकास्ट होगा, यह सीरीज का आखिरी सीजन होगा।
  • शोधकर्ताओं के अनुसार शो में वफादार कैरेक्टर के मरने की सबसे ज्यादा संभावना होती है।
  • शो में अब तक कुल मिलाकर 1,70,000 के लगभग मौतें हो चुकी हैं। 

Dainik Bhaskar

Dec 12, 2018, 11:22 PM IST

एंटरटेनमेंट डेस्क.  एचबीओ के फेमस शो गेम ऑफ थ्रोन्स के 7 सीजन आ चुके है। सीरीज के अगले सीजन के लिए फैंस बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। आर.आर.मार्टिन के लिखे नॉवेल्स पर आधारित यह शो अपने लीड और फैंस के फेवरिट कैरेक्टर्स को मारने के लिए जाना जाता है। शो में अब तक 1 लाख 70 हजार से ज्यादा किरदार मारे जा चुके हैं। 

 

ऑस्ट्रेलिया की मैक्वरी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने गेम ऑफ थ्रोन्स के सातों सीजन में हुई मौतों पर रिसर्च की है। शोधकर्ताओं की टीम ने 330 किरदारों की मौत और जीवन के डाटा पर शोध करके पता लगाया है कि इस शो में किरदार किस तरह अपनी जान बचाए रख सकता है।


इंजरी एपिडेमिओलॉजी जॉर्नल में छपी इस रिसर्च के मुताबिक शो में बचे रहने के लिए कैरेक्टर को अपना दल बदलते रहना होगा। उदाहरण के लिए टिरियन लैनिस्टर ने लैनिस्टर हॉउस को छोड़ दिया और टारगेरियन्स से जाकर मिल गया, इस तरह टिरियन के किरदार ने अपनी जान बचाई। रिसर्च में ऐसी ही कई सारी और भी बातें बताई गई है, जिसे फॉलो करके कोई कैरेक्टर गेम ऑफ थ्रोन्स के अगले सीजन में अपनी जान बचा सकता है।

हर मिनट होती है एक मौत

 

 रिपोर्ट्स के मुताबिक सातों सीजन में 1 लाख से भी ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। सिर्फ शो के सातवें सीजन में ही 540 खास किरदारों की मौत हुई थी। लगभग 1-1 घंटे के 10 एपिसोड्स के हिसाब से 54 मौते प्रति एपिसोड, जिसका मतलब हुआ करीब हर मिनट एक मौत हुई। आंकड़ो को देखते हुए फैंस चिंता में हैं कि क्या उनके पंसदीदा किरदार अगले सीजन में सर्वाइव कर पाएंगे। 

 

 


शोधकर्ताओं की टीम में शामिल रैडर पी. लिस्टेड ने बताया, 'सातवें सीजन के खत्म होने तक लगभग आधे से ज्यादा किरदार मर चुके हैं। 330 मुख्य किरदारों में से हमनें 186 किरदारों को अपने शोध में शामिल किया है। जिनमें सबसे ज्यादा मौतें हिंसा से हुई हैं।'

 
वेस्टरोस में रहना सबसे ज्यादा खतरनाक

 

इस शोध में जो खास बातें निकलकर आई, वो हम आपको बता रहे हैं। पढ़कर देखिए क्या आपकी पसंद का किरदार इस सीजन अपनी जान बचा पाएगा।

 

शोधकर्ताओं के अनुसार शो में छोटे घरानें में पैदा हुए किरदारों(लो बोर्न) की जान को बड़े घर में पैदा हुए किरदारों(हाई बोर्न) की तुलना में ज्यादा खतरा है। मतलब यह कि अमीर घरानों के लोग थोड़ा ज्यादा समय जीते हैं। शो में महिला किरदार ज्यादा समय तक जीवित रहते हैं। सबसे ज्यादा 80.1% मौतें वेस्टरोस में हुई हैं, वहीं मरने की सबसे आम जगह वो है, जिसें आमतौर पर लोग सबसे ज्यादा सुरक्षित मानते हैं, जी हां घर। करीब 73.7 प्रतिशत के साथ मौत का सबसे बड़ा कारण चोट या जख्म थे, खास तौर पर सर या गर्दन में लगी चोट। इसमें सिर कलम करके की गई 13 हत्याएं भी शामिल हैं। बाकी मौतों में 11.8%  जलने से और 4.8% जहर से हुई। सबसे आम तौर पर 63% मौतें हमले से हुई। 24.4% युद्ध के दौरान और 5.4% कानूनी मामलों में दी गई सजा के कारण लोग मरें।  रिसर्च के मुताबिक शो में पहली बार दिखाई देने के 1 घंटे के अंदर मारे जाने की संभावना करीब 14% थी। वहीं किरदारों का जीवित रहने का समय 11 सेंकड से लेकर 57 घंटे 15 मिनट तक रहा। किरदारों का औसत जीवन 28 घंटे 48 मिनट का रहा। 

 

आश्चर्यजनक रूप से सातों सीजन में सिर्फ दो मौतें ही प्राकृतिक कारणों से हुई है। मैस्टर ऐमन और बूढी नन की। मैस्टर ऐमन कॉसल ब्लैक के मैस्टर थे। इनका पूरा नाम एमोन टारगेरियन था,और वो वेस्टरोस में रहने वाले आखिरी टारगेरियन थे। इनके अलावा बूढ़ी नन विंटरफेल की सबसे बूढ़ी सेविका थी। बूढ़ी नन शो की शुरुआती एपिसोड्स में ब्रैन को डरावनी कहानी सुनाती दिखाई देती हैं। यह दोनों ही उम्र पूरी होने के कारण मरे।

Recommended